ads

दिवाली पर निबंध - diwali essay in hindi

दिवाली पर निबंध दिवाली पर निबंध दिवाली को हर साल भारत सहित कई देशो में मनाया जाता है। मुख्य रूप से दिवाली भाईचाये और उत्साह का त्योहार के रूप में मनाया जाता है। दिवाली को हर साल कार्तिक मास के कृष्ण …

इंटरनेट पर निबंध - internet essay in hindi

internet essay in Hindi इंटरनेट पर निबंध इंटरनेट में हम किसी भी जानकरी को प्राप्त कर सकते है ो भी बहुत आसानी से। आज के समय इंटरनेट लगभग सभी लोग करते है। प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से।   इंटरनेट क्या…

विज्ञान का चमत्कार निबंध - wonder of science essay in hindi

विज्ञान का चमत्कार   प्रकृति में उपास्थित संसाधन और वातुओ का क्रमबद्ध अध्यनन और उसके गुण का निरीक्षण कर निष्कर्ष निकलना विज्ञान कहलाता है। विज्ञान ने मानव जीवन के विकाश में महत्वपूर्ण योगदान…

कंप्यूटर पर निबंध - computer essay in hindi

कंप्यूटर पर निबंध कंप्यूटर हमरे दैनिक जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। पहले कंप्यूटर बहुत बड़े हुआ करते थे आज कंप्यूटर बहुत ही छोटे और तेज हो गए है। कंप्यूटर का अविष्कार 1822 में Cha…

प्रौद्योगिकी पर निबंध - technology essay in hindi

प्रौद्योगिकी पर निबंध प्रौद्योगिकी पर निबंध विशेषज्ञ इस विषय पर वर्षों से बहस कर रहे हैं। प्रौद्योगिकी वरदान या अभिसाप। प्रौद्योगिकी ने मानव जीवन को आसान बनाने के लिए एक लंबा रास्ता तय किया हैं। लेकि…

सर्वनाम के प्रश्न - Sarvanam ke prashna uttar Hindi Grammar

13.1  सर्वनाम के प्रश्न : Pronoun Q&A दोस्तों पिछले पोस्ट में हमने जाना था सर्वनाम के बारे में इस पोस्ट में हम सर्वनाम के प्रश्न उत्तर के बारे में जानेंगे जो की ज्याद…

indian history in hindi - भारत का इतिहास

भारत का इतिहास  (Indian history) सिंधु घाटी सभ्यता के जन्म से शुरू होता है। जिसे हड़प्पा सभ्यता के रूप में जाना जाता है। यह दक्षिण एशिया के पश्चिमी भाग में लगभग 2,500 ईसा पूर्व में पनपा है। …

भारत के राज्य और राजधानी के नाम - Indian states in Hindi

भारत के राज्य और उनके राजधानियों के नाम साथ ही केंद्रशासित प्रदेश के नाम निचे दिए गए है। भारत में 28 राज्य और 8 केंद्रशासित प्रदेश है। अभी जम्मू कश्मीर और लद्दाक को नए केंद्रशासित प्रदेश बनाय…

भ्रमर गीत सार पद क्रमांक 88

ऊधो ! क्यों राखौं ये नैन ?  सुमिरि सुमिरि गुन अधिक तपत हैं सुनत तिहारो बैन।। हैं जो मन हर बदनचंद के सादर कुमुद चकोर। परम-तृषारत सजल स्यामघन के जो चातक मोर। मधुप मराल चरनपंकज के, गति-बिसाल-जल मीन। चक्…

भ्रमर गीत सार पद क्रमांक 89

सँदेसनि मधुबन-कूप भरे। जो कोउ पथिक गए हैं ह्याँ तें फिरि नहिं अवन करे।। कै वै स्याम सिखाय समोधे कै वै बीच मरे ? अपने नहिं पठवत नंदनंदन हमरेउ फेरि धरे।। मसि खूँटी कागद जल भी…
Subscribe Our Newsletter