Showing posts with label general knowledge. Show all posts
Showing posts with label general knowledge. Show all posts

Wednesday, October 2, 2019

,
HELLO And Wellcome aaj mai is post me charcha krne wala hu Air Pollution ke bare me eis post me mai aapko bataunga ki Air pollution kya hai, aur ise kaise kam kiya ja skta hai, iske kya nukshan hai, Air Pollution se hone wale rog ke bare me bhi maine is post me batane ka pryas kiya hai is post ko pure dhyan se padhe aur bataye ki yah post kaise lga aur agr achchha lge to comment karke mujhe jarur batana aur agr achcha na lage to kya kami rah gayi hai mujhe comment krke bataye..

Air Pollution kya ?

Air pollution aaj kewal hmari samashya nahi hai balki Air Pollution ki ies samashya se pura wishva jujh raha hai.

Aap sabhi jante hai ki hmare aas-pas ke khali jagaho me bahut sare kachare hote hai aur inhi kachro ko pollution kaha jata hai.
 isi prakar air pollution bhi hai jo ki sabse jyada industrial chhetra ke dwara failaya jata hai.aur isse na kewal air pollution hota hai balki iske karn jal pradushan bhi bahut jyada matra me hota hai ise water pollution bhi kaha jata hai.

Toa ise ham is prkar bhi pribhashit kar sakte hai hava ya wayu men paye jane wale ese gais jo ki hame sans lene me badha utpann karte hai dushit wayu ya pollused air kaha jata hai air pollution me hame sirf sans lene me hi taklif nahi hoti hai balki isse bahut jyada matra me aankho me jalan aur durgandh bhi aati hai.

  Air pollution ke karn

wayu ko pradushit karne wale kark bahut sare hai lekin maine yaha par kuchh ko hi bataya hai jo ki is prkar hai


  • Industrial field (audhogik jagat)

Yahi wayu pradushan ka mukhy karn hai kyoki iski jyada matra me nikla gais wayu ko bahut jyada matra me air pollution karta hai aur sath hi jal prdushn bhi iske karn hota hai.
Industrial aria me pradushan is karn jyada badh raha hai kyoki jo uske malik hote hai wah bahut jyada matra me gais ko sidhe hawa me chhod dete hai, agar isi wayu ko filter karke wayu me chhoda jata to isse pollution itna jyada nahi hota. udhyog chahe jis bhi prakar ho isse wayu prdushan hota hi hai aur yaha Co2 ke karan sabse jyada hota hai.
Tatha isi ke karan hame Global Warming jaise samshyayen dekhne ko milti hai.

  • Automobiles(Wahan) 

aaj hmare desh me hi nahi blki pure Wishv me automobiles ki matra itni jyada ho gayi hai ki isse pradushn dar teji se bdhta ja raha hai. isse nikalne vale gaiso me Mathen ki bahut adhik matra hoti hai jo ki Global Warming ko badhawa dene wale karko me se ek hai.
Automobiles ke karn aaj petrol,diesel ke dam me bhi teji wridhdhi hui hai. jiske karn aaj hamare desh ke arthwyawastha par bhi bahut jayada prabhaw pada hai.
automobile me jo sabse jyada purane engine hai waha sabse jyada dhuye dete hai. is prakar automobile bhi mahatwpurn bhumika wayu pradushn me nibhate hai.


  • Farming Chemicals (khet me prayog kiye jane vale rasaynik padarth)

aajkal bahut jayada matra me chemicals ka pryog krishi karya me kiya jata hai jiska badbu itna jyada hota hai ki isse sans bhi lena bahut kathin ho jata hai aur iske karn asthama jaise rogi ki mrityu bhi ho jati hai.
jab bhi kishan kheto me pani me ghulnne vale pdarth jaise rashayanik dwaiyo ka prayog krta hai aur ise jab vah spre ke madhyam se kheto me chhidkaw karta hai to us samay yah Air me mil jata hai.
lekin yah bahut kam matra me pollution ko bdhava deta hai.
isse Water Pollution bhi bahut jayada matra me hota hai.


  • Khet me bache apsista padarth ko jalane se

aaj hariyana aur punjab is prkar ki samsya se nohe wale nukshan se bhali-bhanti wakif hai kyoki yaha ke kisan kheto ki katai karne ke bad waha bache apsist padarth ko jala dete hai jisse wayu me bahut jayada matra me carbon-dioxide wayu me fail jata hai aur jab sitkalin satra aata hai ya sit ritu aata hai tab hame is prkar ki gambhir samashya ka samna karna padta hai, aur bahut adhik matra me dhundh ka samna karna padta hai.

yaha par maine sirf 4 prakar ke bare me bataya hai anya prkaro ke liye blog ko subscribe kare jisse aap hamesha updated rahe!

How to Control Air Pollution hindi me

Wayu pradushan ko kam karne ke liye maine yaha par kuchh udahran diye hai jo ki is prkar se hai-
  1. Industrial area me use kiye jane vale chimniyo ko uncha rakhna chahiye aur filters ka upyog kiya jana chahiye.
  2. Automobiles me use kiye jane vale Engine ka samay samay me Pollution ka janch karana chahiye.
  3. Krisi karya me upyog kiye jane vale chemical ka use is prakar se karna chahiye ki vaha hava me jyada faile na aur jab hame iske bahut jayda jarurat pade tabhi iska upyog karna chahiye.
  4. Automobile ka engine bahut jyada purana ho jaye tab use change kar dena chahiye.


Air pollution se hone wale Nuksan

  1. Air pollution ke karan sit ritu me bahut jyada matra me dhundh ki barish hoti hai.
  2. Air pollution ke karan asthama ke rogi ko sans lene me bahut jayada paresani hoti hai.
  3. wayu pradusan ke karan aankhon me jalan hoti hai.
  4. Wayu me faile dhul mitti ke kan fefde me jakar jam jate hai jiske karn fefde se sambandhit rog aur adhik matra me teji se badhta ja raha hai.
  5. Air pollution ke karan tapman me bahut jyada matra me wridhdhi dekhne ko mili hai.
  6. Global Warming Wayu ke garm hone ke karan se bhi ho raha hai tapman me wridhdhi ke karan garmi ke dino me bahut jyada matra me garmi lagati hai ye to aapne anubhav kiya hi hoga.
Conclusion-
air pollution ke karan ko janne ke sath-sath hame use dur karne ke upay ke bare me bhi puri jankari rakhani chahiye. Sarkar ke dwara Air-pollution ko rokne ke liye chalaye jane vale abhiyan me bhi hame madad karne ki aavsykta hai.

Read also

Monday, September 30, 2019

,
Hello and welcome friends आज है world heart day मैं  आज इस पोस्ट में आपको बताने वाला हूं world heart day से जुड़े कुछ रोचक जानकारी जिसमें मैं आपको बताने वाला हूं world heart day क्यों organize Kiya jata है? और heart disease को कैसे कम किया जा सकता है?

World heart day क्या है?

World heart day पूरे विश्व में मनाया जाता है इस वर्ल्ड हार्ट डे की शुरुआत 2000 में हुई थी। और आज से 19 वर्ष हो गए हैं।
इसे world heart federation जोकि जिनेवा में स्थित है,के द्वारा संचालित किया जाता है।


World heart day क्यों मनाया जाता है?

लोगों को जागरूक (awareness)के लिए उन्हें heart disease के बारे में बताने के लिए यह दिन विश्व हृदय दिवस के रूप में मनाया जाता है। पूरे विश्व में मनाया जाता है।

World heart day का थीम क्या है?

इस बार 2019 का थीम है my heart, your heart .

Main reasons..

इस दिवस को मनाने का एक और मुख्य कारण यह है कि इस बीमारी की वजह से विश्व में लगभग 17.9 million लोग हर वर्ष मर जाते हैं इसी को रोकने के लिए यह दिन विश्व हृदय दिवस के (world heart day) के रूप में मनाया जाता है।
World health federation की वेबसाइट पर जाने पर हमें आज की दिन की बहुत सारी जानकारी मिल सकती है।
इस दिन को क्यों मनाया जा रहा है और इस दिन क्या स्पेशल है इसकी पूरी जानकारी आप वर्ल्ड हेल्प फेडरेशन की वेबसाइट पर जाकर प्राप्त कर सकते हैं।


Interesting fact

इसकी शुरुआत 2000 में हुई थी।
कार्डियोवैस्कुलर डिजीज अभी के समय में मृत्यु का एक मुख्य कारण है इसे रोकने के लिए ही यह कार्यक्रम चालू किया गया था।
World heart day के अवसर पर पूरे विश्व में 1000 से भी ज्यादा activities के रूप में कार्यक्रम किया जाता है।
स्मोकिंग की वजह से लगभग 6 मिलियन लोग हर वर्ष मर जाते हैं जिसमें 10% CVD के कारण होता है।

Conclusion

Heart attack की जानकारी सभी को होनी चाहिए। क्योंकि यहां एक वैश्विक बीमारी है जो कि पूरे विश्व में फैला हुआ है जिसका कारण हमारे दैनिक जीवन का व्यवहार है।

Read also this topics

Friday, September 27, 2019

,
Hello and welcome guys आज है NSS DAY तो आप सभी को एनएसएस डे की हार्दिक शुभकामनाएं और मैं अपने ब्लॉग में इवेंट ब्लॉगिंग की तरफ ध्यान दे रहा हूं तो आज मैंने एनएसएस डे के बारे में कुछ जानकारी आपके साथ शेयर की है जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट करके जरूर बताना।


NSS क्या है?

NSS जिसको हम राष्ट्रीय सेवा योजना के नाम से भी जानते हैं इस योजना का संचालन युवा कार्यक्रम एवं राष्ट्रीय खेल मंत्रालय भारत सरकार द्वारा किया जाता है। NSS भारत सरकार द्वारा चलाए जाने वाला एक ऐसा कार्यक्रम है जोकि युवा छात्र छात्राओं को समाज से जोड़ने के लिए काम करता है।इस योजना से जुड़ने के लिए आपको 10वीं 12वीं से ही अवसर प्राप्त होने लगते हैं इस योजना में जुड़ने वाले लगभग 40000 से 3.8 million छात्र तथा छात्रा हो गए हैं। मार्च 2018 तक।


The NSS Badge

सभी युवा स्वयंसेवक जो NSS में कार्य करते हैं उनके समर्पण के स्वरूप NSS Badge को गर्व और जरूरतमंदों के मदद के भावना से दिया जाता है।

NSS मैं काम करने वालों को जो बेच दिया जाता है वहां बैच में जो 8 लकीर होता है वह कोणार्क मंदिर में उपस्थित पहिए से लिया गया है।जो कि 24 घंटे को दर्शाता है इसका तात्पर्य है कि जो एनएसएस से जुड़े होते हैं वहां 24 घंटे सेवा के लिए तत्पर रहते हैं।

बैच का लाल रंग एनएसएस में कार्य करने वाले पर ऊर्जा को दर्शाता है।

एनएसएस बैच का नीला रंग उस ब्रह्मांड को दर्शाता है जिसमें मानव कल्याण के लिए कार्य करने वाले एनएसएस के कार्यकर्ताओं को ब्रह्मांड का हिस्सा बताता है।

एनएसएस का मोटो क्या है?

एनएसएस का मोटो है मैं नहीं पर तुम!

NSS में जुड़ने ने वालों को इससे तीन फायदे हैं-

वे एक सफल लीडर बन जाते हैं।
एक ऐसे व्यक्ति बन जाते हैं जो लोगों के नेचर को आसानी से समझ सकने का गुण आ जाता है।
कुशल प्रशासक बन जाते हैं।

मुख्य क्रियाकलाप

NSS के तहत 7 दिनों के कैम्प लगाया जाता है जिसमें लगभग 200 वालेंटियर भाग ले सकते हैं। सामाजिक कार्य को करने के लिए अलग अलग जगह और देश में कैम्प लगाया जाता है।

आज के पोस्ट में बस इतना ही।

Read more
,
hello and welcome my dear friends आज विश्व पर्यटन दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं आज मैं इसी विषय पर आपसे बात करने वाला हूँ। इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा की विश्व पर्यावरण दिवस क्यों मनाया जाता है? और इसके Themes के बारे में मैं इस पोस्ट में आपको बताऊंगा।

क्या है विश्व पर्यटन दिवस (What is World Tourism Day)


हर वर्ष आज के ही दिन विश्व पर्यटन दिवस के रूप में मनाया जाता है। विश्व पर्यटन दिवस को मनाने का ध्येय पर्यवरण के प्रति लोगों को जागरूक करना और पर्यवरण के पर्यटको को जागरूक करना है। इसका मुख्य कारण यहीं है की लोग जागरूक हों और देश के ही नहीं बल्कि विश्व को पर्यावरण के प्रति जागरूक करना है।



विश्व पर्यटन दिवस की शुरुआत कब हुई?

इस प्रकार के विश्व पर्यटन दिवस की शुरुआत 1980 में हुई थी। संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन के द्वारा।


आज ही के दिन पर्यावरण दिवस के रूप में क्यों मनाया जाता है?

आज के ही दिन The let igneshiyas amduva atigbee नामक एक नाइजीरिया के राष्ट्र ने सबसे पहले यह कहा था की हर वर्ष 27 सितम्बर को विश्व पर्यावरण दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए। और उनके द्वारा इस प्रकार के अनुरोध को सहर्ष स्वीकार किया गया उनके योगदान को देखते हुए।
27 सितम्बर 1970 को UNWTO ने इस प्रकार के कानून को स्वीकारा था। इसी कारण इसी दिन से इसे मानाया जाता है।

इस विश्व पर्यटन दिवस को मनाने के लिए हर साल अलग-अलग देश को सहयोगी देश के रूप में चुना जाता है। इसका फैसला इस्तांबुल ( टर्की ) में हुए बारहवीं UNWTO 1997 के महासभा में लिया गया की एक देश को सहयोगी देश के रूप में हर साल चुना जाएगा। कुछ सहयोगी देश जिसे चुने जा चुके है उनके नाम और जिस वर्ष वे चुने गए थे उनका वर्ष मैने यहां पर लिखा है-


वर्ष.      देश
2006 यूरोप
2007 साउथ एशिया
2008 अमेरिका
2009 अफ्रीका 
2011 में मध्य पूर्व क्षेत्र

इसके कुछ थीम जो विश्व पर्यटन दिवस पर हर साल रखे जाते हैं इस प्रकार है-
  • 1980 सांस्कृतिक विरासत और शांति और आपसी समझ के संरक्षण के लिए पर्यटन का योगदान  
  • 1981  पर्यटन और जीवन की गुणवत्ता
  •  1982  अच्छे मेहमान और अच्छे मेजबान
  • 1984 अंतरराष्ट्रीय समझ, शांति और सहयोग के लिए पर्यटन
  • 1985 युवा पर्यटन: शांति और दोस्ती के लिए सांस्कृतिक और ऐतिहासिक विरासत
  • 1986 पर्यटन: विश्व शांति के लिए एक महत्वपूर्ण शक्ति1987 विकास के लिए पर्यटन
  • 1988 पर्यटन: सभी के लिए शिक्षा
  • 1989 पर्यटकों का मुक्त आवागमन एक दुनिया बनाता है
  • 1990 पर्यटन: एक अपरिचित उद्योग, एक मुक्त सेवा
  • 1991 संचार, सूचना और शिक्षा: पर्यटन विकास की शक्ति कारक
  • 1992 पर्यटन: एक बढ़ती सामाजिक और आर्थिक एकजुटता का कारक है और लोगों के बीच मुलाकात का
  • 1993 पर्यटन विकास और पर्यावरण संरक्षण: एक स्थायी सद्भाव की ओर
  • 1994 गुणवत्ता वाले कर्मचारी, गुणवत्ता पर्यटन
  • 1995 विश्व व्यापार संगठन: बीस साल से विश्व पर्यटन में सेवारत 
  • 1996 पर्यटन: सहिष्णुता और शांति का एक कारक
  • 1997 पर्यटन: इक्कीसवीं सदी की रोजगार सृजन और पर्यावरण संरक्षण के लिए एक अग्रणी गतिविधि
  • 1998 सार्वजनिक-निजी क्षेत्र भागीदारी: पर्यटन विकास और संवर्धन की कुंजी
  • 1999 पर्यटन: विश्व धरोहर का नयी शताब्दी के लिये संरक्षण
  • 2000 प्रौद्योगिकी और प्रकृति: इक्कीसवीं सदी के प्रारंभ में पर्यटन के लिए दो चुनौतियॉं
  • 2001 पर्यटन: सभ्यताओं के बीच शांति और संवाद के लिए एक उपकरण
  • 2002 पर्यावरण पर्यटन सतत विकास के लिए कुंजी
  • 2003 पर्यटन: गरीबी उन्मूलन, रोजगार सृजन और सामाजिक सद्भाव के लिए एक प्रेरणा शक्ति
  • 2004 खेल और पर्यटन: आपसी समझ वालो के लिये दो जीवित बल, संस्कृति और समाज का विकास
  • 2005 यात्रा और परिवहन: जूल्स वर्ने की काल्पनिकता से 21 वीं सदी की वास्तविकता तक 
  • 2006 पर्यटन को समृद्ध बनाना
  • 2007 पर्यटन महिलाओं के लिए दरवाजे खोलता है
  • 2008 जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग की चुनौती का जवाब पर्यटन
  • 2009 पर्यटन - विविधता का उत्सव
  • 2010 पर्यटन और जैव विविधता2011 पर्यटन संस्कृति को जोड़ता है।
  • 2012 पर्यटन और ऊर्जावान स्थिरता
  • 2013 पर्यटन और जल: हमारे साझे भविष्य की रक्षा
  • 2014 पर्यटन और सामुदायिक विकास
  • 2015 लाखों पर्यटक, लाखों अवसर
  •  2016  सभी के लिए पर्यटन - विश्वव्यापी पहुंच को बढ़ावा देना
  • 2017 सतत पर्यटन - विकास का एक उपकरण
  • 2018 पर्यटन और सांस्कृतिक संरक्षण
  • 2019 पर्यटन और रोजगार: सभी के लिए एक बेहतर भविष्य

Read also this topics



Monday, September 23, 2019

,




Hello Rexgins how are you today? आशा करता हूं कि आप सभी अच्छे होंगे आज मैं international day of sign language in Hindi के बारे में पोस्ट लिखा है जिसमें मैंने आपको बताया है sign language क्या है?, इस sign languages का विकास भारत में कैस हुआ।

SIGN LANGUAGE (सांकेतिक भाषा) क्या है?

International Day of Sign Languages इससे पूरे विश्व में 23 सितंबर को मनाया जाता है यह दिन उन लोगों या व्यक्तियों के लिए समर्पित है जो की बोल व सुन नहीं सकते हैं। तथा शारीरिक रूप से अपंग है उन लोगों के लिए इस दिन को समर्पित किया गया है।




यहां पर मैं भारत में प्रयोग किए जाने वाले सांकेतिक भाषा के बारे में थोड़ी सी जानकारी आपको दे दूं-
  1. भारत में सांकेतिक भाषा को सिखाने के लिए 2001 तक कोई औपचारिक कक्षाएं प्रारंभ नहीं की गई थी।
  2. 2003 में की गई गणना के अनुसार लगभग 100 हजार गूंगे और बहरे लोगों के द्वारा संकेतिक भाषा का उपयोग किया  जाता था।
  3. भारत की जो सांकेतिक भाषा है वह पाकिस्तान के सांकेतिक भाषा के समान ही है अर्थात दोनों indo-pak sign language के नाम से जाने जाते हैं।
  4. जिस प्रकार ब्रिटिश साइन लैंग्वेज ISL में हाथों का उपयोग किया जाता है उसी प्रकार भारतीय सांकेतिक भाषा में भी हाथों का ही प्रयोग किया जाता है।
  5. Bhartiya sign language का संबंध नेपाली भाषा से है।
  6. भारतीय भाषा को NCERT ने सन 2006 में शामिल किया और यह भाषा अन्यत्र की भाषा के तरह ही संचार का एक और माध्यम हैं। NCERT ने इसे तृतीय व वर्ग पाठ्यक्रम के रूप में शामिल किया था।
  7. 2008 में भारतीय सांकेतिक भाषा के उपयोगकर्ता लगभग 1.5 million थे।
  8. Ali Yavar Jung National Institute of Speech & Hearing Disabilities (Divyangjan), Mumbai के द्वारा ISL की स्थापना की गई और यहां इसके लिए एक डिप्लोमा कोर्स भी चालू किया गया।
Theme of international day of sign language in 2018
"With sign language everyone is included"



In 2019 theme is
"Sign language rights for all!"

इस बार 2019 में ISDL ने पूरे 1 हफ्ते को international day of sign language के रूप में मनाने का फैसला किया है जिसके सभी दिनों के अलग अलग theme हैं जो कि इस प्रकार हैं Hindi me -
सोमवार, 23 सितंबर - "सभी के लिए सांकेतिक भाषा अधिकार!"
मंगलवार, 24 सितंबर - "सभी बच्चों के लिए सांकेतिक भाषा अधिकार"
बुधवार, 25 सितंबर - "वरिष्ठ नागरिकों के लिए सांकेतिक भाषा अधिकार"
गुरुवार, 26 सितंबर - "सांकेतिक भाषा अधिकार बधिर लोगों और बधिरों विकलांग लोगों के लिए।"
शुक्रवार, 27 सितंबर - "बधिर महिलाओं के लिए सांकेतिक भाषा अधिकार"
शनिवार, 28 सितंबर - "बहरे LGBTIQA + के लिए सांकेतिक भाषा अधिकार"
रविवार, 29 सितंबर - "बधिर शरणार्थियों के लिए सांकेतिक भाषा अधिकार"

7. Interesting fact sign languages in Hindi


  1. Sign language और body language में ज्यादा अंतर नहीं होता है।
  2. 23 सितम्बर को ही इसे मनाने का कारण WFD है क्योंकि इसी दिन इसकी स्थापना की गयी थी। 
  3. अभी भी यहां स्पष्ट नहीं हो सका है कि सांकेतिक भाषा दुनिया भर में कितने प्रकार के हैं।
प्रत्येक जगह की या देश की अपनी मूल सांकेतिक भाषा होती है जो कि अलग-अलग प्रकार के होते हैं।
  1. सांकेतिक भाषा उतने अधिक प्रचलित नहीं हैं लेकिन फिर भी कई ऐसे संकेतिक भाषाएं हैं जिन्होंने मान्यता प्राप्त कर ली है।
  2. 19वीं शताब्दी में ऐतिहासिक संकेतिक भाषा का विकास अल्फाबेटिक भाषा को देखकर किया गया था।
  3. Pendro poas D. Leon (1520-1584) ने पहले सांकेतिक भाषा की manual वर्णमाला विकसित की थी।
Read also
Conclusion

आज 23 सितंबर 2019 को आप सभी को विश्व संकेतिक भाषा दिवस हार्दिक शुभकामनाएं।
इस भाषा का उपयोग सामान्य लोग भी करते हैं अन्य मुख बधिर गुंगे लोगों से बात करने के लिए तो इसे और ज्यादा फैलाए अपने दोस्तों के साथ साइन ऑफ लव थैंक यू।

,




Hello friends आप सभी का स्वागत है आज मैं बात करने वाला हूं भूगोल के बारे में इस पोस्ट में मैं आपको भूगोल के बारे में about geography in Hindi इस पोस्ट में मैं आपके साथ शेयर करने वाला हूं भूगोल के बारे में 13 interesting fact चलिए शुरू कर दो पढ़ना

13 interesting fact about geography in Hindi




भूगोल के बारे में हिंदी में (About Geography in Hindi)
  1. भूगोल में भू का अर्थ पृथ्वी से है और उसके आकार को गोल बताता है।
  2. भूगोल शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग इरेटोस्थनीज ने तीसरे शताब्दी ईसा पूर्व किया था।
  3. भूगोल सबसे प्राचीनतम विज्ञान है जो कि यूनानी वैज्ञानिकों के कार्यों में हमें देखने को मिलता है इसको सर्वप्रथम विशिष्ट विज्ञान के रूप में मान्यता प्राचीन यूनानी विद्वान इरेटोस्थनीज ने दी थी।
  4. भूगोल के संबंध में सबसे ज्यादा वैज्ञानिक हमें देने का श्रेया यूनान को जाता है जिन्होंने हमें होमर, डेरेटोड्स, थेल्स, अरस्तू, और इरेटोस्थनीज जैसी वैज्ञानिकों को हमें दिया।
  5. भूगोल को 3 विभाग में बांटा गया है जो कि है गणितीय भूगोल, भौतिक भूगोल, मानव भूगोल।
  6. पृथ्वी को 8 महाद्वीप में बांटा गया है जोकि हैं एशिया, यूरोप, अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया अंटार्कटिका।
  7. भूगोल में पांच महासागर में बांटा गया है जोकि हैं अटलांटिक महासागर, हिंद महासागर, प्रशांत महासागर, दक्षिण महासागर।
  8. भूगोल का संबंध में प्राकृतिक विज्ञान और सामाजिक विज्ञान दोनों से है।
  9. इस प्रकार भूगोल के संबंध सभी विज्ञानों से है चाहे वह विज्ञान शुद्ध प्राकृतिक विज्ञान हो अथवा मानवीय सामाजिक विज्ञान हो।
  10. गणितीय भूगोल के कारण ही में पृथ्वी के पृष्ठ पर उपस्थित बिंदुओं का त्रिविम स्थिति का निर्धारण संभव हो सका है।
  11. भौतिक भूगोल धरातल पर अलग-अलग जगह घटनाओं के वितरण की व्याख्या व अध्ययन कराता है जैसे भूविज्ञान, मौसम विज्ञान, जंतु विज्ञान, रसायन शास्त्र, से जुडा है। 
  12. मानव भूगोल मानव के क्रियाकलापों या मानव समाज के क्रियाकलापों के कारण बने भूगोल को मानव भूगोल कहा जाता है।
  13. पृथ्वी के आकार आकृति गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र पृष्ठभूमि या वो पृष्ठ बहुत बड़ी क्षेत्रों का निर्धारण भूगोल के द्वारा ही किया जाता है।

Conclusion (उपसंहार)

किस प्रकार देखा जाए तो भूगोल ही सभी वैज्ञानिक संबंधी विषयों का उद्गम स्रोत है। और सभी विज्ञान का आरंभ इस भूगोल से हुए हैं।

इन्हें भी पढ़ें
Environment aise in Hindi
Gobar gas kya hai
Water saving in Hindi
Sapnon ka matlab Hindi mein

Saturday, September 21, 2019

,



गोबर गैस(gobar gas) जिसे हम अंग्रेजी में biogas के नाम से जानते हैं तो मैं आज इसी पर चर्चा करने वाला हूं। इस पोस्ट के माध्यम से मैं आप सभी को गोबर गैस क्या है और गोबर गैस का उपयोग कैसे किया जाता है। बिजनेस मॉडल के तौर पर इसका उपयोग हम कैसे कर सकते हैं इन सभी विषयों पर इस पोस्ट में मैं आपको बताने वाला हूं।


Gobar gas(biogas) क्या है  

यहां पर गोबर गैस कहने से इसका अर्थ पूर्ण रूप से अलग हो जाता है। ग्रामीण इलाकों में गोबर जानवरों द्वारा त्याग किया गया मल को कहा जाता है।
इस प्रकार गोबर गैस का अर्थ जानवरों द्वारा त्याग किए गए मल से निकलने वाले गैस से है।

bio-gas kya hai

जानवरों द्वारा त्यागे गए अपशिष्ट पदार्थ का विघटन या गैस को एक यंत्र के माध्यम से बाहर निकाला जाता है। जिसे गोबर गैस संयंत्र का के नाम से जाना जाता है।
गोबर गैस संयंत्र के माध्यम से ही गोबर गैस को निकाला जाता है इसमें जानवरों के मल का महत्वपूर्ण योगदान होता है बिना उनके मल के यह संभव नहीं है।


Gobar gas ka upyog kaise kiya jata hai?





गोबर गैस के उपयोग को देखें तो यहां बहुत ही विस्तृत है और इसका उपयोग हम खाने पकाने के लिए और बस या विभिन्न गाड़ियों के इंधन के रूप में इसका उपयोग हम कर सकते हैं गोबर गैस से निकलने वाले गैस मेथेन गैस होता है जोकि ज्वलनशील होता है।

यह एक प्रकार ऐसा एवं है जिसका उपयोग हम विभिन्न प्रकार से कर सकते हैं और यहां हमारे दैनिक जीवन में उपयोग होने वाले सिलेंडर गैस का स्थान ले सकता है मगर इसमें बहुत सी समस्याएं हैं जो कि इस प्रकार हैं।


Gobar gas plantation samasyaen

इसके लिए बहुत सारे गोबर की आवश्यकता होती है।
गोबर गैस में निकलने वाले अपशिष्ट पदार्थ का निस्तारण इतना आसान नहीं होता है।
अगर हम छोटा संयंत्र बनाते हैं तो कम मात्रा में गैस प्राप्त होते हैं और अगर बड़ा बना देते हैं तो बहुत ज्यादा जगह की आवश्यकता होती है।
बायो गैस के प्लांट से निकलने वाली स्लरी को ले जाने के लिए गाड़ी की आवश्यकता होती है यहां गिली और सुखी दोनों रूप में होती हैं।


Gobar gas sanyantra yah biogas sanyantra se hone wale labh

  1. यहां पर्यावरण के अनुकूल है इससे ज्यादा मात्रा में प्रदूषण नहीं होता है।
  2. और बायोगैस के लिए जो कच्चे माल की आवश्यकता होती है वहां ग्रामीण इलाकों में आसानी से उपलब्ध होती है।
  3. लकड़ी का उपयोग करने से स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव पड़ता है लेकिन इसके उपयोग करने से ऐसी कोई समस्याएं नहीं होती है।
  4. गोबर गैस संयंत्र के उपयोग से खेतों में उपयोग किए जाने वाले जैविक खाद या गुणवत्ता युक्त खाद की प्राप्ति होती है।


Gobar gas business plan

  1. गोबर गैस की उपयोगिता को देखते हुए इसका उपयोग बिजनेस के तौर पर भी किया जा सकता है क्योंकि इससे बहुत ही अच्छा इंधन हमें प्राप्त होता है।
  2. अब इसका अगर हम बिजनेस के तौर पर उपयोग करते हैं तो इसके लिए हमें बहुत सारे गोबर और ज्यादा जगह की आवश्यकता होती है।
  3. मेंटेनेंस करने के लिए पाइप लाइन का उपयोग कर सकते हैं।
  4. Gobar gas business plan के नाम से मैंने एक पोस्ट लिखें उसे पढ़ सकते हैं।

गोबर गैस (बायोगैस) मैं उपलब्ध गैसों का विवरण
  1. गोबर गैस में मेथेन की मात्राओं सबसे ज्यादा 50 से 75% तक होती है।
  2. कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा 25 से 50% तक होती है।
  3. नाइट्रोजन की मात्रा शून्य से 10% तक होती है।
  4. और हाइड्रोजन की मात्रा शून्य से 3 प्रतिशत होती है इसी क्रम में हाइड्रोजन सल्फाइड की मात्रा शून्य से 3% होती है और ऑक्सीजन की मात्रा इसमें बिल्कुल नहीं होती है।

Conclusion

इस प्रकार भारत में अगर गोबर गैस संयंत्र के उपयोगिता को देखें तो यहां हमारे देश के लिए बहुत ही आसान और सरल है क्योंकि हमारे देश में ग्रामीण क्षेत्रीय गांव की जनसंख्या बहुत ज्यादा है यहां पर बहुत सारे जानवर उपलब्ध हैं इस कारण से बायोगैस संयंत्र के लिए या गोबर गैस संयंत्र के लिए कच्चे माल आसानी से उपलब्ध हो सकते हैं।
,
Hello friends जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आजकल पानी की किल्लत सभी जगह हो रही है तो आज का बेरा टॉपिक water save कैसे करना है उसके बारे में इस पोस्ट में मैं पानी किस प्रकार से उपयोगी है और इसे हमें क्यों बचाना चाहिए इस पर चर्चा करूंगा इसके अलावा इस पोस्ट में आपको बताऊंगा कि पानी को किस प्रकार से संरक्षित रखना है।
Save_Water_Hindi

Kya Hai Water Saving


हमारे द्वारा जल का उपयोग बहुत ज्यादा मात्रा भी किया जाता है। इस प्रकार से हमारे द्वारा जल का बहुत ज्यादा मात्रा में दोहन किया जाता है जिसने गर्म पानी की बर्बादी होती है तो इस प्रकार पानी की बर्बादी को कम करना है water saving या जल संरक्षण कहलाता है।




Water Saving की जरूरत क्यों?

दोस्तों आप सभी को यह तो पता होगा ही कि पृथ्वी का लगभग 75% भूभाग में जल पाया जाता है लेकिन मैं आपको बता दूं कि हमारे पृथ्वी पर जो पीने लायक जल की मात्रा है वह बहुत ही कम है जिसके कारण आज जल संकट का सामना हमें करना पड़ रहा है और भविष्य में यहां और भी गंभीर रूप ले सकता है तो इसी को देखते हुए मैंने इस पोस्ट में कुछ अपने तरफ से पानी को या जल को किस प्रकार से बचाया जा सकता है इस बारे में बताया है।
अभी वर्तमान में हमारे लिए सिर्फ पीने के पानी की समस्या का ही सामना नहीं करना पड़ रहा है बल्कि भूजल का जो जल स्तर है वह लगातार नीचे जा रहा है।
जिसके कारण अब कृष्ण ऋतु में पानी के किल्लत का सामना करना पड़ता है और दिल्ली जैसे शहरों में तो पानी की इतनी ज्यादा समस्या है कि लोग खराब पानी से अपना जीवन यापन करने में मजबूर हो जाते हैं तो इसी को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार भी वर्षा जल संरक्षण और इसके अलावा जल संरक्षण के बहुत सारे कदम वहां आगे बढ़ा रहे हैं।

What is the importance of water




अगर पानी के importance की बात करें तो यहां हमारे जीवन के लिए अत्यंत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि हमारे शरीर का भी लगभग 75% भाग में चल पाया जाता है और इसके बिना हमारे शरीर के जो पाचन क्रिया हैं या जो अन्य एक्टिविटी है वह संभव नहीं है।
इस प्रकार जल है तो कल है और जल ही जीवन है जैसे कथन सत्य प्रतीत होते हैं क्योंकि हम भोजन के बिना तो कुछ समय तक रह सकते हैं लेकिन पानी के बिना एक पल भी नहीं रहा जा सकता है।
इस प्रकार जल का संरक्षण अत्यंत ही आवश्यक है।

Ideas for Water Saving

दोस्तों मैंने यहां पर वर्षा जल संरक्षण के कुछ टिप्स दिए हैं जो कि आपके लिए उपयोगी हो सकते हैं-

  1. सबसे पहले तो हमें जल का दोहन कम करना चाहिए।
  2. जल संरक्षण के लिए विभिन्न कार्यक्रम चलाया जा रहे हैं उसका हमें लाभ लेना चाहिए।
  3. Save water save life को चरितार्थ करते हुए हमें जो वर्षा का जल है उसे संरक्षित रखना चाहिए, बांध बनाकर।
  4. Water या जल का उपयोग हमें सोच समझ कर करना चाहिए और सीमित मात्रा में करना चाहिए।
  5. गांव में बहने वाले पानी को छोटे-छोटे बांध बनाकर रोकना चाहिए।
  6. इसके अलावा खेतों में भी छोटे से जल संग्रहण के लिए छोटा सा तलाब बनाना चाहिए और इसका उपयोग हम जब पानी की कमी होगी तब कर सकते हैं।
  7. पानी की कमी या जल स्तर के नीचे जाने के कारण आज ग्लोबल वार्मिंग और ज्यादा बढ़ती जा रही है बढ़ती जा रही है जिसके कारण ताप में वृद्धि होने के साथ साथ पृथ्वी में उपस्थित पानी वाष्प बनकर ऊपर उड़ जाती है।
  8. घरों में उपयोग किए जाने वाले सावर को हमें धीमा वाला सावर का उपयोग करना चाहिए ताकि पानी जल्दी ना बहे।
  9. शौचालय में पानी के उपयोग बाल्टी से करना चाहिए क्योंकि नल से ज्यादा पानी की आवश्यकता पड़ती है।
Advantage of water saving




वैसे तो जल संरक्षण के बहुत सारे लाभ हैं लेकिन मैं यहां पर सभी का जिक्र ना करते हुए एक बात साफ करना चाहूंगा कि- अगर आज हम अगर पानी बचाते हैं तो भविष्य में हमें जब भी किसी भी प्रकार के पानी की आवश्यकता पड़ेगी तो उसके लिए हम निश्चिंत रहेंगे और आने वाले भविष्य में आने वाली पीढ़ी को पानी की कोई कमी नहीं होगी और इससे हमारे पृथ्वी का जो जलस्तर है वह भी ठीक से बना रहेगा जिससे फसलों का उत्पादन हम अच्छे से ले सकते हैं।

Conclusion

जल संरक्षण आज के ही नहीं बल्कि भविष्य के जल संकट से हमें बचा सकता है इसलिए हर संभव हमें जल का उपयोग सोच समझ कर करना चाहिए।

Save water in Hindi के इस पोस्ट में आज के लिए बस इतना ही.
यह टॉपिक इस विषय से भी रिलेटेड है
save water hindi
water conservation hindi

Friday, September 20, 2019

,
Hello readers आज मैं बात करने वाला हूं भारत के भूगोल (geography) के बारे में जिसमें मैं बात करूंगा भारत के भूगोल के बारे में क्या-क्या विशेषताएं हैं और यहां अन्य देशों से किस प्रकार भिन्न हैं।
Geography_of_india_hindi

Geography in Hindi


भूगोल(geography) दो शब्दों से मिलकर बना है जिसमें पहला शब्द भू और दूसरा शब्द गोल है यहां पर भू का अर्थ होता है पृथ्वी और गोल का अर्थ होता है प्राकृतिक स्वरूप का अध्ययन।
इस प्रकार भूगोल में पृथ्वी के प्राकृतिक वातावरण और उसकी विभिन्नता का अध्ययन किया जाता है।

Geography India in Hindi

अब भारत की जियोग्राफी की बात करें तो यहां पर भारत का जो भूगोल है वहां क्षेत्र विशेष के कारण अलग-अलग प्रकार का पाया जाता है और यहां अनेक प्रकार के जीव जंतु भी पाए जाते हैं।
इस प्रकार यहां पर अनेक प्रकार की जलवायु क्षेत्र होने के कारण भिन्न-भिन्न प्रकार के जीव जंतुओं का होना स्वाभाविक है।

Geography of India Hindi

भारत के जियोग्राफी की विशेषता की बात करें तो यहां पर भारत के भूगोल की अनेक विशेषताएं हैं जो कि अन्य देशों के कंपैरिजन में बहुत ही भिन्न है।

विशेषताएं इस प्रकार हैं


  1. भारत में 6 प्रकार की ऋतुएं पाई जाती हैं।
  2. इन सभी ऋतु का अलग-अलग प्रभाव होता है।
  3. सभी ऋतुओं का एक निश्चित समय होता है।
  4. छह प्रकार की ऋतु है इस प्रकार हैं बसंत ऋतु, ग्रीष्म ऋतु, वर्षा ऋतु, हेमंत ऋतु, शरद ऋतु, शिशिर ऋतु।

इस प्रकार इन छह ऋतु में सबसे ज्यादा पसंद बसंत रितु को किया जाता है।
और जैसे कि इनका नाम है उसी प्रकार इनका प्रभाव भी होता है जैसे यहां पर बसंत ऋतु की बात करें तो यहां पर इस मौसम में मौसम बहुत ही सुहावने होते हैं और ना ज्यादा ठंड होती है और ना ही ज्यादा गर्मी पड़ती है।
इसी प्रकार ग्रीष्म ऋतु की बात करें तो इस ऋतु में गर्मी का सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ता है और सूरज तेज होता है।
और इसी प्रकार के अन्य रितु जैसे शरद ऋतु की बात करें तो इस ऋतु में सर्दियों का मौसम चलता है जिस कारण से से शरद ऋतु कहा जाता है।

भारत का भूगोल अन्य देशों से किस प्रकार भिन्न है इस पर चर्चा करते हैं चलिए,,,


  1. भारत का भूगोल अन्य देशों की तुलना में अधिक भिन्न है क्योंकि जहां अन्य देशों में सिर्फ एक से दो ऋतु में ही पाए जाते हैं वही भारत में छह प्रकार की ऋतु में पाए जाते हैं जो कि अपना अलग-अलग स्थान रखते हैं।
  2. अन्य देशों में एक ऋतु जैसे कि शरद ऋतु पाई जाती है तो वहां सिर्फ सर्दी ही पड़ती रहती है साल भर लेकिन भारत की बात करें तो यहां 1 साल में छह ऋतु है।
  3. अन्य देशों में मौसम एक ही बना रहता है लेकिन भारत में 1 साल में मौसम छह प्रकार से परिवर्तित होता है।
  4. भारत में सभी प्रकार की विभिन्नता आएं इस मौसम परिवर्तन के कारण देखने को मिलता है लेकिन अन्य देशों में इस प्रकार की विभिन्नता देखने को नहीं मिलता है।
  5. यहां अलग-अलग मौसम होने के कारण सभी प्रकार के कृषि कार्य या कहें मौसमी फसलों का उत्पादन अत्यधिक मात्रा में होता है।
  6. भारत कृषि प्रधान देश अपने भूगोल के कारण ही कल आप आए हैं क्योंकि अगर इसका भूगोल वैसा नहीं होता तो इस प्रकार के विभिन्न प्रकार के फसलों का उत्पादन संभव नहीं हो पाता।
  7. अन्य देशों की तुलना में यहां खाद्य पदार्थों का उत्पादन अत्यधिक मात्रा में होता है जो कि भूगोल के कारण ही संभव हो सका है।


Conclusion

इस प्रकार भारत की भूगोल को देखें तो यह अन्य देशों से पूर्णता भिन्न है।

इन्हें भी पढ़ें




,
Hello and welcome friends मैं आज मैं बात करने वाला हूं. surgical strike के बारे में इस पोस्ट में हम जानेंगे कि-
Surgical strike kya hai

क्या होता है? Surgical Strike

Surgical Strike एक प्रकार की सैन्य कार्यवाही होती है जिसे सेना के द्वारा अंजाम दिया जाता है।
Surgical strike की विशेषता


  1. Surgical strike सर्जिकल स्ट्राइक में किसी भी प्रकार की जानकारी को किसी के साथ शेयर नहीं किया जाता है और यह पूर्ण रूप से गोपनीय होता है।
  2. Surgical strike में मात्र दो या चार हेड्स को स्ट्राइक की जानकारी होती है कि कहां पर सर्जिकल स्ट्राइक करना है।
  3. Surgical strike 2016 भारत में 21 सितंबर 2016 को पाकिस्तान के खिलाफ एलओसी में सर्जिकल स्ट्राइक किया गया था जिसे आप उसके उदाहरण के तौर पर ले सकते हैं।
  4. Surgical strike में किसी भी प्रकार का कोई सबूत नहीं छोड़ा जाता है तथा जिस स्थान पर सर्जिकल स्ट्राइक किया जाता है उस स्थान में जो भी सामग्री होती है उसे नष्ट कर दिया जाता है।
  5. Surgical strike को इस प्रकार अंजाम दिया जाता है कि इससे किसी भी प्रकार की समान्य लोगों को हानि ना पहुंचे यह पूर्ण रूप से सुरक्षित होता है।
  6. इस प्रकार की सैन्य कार्यवाही में किसी भी प्रकार की लापरवाही नहीं बरती जाती है और सर्जिकल स्ट्राइक में किसी बड़े कार्य को अंजाम दिया जाता है।
  7. Surgical strike को देर रात या ऐसे समय में अंजाम दिया जाता है जिस समय सर्जिकल स्ट्राइक जहां पर होना है वहां के आसपास के लोगों का आवागमन कम हो।
  8. भारत ने पाकिस्तान के कश्मीर अधिकृत के सीमा पर लांच पैड पर सर्जिकल स्ट्राइक 21 सितंबर 2016 को किया था।
  9. Surgical strike में ज्यादातर वायु सेना का उपयोग किया जाता है।


Conclusion


Surgical strike सेनाओं द्वारा किया जाने वाला एक प्रकार का मिशन होता है जिसे वहां जी जान लगाकर पूर्ण करते हैं।

इन्हें भी पढ़ें

Friday, August 30, 2019

,
Hello and Welcome My Dear Friends मैं आपका फिर से एक बार स्वागत करता हूँ मेरे ब्लॉग Rexgin.in जिस पर मैं आपसे हर रोज बातें करता हूँ। Eductional Topics पर आज मैं आपके लिए खासकर उन लोगों के लिए निबन्ध लेकर आया हूँ।
जिन्हें तलास होती है महात्मा गाँधी निबन्ध की (Mahatma Gandhi Essay in Hindi) इस Post में मैने उनके ऊपर सटीक निबन्ध लिखने की कोशिश की है तो चलिए शुरू करते हैं-




father of nation

रूपरेखा :-
  1. परिचय 
  2. महात्मा गाँधी का जीवन 
  3. महात्मा गाँधी की विशेषताएं 
  4. महात्मा गाँधी का पूरे देश पर क्या प्रभाव रहा
  5. उपसंहार(Conclusion)
तो friends मैं इस पोस्ट में आपको महात्मा गाँधी के बारे में ज्यादा तो नहीं बता सकता लेकिन निबन्ध को किस प्रकार से लिखना है इसके बारे में ही बताने के लिए मैने ये पोस्ट लिखा है (How to Write mahatma gandhi essay in hindi ) इस पोस्ट में मैं Cover करने वाला हूँ। 

1. परिचय:-

 यहाँ पर आपको जिस Topic के बारे में निबन्ध लिखना है उसका परिचय देना है फिर उसके बाद निबन्ध के आगे का भाग हमें बताना होता है। 
तो यहां पर मैं उनके बारे में ज्यादा तो नहीं बताने वाला हूँ क्योकि वो किसी के परिचय के मोहताज नहीं है लगभग-लगभग उन्हें हर कोई जानता है। 
  • जन्म - 2 अक्टूबर 1869 को हुआ। 
  • जन्म स्थान - पोरबन्दर, काठियावाड़, गुजरात (भारत) में। 
  • मृत्यु - 30 जनवरी 1848 को हुआ।
  • मृत्यु स्थान - नई दिल्ली (भारत)
  • अन्य नाम - राष्ट्रपिता, महात्मा, बापू, गांधी जी। 
  • शिक्षा - यूनिवर्सिटी कॉलेज लन्दन।  
जैसे की  आप सभी जानते हैं महात्मा गाँधी का जन्म भारत के गुजरात राज्य के पोरबन्दर नामक स्थान में 2 अक्टूबर सन 1869 को हुआ था। महात्मा गाँधी के माता का नाम पुतलीबाई था और पिता का नाम करमचन्द गांधी था। महात्मा गाँधी की माता वैश्य समुदाय से सम्बन्ध रखती थी और वहीं गाँधी के पिता सनातन धर्म के पनसारी जाती से सम्बन्ध रखते थे। महात्मा गाँधी का नाम पहले मोहन दास था फिर बाद में उनको उनके पिता के नाम के साथ जोड़कर मोहन दास करमचन्द गाँधी के नाम से जाने जाना लगा।  

2. महात्मा गाँधी का जीवन-

my dear friends महात्मागांधी का जीवन संघर्ष पूर्ण रहा है उन्होंने ज्यादा तकलीफ तो नहीं पाई क्योकि उनके पिता अंग्रेजों के जमाने में दीवान हुआ करते थे। तो उनका बचपन भी उतने ज्यादा तकलीफ में नहीं गुजरा था।

उनके बारे में और अधिक जानकारी के लिए आप Wikipedia में देख सकते है फिर हाल मैं उनके बारे में यहां मेन मेन टॉपिक को छूते हुए चला जा रहा हूँ क्योकि आपके पास भी उतना ज्यादा समय नहीं होगा मेरे पास भी नहीं है।

विवाह -
महात्मा गाँधी का विवाह 13 साल के आयु पूर्ण करते ही कम उम्र में हो गया था और उनकी पत्नी का नाम कस्तूरबा था। जिन्हें "बा" कहके भी पुकारा जाता था। उस जमाने में उनका बाल विवाह हुआ था। क्योकि वह उस राज्य में प्रचलित था। अब महात्मा गाँधी और उनकी पत्नी को एक साथ नहीं रखा जाता था उस समय यह प्रथा होती थी विवाह के बाद के पुत्र और पुत्र वधु अपने अपने घर में रहा करते थे इस कारण उन्हें यानी महात्मा गांधी को पढाई के लिए अलग देश भेजा गया उन्हें विदेश भेजने में उनके बड़े भाई का हाथ था।
उन्होंने लन्दन में वकालत की डिग्री हासिल की और फिर वहां से मुम्बई के अदालत में वकालत करने के लिए आ गए लेकिन उनको यह काम जचा नहीं। इस प्रकार वे पेशे से वह वकील थे।

 3. महात्मा गाँधी की विशेषताएं-

महात्मा गांधी की विशेषताएं की बात की करें तो उनके विशेषता में उनका सांत व्यवहार बहुत ही बड़ी विशेषता थी। मेरे हिसाब से मैने महात्मा गाँधी के जीवन के बारे में पढा तो पाया की वाकई में उन्होंने अपने आप पर पूरा विजय प्राप्त कर लिया था।

सत्य प्रेमी -
 सत्यता उनकी सबसे बड़ी विशेषता रही है उन्होंने किसी भी प्रकार के अनर्गल बातों की ओर ध्यान नहीं दिया था। हमेशा सत्य की राह में चलने के लिए लोगों को कहते थे और खुद भी पालन करते थे ऐसा नहीं की वह सिर्फ कहते थे।

सहृदय -
उनके मन में भी कोई कपट की भावना नहीं थी और वह किसी से भी रूखा व्यवहार किया करते थे। सभी से एक जैसे व्यवहार वे करते थे।

स्वक्षता प्रेमी -
महात्मा गांधी के नाम पर आज स्वच्छ भारत का अभियान चलाया जा रहा है क्योकि वह बहुत ही ज्यादा स्वक्षता को ध्यान में रखते थे। और उन्होंने ही हरिजन की सुरुआत की थी।



इस प्रकार से महात्मा गाँधी की अनेक विशेषताए थी जिसमें बहुत सारे का वर्णन मैने यहां पर नहीं किया है।

लेखक -
महात्मागांधी ने कई सारे पत्र पत्रिकाओं का भी लेखन किया और इसके माध्यम से लोगों को जागरूक करते रहें। उनकी कुछ पुस्तके इस प्रकार हैं -

हिन्द स्वराज - जिस पर उन्होंने स्वराज की ओर इसारा किया है।
दक्षिण आफ्रिका के सत्याग्रह का इतिहास - दक्षिण अफ्रीका में सत्याग्रह का कैसा इतिहास रहा है इस पुस्तक में बताया गया है।
सत्य के प्रयोग (आत्मकथा) - जिस पर इन्होंने बताया है सत्य के उनके जीवन पर महत्व के बारे में। इस पुस्तक के माध्यम से वे सत्य के प्रयोग को अपने आंतरिक जीवन में करते हैं और इसके अनुभव को ही उन्होंने इस पुस्तक के माध्यम से बताया है।
गीता माता - इस पुस्तक के माध्यम से महात्मागांधी ने गीता के उनके जीवन पर प्रभाव को बताया है और उसका वर्णन उन्होंने न एक जाती के रूप में बल्कि इसका वर्णन उन्होंने एक जीवन को सफल बनाने वाले ग्रन्थ के रूप में किया है इस पर उन्होंने इसे सभी समस्या का समाधान बताने वाली गीता को गीता माता के नाम से सम्बोधित किया है। गीता में गया का खजाना है। इस पुस्तक में बताया गया है।

4. महात्मा गाँधी का पूरे देश पर क्या प्रभाव रहा-

महात्मा गाँधी को पूरे भारत में ही नही बल्कि पूरे विश्व में जाना जाता है। उनके धन संपत्ति के कारण नहीं बल्कि उनके प्रेम व्यवहार के कारण, सत्य निष्ठा के कारण।
भारत पर महात्मा गाँधी के व्यवहार के कारण वह बापू के  नाम से संबोधित किये गए और आज उन्हें हर कोई राष्ट्र पिता के नाम से जानता है।
जहाँ एक तरफ महात्मागांधी के अच्छे प्रभाव हैं वहीं दूसरी ओर कई आलोचना भी उनके ऊपर देखने को मिलते हैं।

ये आलोचनाएं उनके काम और सिद्धांतों को लेकर है।

जैसे -
जुलु विद्रोह के सम्बंध में कहा जाता है कि उन्होंने अंग्रेजों का साथ दिया था।
विश्व युद्ध के समय अंग्रेजों का साथ देना और उनसे डिल करना कि युद्ध में साथ देने के कारण देश को छोड़ने का फैसला अंग्रेजों द्वारा करना।
खिलाफत आंदोलन जैसे सम्प्रदायिक आनफॉलन को राष्ट्रीय आंदोलन बनाना।
अंग्रेजों के खिलाफ किये जाने वाले हिंसात्मक कार्य जो कि क्रांतिकारियों द्वारा किये जाते थे उनकी निंदा वह किया करते थे।
इस प्रकार बहुत से ऐसे कारण भी हैं जिसके कारण महात्मागांधी की निंदा हुई थी। और भी कारण हैं जिन्हें मैं नहीं लिख रहा हूँ समय के अभाव के कारण आप इसे पढ़ सकते हैं विकिपीडिया से और जान सकते हैं इससे भी और ज्यादा जानकारी पा सकते हैं।
महात्मागांधी जाती प्रथा का समर्थन समझते थे।

5. Conclusion (उपसंहार)-

महात्मागांधी के द्वारा किये गए कार्य को इतने कम शब्दों में बता पाना बहुत ही कठिन कार्य है इसके लिए एक लाईन में कहा जा सकता है की " महात्मा गांधी एक ऐसे व्यक्तित्व के धनी थे जो अपनी छाप पर भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी छोड़ने में कामयाब रहे। "

Mahatma gandhi essay in hindi kaise likhe-

Freinds ये निबन्ध मेरे द्वारा अलग अलग जगह से जानकारी जो मुझे अच्छी लगी उसे लेकर लिखा गया है आप चाहें तो इससे और भी अच्छा निबन्ध लिख सकते हैं।
निबन्ध को लिखने के लिए आपको बस एक बात का ध्यान रखना है की यहाँ पर जो भी कुछ शेयर करें वह ऐसे लगना चाहिए की आपने वाकई में कहीं से इसको पढा है।
निबन्ध को इस प्रकार लिखें माने जीवन्त हो और आप उसके बारे में उसके सामने बता  रहें हों।

धन्यवाद!

इन्हें भी पढ़ें




Wednesday, August 28, 2019

,

Agar ek sabd me ans de to Bharat ki rajdhani New Delhi hai agar New Delhi ke bare me aur jankari chahte hai to aage read kare,



Bharat ki Rajdhani

New Delhi purani delhi ka ek hissa hai jaha par kai mugal sasko ne sasan kiy hai. british kal me iski new rakhi gai thi. pahle bharat ki rajdhani Kokata tha bad me new delhi ko rajdhani banaya gya. delhi bharat ki rajdhani hone ke karan yaha par sarkar ki tino ikaiya yaha par hai -karyapalika, nyaypalika aur sadan sthapit hai. yaha mahanagar yamuna  nadi ke kinare basa hua hai.






Agar Delhi ki purani naam ke bare me bat kare to mahabharat ke aadhar par Delhi ka naam indraprasth tha, 


Delhi Turisme 

 Delhi me Ghumne layak jagah ki bat kare to yaha lal kila bahut hi achha place hai log door door se ise dekhne ke liye aate hai. india get ke bare me to aap jante honge ye bhi delhi me hai. yah ek kendra sasit pradesh tha lekin bad me ise ek state bana diya gya,  new Delhi purani Delhi ka ek hissa hai jo bharat ki Rajdhani hai. puratatwik itihash yaha par purana kila safdarjang ka makbara, kutub minar aur lauh stambh jaise anek viswprasidh nirman hai.

Delhi ka Naksha

Delhi map





Delhi education

 Delhi india ki rajdhani hone ke karan yaha par shiksha bhi bahut teji se shiksha ka vikash hua hai yaha par kai viswvidhyalay bane jo india kr top vishwvidhyalaya hai. guru govind shih indraprasth viswvidhyalay

Monday, August 26, 2019

,
Ganga nadi bharat ke logo ke liye nadi matra nahi hai ganga hamari maa hai India me log ganga ko maa ke saman pujte hai. Hallo dosto aaj main gana gandi ke bare me kuch rochak jankari sare kar raha hu achha lage to comment jarur kare


GANGA NADI KAHA SE BAHTI HAI

ganga nadi ka udgam





ganga nadi himalaya ke gangotri himnad se nikalti hai. ye utrkhand me hai ganga nadi himalay se nikalkar Rishiksh, Kanpur, Allahabad, Varanasi, Patna, Calcutta uske bad mahasgar me jakar mil jati hai .ganaga nadi ke kinare dharmik nagar base huye hai jaha par log jana apna saubhagya samajhte hai. 



PAURANIK DHARNA 

Mana jata hai ki bhagirath ne ganaga ko dharti par lane ke liye bhagwan bramha ka hajaro sal tak tap kiye, jisse ki apne 60 hajar purwajo ka uddhar kar sake. sagar ke 60 hajar purtro ko rishi drawara bhasm kiya gya tha jisse ki unki atma bhatak rahi thi. ushi ke uddhar ke liye bhagirath ne ganga ko bramha ke kamandal se dharti par laya.



BHAUGOLIK RACHNA

Ganga nadi ki lambayi 2,525 km, uchai 3892 miter hai. ganga nadi  me milne wali nadi ke name - yamuna, kaakshee , raamaganga, taaptee, karanaalee (ghaaghara), gandak, kosee, chambal, son, betava, ken aur dakshinee tos hai. yamuna nadi ganga ki sabse badi sahayak nadi hai.



GANGA NADI PAR BANAYE GAYE BAND





Ganga nadi par banaye gaye band india ke logo aur economy ke liye bahut aham hai. pharakka baandh pashchim bangaal me banaya gya hai. ganga par nirmit doosara pramukh tiharee baandh, uttaraakhand ke tiharee jile mein bana hai. yah baandh ganga nadee kee pramukh sahayogee nadee bhaageerathee par banaaya gaya hai. teesara pramukh bheemagoda baandh haridvaar mein sthit hai.








Monday, July 1, 2019

,
HEY Welcome in my blog दोस्तों आपने तो Good Friday के बारे में सुना ही होगा लेकिन क्या आप जानते है की इस दिन को ऐसा क्या होता है की इसे good friday कहा जाता है?
नहीं जानते तो इस पोस्ट को शुरू से लेकर आखरी तक पढ़ते रहिये आपको समझ में आ जाएगा की इस दिन को

Good Friday क्यों कहा जाता है?

good friday img

दोस्तों आपने प्रभू यीशु मशीह के बारे में जरूर सुना होगा उन्हें भगवान के पुत्र के रूप में माना जाता है। भगवान ईशू के इसी कहानी को लेकर लोगों में यह भ्रांति फैल रही थी की आखिर कोई भगवान का पुत्र कैसे हो सकता है और भगवान भला ऐसे कैसे कर सकता है । इसी बात पर लोग भगवान यीशु को धोखा देने वाले कहकर उनसे नाराज हो गए और इसी नाराजगी की वजह से उन्हें इसी दिन GOOD FRIDAY जे क्रॉस पर किलों से लटका दिया गया था तब से लेकर आज तक उन्हीं की याद में ये दिन मनाया जाता है ।




GOOD FRIDAY किन किन लोगों द्वारा मनाया जाता है ?

वैसे तो यह GOOD FRIDAY का दिन सबसे ज्यादा क्रिश्चियन लोगों के द्वारा मनाया जाता है। भगवान यीशु की याद में लेकिन इसे मनाने के लिए कोई पाबन्दी नहीं है इसे कोई भी मना सकता है । यह उन्हीं क्रिश्चियन्स का त्योहार होता है लोग इन्हें इनकी ही त्योहार के नाम से जानते हैं।  इसलिए इसे क्रिश्चियन का त्योहार कहा जाता है ।

GOOD FRIDAY कैसे मनाया जाता है ?

GOOD FRIDAY को लोग अपने अपने तरीके से कैसे भी मना सकते हैं। इस प्रकार ये सार्वजनिक दिन है जिसे सबसे ज्यादा क्रिचिश्यन लोग सेलिब्रेट करते हैं।

other general knowledge


  1. selfi se jude rochak tathya
  2. History of telephone
  3. Indian space research center


Sunday, December 23, 2018

,



क्या आप Meghalaya के बारे में जानते है अगर नहीं जानते तो आप के लिए यह ब्लॉग मेघालय के बारे में जानने में मदद करेगा अगर अप पहले से जानते है तो इस ब्लॉग में ऐसी भी बाते हो सकती है जिसे आप नहीं जानते तो चलिए मेघालय के बारे में जानते है...

मेघालय की राजधानी  

मेघालय की स्थापना 21 जनवरी 1972 में हुआ था इसकी राजधानी का नाम शिलांग हैं और सबसे बडा शहर भी शिलांग है यह टोटल 11  जिले है, मेघालय उच्च न्यायालय यहां की सबसे बड़ी न्यायालय है, इसकी क्षेत्रफल • कुल 22429 कि.मी. है क्षेत्रफल के हिसाब से यह इंडिया का 23 राज्य है जनसंख्या घनत्व 140 किमी है। यहां की साक्षरता 75.84% है आधिकारिक भाषा गारो एवं खासी ये 2 भाषाएं है। वेबसाइट meghalaya.gov.in

राज्य के दक्षिणी में बांग्लादेश के भाग से लगता है,  तथा उत्तर एवं पूर्वी ओर  असम राज्य से घिरा हुआ है। meghalaya की राजधानी शिलांग है। भारत में ब्रिटिश काल के समय तत्कालीन ब्रिटिश  अधिकारियों द्वारा इसे " स्काटलैण्ड" का नाम दीया गया था।


मेघालय का विभाजन 

 मेघालय पहले असम राज्य का ही भाग था, 21 जनवरी 1972 को असम के खासी, गारो एवं जैन्तिया पर्वतीय जिलों को काटकर नया राज्य मेघालय बनाया गया।

मेघालय में बोले जाने वाली भाषा 

 इस राज्य की आधिकारिक भाषा अंग्रेजी है। इसके अलावा यह पर अन्य प्रमुख बोली बोले जाने वाली भाषाओं में खासी, गारो, प्नार, बियाट, हजोंग एवं बांग्ला आदी हैं। इनके अलावा यहां हिन्दी भी कुछ कुछ जगहों पर बोली व समझी जाती है हिन्दी बोलने वाले ज्यादातर शिलांग में मिलते हैं। 

भारत के इस राज्य में सबसे अलग यहां पर मातृवंशीय परंपरा चलती है, जिसमे सबसे छोटी बेटी अपने माता पिता की देखभाल करती है तथा उसे ही उनकी सारी सम्पत्ति मिलती है।

मेघालय की भौगोलीक स्थिति 

यह राज्य भारत का अधिक वर्षा वाला क्षेत्र है, जहां वार्षित औसत वर्षा 470 इंच दर्ज हुई है। meghalaya का 70% से अधिक क्षेत्र वनो से आच्छादित है। मेघालय में उपोष्णकटिबंधीय वन अधिक पाया जाता है, यहां के पर्वतीय वन अन्य निचले क्षेत्रों के उष्णकटिबन्धीय वनों से पृथक होते हैं। ये वन स्तनधारीपशुओ, पक्षियों तथा वृक्षों की जैव विविधता
को काफी प्रभावित होते हैं।

मेघालय में मुख्य रूप से कृषी की जाती है यहां की प्रमुख फ़सल है, चावल, मक्का, केला, पपीता एवं दालचीनी एवं बहुत से मसाले, आदि हैं। मेघालय राज्य भूगर्भ सम्पदाओं की दृष्टि से   अधिक सम्पन्न है लेकिन अभी तक यहां पर कोई उल्लेखनीय उद्योग चालू नहीं हुए हैं। यह  लगभग 1,170 कि॰मी॰ लम्बे राष्ट्रीय राजमार्ग बने हैं। यह बांग्लादेश के साथ व्यापार के लिए एक प्रमुख राज्य है