छत्तीसगढ़ का क्षेत्रफल कितना है - What is the area of Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ का गठन 1 नवंबर 2000 को 26 वें राज्य के रूप में हुआ था। प्राचीन काल में यह क्षेत्र दक्षिण-कौशल के नाम से जाना जाता था। इसका उल्लेख रामायण और महाभारत में भी मिलता है। छठी और बारहवीं शताब्दी के बीच इस क्षेत्र में पांडुवंशी, सोमवंशी, कलचुरी और नागवंशी शासकों का प्रभुत्व था।

1845 में अंग्रेजों के आगमन के साथ राजधानी रतनपुर के स्थान पर रायपुर को प्रमुखता डी गई। 1904 में संबलपुर को ओडिशा में स्थानांतरित कर दिया गया और सरगुजा की सम्पदा को बंगाल से छत्तीसगढ़ में स्थानांतरित कर दिया गया। क्षेत्रफल की दृष्टि से छत्तीसगढ़ नौवां सबसे बड़ा राज्य है।

छत्तीसगढ़ का क्षेत्रफल कितना है

छत्तीसगढ़ का क्षेत्रफल 135194 वर्ग किमी है। इसकी लंबाई उत्तर से दक्षिण की तरफ 700 कि मी है। और चौड़ाई की बात की जाये तो पूर्व से पश्चिम तक 435 किमी है। इसका विस्तार उत्तर दिशा में उत्तरप्रदेश और दक्षिण में तेलांगना तक फैला हुआ है।

छत्तीसगढ़ का क्षेत्रफल कितना है - What is the area of Chhattisgarh


छत्तीसगढ़ का क्षेत्रफल पंजाब, हरियाणा एवं केरल इन तीनों राज्यों के योग से अधिक है। छत्तीसगढ़ का बस्तर संभाग का क्षेत्रफल केरल के क्षेत्रफल से अधिक है। बस्तर सम्भाग का विस्तार 39,114 वर्ग किमी है। इसके भौगोलिक विस्तार में कई असमानताएं हैं। कोरिया, सरगुजा तथा जशपुर जिलों में पर्वतमालाओं एवं पठारों का विस्तार है। मैकाल पर्वत श्रेणी कवर्धा जिले में फैला हुआ है।

छत्तीसगढ़ प्राकृतिक संसाधनों से भरा हुआ हैं। यहाँ हरे भरे जंगल, पहाड़ और नदिया प्रकृति प्रेमियों का मन मोह लेते है। छत्तीसगढ़ के प्रमुख नदी महानदी, शिवनाथ और इंद्रावती नदी हैं। यहाँ की प्रमुख फसल धान है। इस कारण राज्य को धान का कटोरा कहा जाता हैं।

महानदी कई किलोमीटर से मिट्टी बहाकर लती है और उपजाऊ मैदान का निर्माण करती है। इस क्षेत्र में कई प्रकार की फसलों का उत्पादन होता हैं। यहमैदान रायपुर, बिलासपुर और दुर्ग संभाग को कवर करता है। छत्तीसगढ़ के मैदानी भाग में धान की अधिक खेती होती है। इस क्षेत्र को महानदी का बेसिन भी कहा जाता है।

छत्तीसगढ़ की जनसंख्या 2020 के अनुसार 2.94 करोड़ है। जनसंख्या की दृष्टि से इसका देश में 16 वाँ स्थान है। और यहाँ की अधिकतर जनसंख्या खेती पर निर्भर करती है। आधी से अधिक आबादी गांव में निवास करती है। खेती के अलावा लोग पशुपालन और मजदूरी करते है।

छत्तीसगढ़ में कई पहाड़ो की शृंखला है। जिसमे से चांगभखार की पहाड़िया कोरिया और जसपुर में फैला हुआ है इन्ही पहाड़ो से हसदो नदी का उद्गम होता है। इनके लावावा मैकाल पर्वत, बैलाडीला और अबुझमाड की पहाड़िया है।

Related Posts

कितनी भी हो मुश्किल थोड़ा भी न घबराना है, जीवन में अपना मार्ग खुद बनाना है।