Showing posts with label general knowledge. Show all posts
Showing posts with label general knowledge. Show all posts

Monday, September 30, 2019

,
Hello and welcome friends आज है world heart day मैं  आज इस पोस्ट में आपको बताने वाला हूं world heart day से जुड़े कुछ रोचक जानकारी जिसमें मैं आपको बताने वाला हूं world heart day क्यों organize Kiya jata है? और heart disease को कैसे कम किया जा सकता है?

World heart day क्या है?

World heart day पूरे विश्व में मनाया जाता है इस वर्ल्ड हार्ट डे की शुरुआत 2000 में हुई थी। और आज से 19 वर्ष हो गए हैं।
इसे world heart federation जोकि जिनेवा में स्थित है,के द्वारा संचालित किया जाता है।


World heart day क्यों मनाया जाता है?


लोगों को जागरूक (awareness)के लिए उन्हें heart disease के बारे में बताने के लिए यह दिन विश्व हृदय दिवस के रूप में मनाया जाता है। पूरे विश्व में मनाया जाता है।

World heart day का थीम क्या है?


इस बार world heart day 2019 का थीम है my heart, your heart .

Main reasons..

इस दिवस को मनाने का एक और मुख्य कारण यह है कि इस बीमारी की वजह से विश्व में लगभग 17.9 million लोग हर वर्ष मर जाते हैं इसी को रोकने के लिए यह दिन विश्व हृदय दिवस के (world heart day) के रूप में मनाया जाता है।
World health federation की वेबसाइट पर जाने पर हमें आज की दिन की बहुत सारी जानकारी मिल सकती है।
इस दिन को क्यों मनाया जा रहा है और इस दिन क्या स्पेशल है इसकी पूरी जानकारी आप वर्ल्ड हेल्प फेडरेशन की वेबसाइट पर जाकर प्राप्त कर सकते हैं।


Interesting fact


इसकी शुरुआत 2000 में हुई थी।
कार्डियोवैस्कुलर डिजीज अभी के समय में मृत्यु का एक मुख्य कारण है इसे रोकने के लिए ही यह कार्यक्रम चालू किया गया था।
World heart day के अवसर पर पूरे विश्व में 1000 से भी ज्यादा activities के रूप में कार्यक्रम किया जाता है।
स्मोकिंग की वजह से लगभग 6 मिलियन लोग हर वर्ष मर जाते हैं जिसमें 10% CVD के कारण होता है।

Conclusion

Heart attack की जानकारी सभी को होनी चाहिए। क्योंकि यहां एक वैश्विक बीमारी है जो कि पूरे विश्व में फैला हुआ है जिसका कारण हमारे दैनिक जीवन का व्यवहार है।

Read also this topics

Friday, September 27, 2019

,
Hello and welcome guys आज है NSS DAY तो आप सभी को एनएसएस डे की हार्दिक शुभकामनाएं और मैं अपने ब्लॉग में इवेंट ब्लॉगिंग की तरफ ध्यान दे रहा हूं तो आज मैंने एनएसएस डे के बारे में कुछ जानकारी आपके साथ शेयर की है जानकारी अच्छा लगे तो कमेंट करके जरूर बताना।

NSS Day

NSS क्या है?

NSS जिसको हम राष्ट्रीय सेवा योजना के नाम से भी जानते हैं इस योजना का संचालन युवा कार्यक्रम एवं राष्ट्रीय खेल मंत्रालय भारत सरकार द्वारा किया जाता है। NSS भारत सरकार द्वारा चलाए जाने वाला एक ऐसा कार्यक्रम है जोकि युवा छात्र छात्राओं को समाज से जोड़ने के लिए काम करता है।इस योजना से जुड़ने के लिए आपको 10वीं 12वीं से ही अवसर प्राप्त होने लगते हैं इस योजना में जुड़ने वाले लगभग 40000 से 3.8 million छात्र तथा छात्रा हो गए हैं। मार्च 2018 तक।

The NSS Badge

सभी युवा स्वयंसेवक जो NSS में कार्य करते हैं उनके समर्पण के स्वरूप NSS Badge को गर्व और जरूरतमंदों के मदद के भावना से दिया जाता है।

NSS मैं काम करने वालों को जो बेच दिया जाता है वहां बैच में जो 8 लकीर होता है वह कोणार्क मंदिर में उपस्थित पहिए से लिया गया है।जो कि 24 घंटे को दर्शाता है इसका तात्पर्य है कि जो एनएसएस से जुड़े होते हैं वहां 24 घंटे सेवा के लिए तत्पर रहते हैं।

बैच का लाल रंग एनएसएस में कार्य करने वाले पर ऊर्जा को दर्शाता है।

एनएसएस बैच का नीला रंग उस ब्रह्मांड को दर्शाता है जिसमें मानव कल्याण के लिए कार्य करने वाले एनएसएस के कार्यकर्ताओं को ब्रह्मांड का हिस्सा बताता है।

एनएसएस का मोटो क्या है?

एनएसएस का मोटो है मैं नहीं पर तुम!

NSS में जुड़ने ने वालों को इससे तीन फायदे हैं-

वे एक सफल लीडर बन जाते हैं।
एक ऐसे व्यक्ति बन जाते हैं जो लोगों के नेचर को आसानी से समझ सकने का गुण आ जाता है।
कुशल प्रशासक बन जाते हैं।

मुख्य क्रियाकलाप

NSS के तहत 7 दिनों के कैम्प लगाया जाता है जिसमें लगभग 200 वालेंटियर भाग ले सकते हैं। सामाजिक कार्य को करने के लिए अलग अलग जगह और देश में कैम्प लगाया जाता है।

आज के पोस्ट में बस इतना ही।

Read more
,
hello and welcome my dear friends आज विश्व पर्यटन दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं आज मैं इसी विषय पर आपसे बात करने वाला हूँ। इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा की विश्व पर्यावरण दिवस क्यों मनाया जाता है? और इसके Themes के बारे में मैं इस पोस्ट में आपको बताऊंगा।

क्या है विश्व पर्यटन दिवस (What is World Tourism Day)

हर वर्ष आज के ही दिन विश्व पर्यटन दिवस के रूप में मनाया जाता है। विश्व पर्यटन दिवस को मनाने का ध्येय पर्यवरण के प्रति लोगों को जागरूक करना और पर्यवरण के पर्यटको को जागरूक करना है। इसका मुख्य कारण यहीं है की लोग जागरूक हों और देश के ही नहीं बल्कि विश्व को पर्यावरण के प्रति जागरूक करना है।


विश्व पर्यटन दिवस की शुरुआत कब हुई?

इस प्रकार के विश्व पर्यटन दिवस की शुरुआत 1980 में हुई थी। संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन के द्वारा।
आज ही के दिन पर्यावरण दिवस के रूप में क्यों मनाया जाता है?

आज के ही दिन The let igneshiyas amduva atigbee नामक एक नाइजीरिया के राष्ट्र ने सबसे पहले यह कहा था की हर वर्ष 27 सितम्बर को विश्व पर्यावरण दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए। और उनके द्वारा इस प्रकार के अनुरोध को सहर्ष स्वीकार किया गया उनके योगदान को देखते हुए।
27 सितम्बर 1970 को UNWTO ने इस प्रकार के कानून को स्वीकारा था। इसी कारण इसी दिन से इसे मानाया जाता है।

इस विश्व पर्यटन दिवस को मनाने के लिए हर साल अलग-अलग देश को सहयोगी देश के रूप में चुना जाता है। इसका फैसला इस्तांबुल ( टर्की ) में हुए बारहवीं UNWTO 1997 के महासभा में लिया गया की एक देश को सहयोगी देश के रूप में हर साल चुना जाएगा। कुछ सहयोगी देश जिसे चुने जा चुके है उनके नाम और जिस वर्ष वे चुने गए थे उनका वर्ष मैने यहां पर लिखा है-


वर्ष.      देश
2006 यूरोप
2007 साउथ एशिया
2008 अमेरिका
2009 अफ्रीका 
2011 में मध्य पूर्व क्षेत्र

इसके कुछ थीम जो विश्व पर्यटन दिवस पर हर साल रखे जाते हैं इस प्रकार है-

  • 1980 सांस्कृतिक विरासत और शांति और आपसी समझ के संरक्षण के लिए पर्यटन का योगदान  
  • 1981  पर्यटन और जीवन की गुणवत्ता
  •  1982  अच्छे मेहमान और अच्छे मेजबान
  • 1984 अंतरराष्ट्रीय समझ, शांति और सहयोग के लिए पर्यटन
  • 1985 युवा पर्यटन: शांति और दोस्ती के लिए सांस्कृतिक और ऐतिहासिक विरासत
  • 1986 पर्यटन: विश्व शांति के लिए एक महत्वपूर्ण शक्ति1987 विकास के लिए पर्यटन
  • 1988 पर्यटन: सभी के लिए शिक्षा
  • 1989 पर्यटकों का मुक्त आवागमन एक दुनिया बनाता है
  • 1990 पर्यटन: एक अपरिचित उद्योग, एक मुक्त सेवा
  • 1991 संचार, सूचना और शिक्षा: पर्यटन विकास की शक्ति कारक
  • 1992 पर्यटन: एक बढ़ती सामाजिक और आर्थिक एकजुटता का कारक है और लोगों के बीच मुलाकात का
  • 1993 पर्यटन विकास और पर्यावरण संरक्षण: एक स्थायी सद्भाव की ओर
  • 1994 गुणवत्ता वाले कर्मचारी, गुणवत्ता पर्यटन
  • 1995 विश्व व्यापार संगठन: बीस साल से विश्व पर्यटन में सेवारत 
  • 1996 पर्यटन: सहिष्णुता और शांति का एक कारक
  • 1997 पर्यटन: इक्कीसवीं सदी की रोजगार सृजन और पर्यावरण संरक्षण के लिए एक अग्रणी गतिविधि
  • 1998 सार्वजनिक-निजी क्षेत्र भागीदारी: पर्यटन विकास और संवर्धन की कुंजी
  • 1999 पर्यटन: विश्व धरोहर का नयी शताब्दी के लिये संरक्षण
  • 2000 प्रौद्योगिकी और प्रकृति: इक्कीसवीं सदी के प्रारंभ में पर्यटन के लिए दो चुनौतियॉं
  • 2001 पर्यटन: सभ्यताओं के बीच शांति और संवाद के लिए एक उपकरण
  • 2002 पर्यावरण पर्यटन सतत विकास के लिए कुंजी
  • 2003 पर्यटन: गरीबी उन्मूलन, रोजगार सृजन और सामाजिक सद्भाव के लिए एक प्रेरणा शक्ति
  • 2004 खेल और पर्यटन: आपसी समझ वालो के लिये दो जीवित बल, संस्कृति और समाज का विकास
  • 2005 यात्रा और परिवहन: जूल्स वर्ने की काल्पनिकता से 21 वीं सदी की वास्तविकता तक 
  • 2006 पर्यटन को समृद्ध बनाना
  • 2007 पर्यटन महिलाओं के लिए दरवाजे खोलता है
  • 2008 जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग की चुनौती का जवाब पर्यटन
  • 2009 पर्यटन - विविधता का उत्सव
  • 2010 पर्यटन और जैव विविधता2011 पर्यटन संस्कृति को जोड़ता है।
  • 2012 पर्यटन और ऊर्जावान स्थिरता
  • 2013 पर्यटन और जल: हमारे साझे भविष्य की रक्षा
  • 2014 पर्यटन और सामुदायिक विकास
  • 2015 लाखों पर्यटक, लाखों अवसर
  •  2016  सभी के लिए पर्यटन - विश्वव्यापी पहुंच को बढ़ावा देना
  • 2017 सतत पर्यटन - विकास का एक उपकरण
  • 2018 पर्यटन और सांस्कृतिक संरक्षण
  • 2019 पर्यटन और रोजगार: सभी के लिए एक बेहतर भविष्य

Read also this topics



Monday, September 23, 2019

,




Hello Rexgins how are you today? आशा करता हूं कि आप सभी अच्छे होंगे आज मैं international day of sign language in Hindi के बारे में पोस्ट लिखा है जिसमें मैंने आपको बताया है sign language क्या है?, इस sign languages का विकास भारत में कैस हुआ।


SIGN LANGUAGE (सांकेतिक भाषा) क्या है?

International Day of Sign Languages इससे पूरे विश्व में 23 सितंबर को मनाया जाता है यह दिन उन लोगों या व्यक्तियों के लिए समर्पित है जो की बोल व सुन नहीं सकते हैं। तथा शारीरिक रूप से अपंग है उन लोगों के लिए इस दिन को समर्पित किया गया है।




यहां पर मैं भारत में प्रयोग किए जाने वाले सांकेतिक भाषा के बारे में थोड़ी सी जानकारी आपको दे दूं-
  1. भारत में सांकेतिक भाषा को सिखाने के लिए 2001 तक कोई औपचारिक कक्षाएं प्रारंभ नहीं की गई थी।
  2. 2003 में की गई गणना के अनुसार लगभग 100 हजार गूंगे और बहरे लोगों के द्वारा संकेतिक भाषा का उपयोग किया  जाता था।
  3. भारत की जो सांकेतिक भाषा है वह पाकिस्तान के सांकेतिक भाषा के समान ही है अर्थात दोनों indo-pak sign language के नाम से जाने जाते हैं।
  4. जिस प्रकार ब्रिटिश साइन लैंग्वेज ISL में हाथों का उपयोग किया जाता है उसी प्रकार भारतीय सांकेतिक भाषा में भी हाथों का ही प्रयोग किया जाता है।
  5. Bhartiya sign language का संबंध नेपाली भाषा से है।
  6. भारतीय भाषा को NCERT ने सन 2006 में शामिल किया और यह भाषा अन्यत्र की भाषा के तरह ही संचार का एक और माध्यम हैं। NCERT ने इसे तृतीय व वर्ग पाठ्यक्रम के रूप में शामिल किया था।
  7. 2008 में भारतीय सांकेतिक भाषा के उपयोगकर्ता लगभग 1.5 million थे।
  8. Ali Yavar Jung National Institute of Speech & Hearing Disabilities (Divyangjan), Mumbai के द्वारा ISL की स्थापना की गई और यहां इसके लिए एक डिप्लोमा कोर्स भी चालू किया गया।
Theme of international day of sign language in 2018
"With sign language everyone is included"



In 2019 theme is
"Sign language rights for all!"

इस बार 2019 में ISDL ने पूरे 1 हफ्ते को international day of sign language के रूप में मनाने का फैसला किया है जिसके सभी दिनों के अलग अलग theme हैं जो कि इस प्रकार हैं Hindi me -
सोमवार, 23 सितंबर - "सभी के लिए सांकेतिक भाषा अधिकार!"
मंगलवार, 24 सितंबर - "सभी बच्चों के लिए सांकेतिक भाषा अधिकार"
बुधवार, 25 सितंबर - "वरिष्ठ नागरिकों के लिए सांकेतिक भाषा अधिकार"
गुरुवार, 26 सितंबर - "सांकेतिक भाषा अधिकार बधिर लोगों और बधिरों विकलांग लोगों के लिए।"
शुक्रवार, 27 सितंबर - "बधिर महिलाओं के लिए सांकेतिक भाषा अधिकार"
शनिवार, 28 सितंबर - "बहरे LGBTIQA + के लिए सांकेतिक भाषा अधिकार"
रविवार, 29 सितंबर - "बधिर शरणार्थियों के लिए सांकेतिक भाषा अधिकार"

7. Interesting fact sign languages in Hindi


  1. Sign language और body language में ज्यादा अंतर नहीं होता है।
  2. 23 सितम्बर को ही इसे मनाने का कारण WFD है क्योंकि इसी दिन इसकी स्थापना की गयी थी। 
  3. अभी भी यहां स्पष्ट नहीं हो सका है कि सांकेतिक भाषा दुनिया भर में कितने प्रकार के हैं।
प्रत्येक जगह की या देश की अपनी मूल सांकेतिक भाषा होती है जो कि अलग-अलग प्रकार के होते हैं।
  1. सांकेतिक भाषा उतने अधिक प्रचलित नहीं हैं लेकिन फिर भी कई ऐसे संकेतिक भाषाएं हैं जिन्होंने मान्यता प्राप्त कर ली है।
  2. 19वीं शताब्दी में ऐतिहासिक संकेतिक भाषा का विकास अल्फाबेटिक भाषा को देखकर किया गया था।
  3. Pendro poas D. Leon (1520-1584) ने पहले सांकेतिक भाषा की manual वर्णमाला विकसित की थी।
Read also
Conclusion

आज 23 सितंबर 2019 को आप सभी को विश्व संकेतिक भाषा दिवस हार्दिक शुभकामनाएं।
इस भाषा का उपयोग सामान्य लोग भी करते हैं अन्य मुख बधिर गुंगे लोगों से बात करने के लिए तो इसे और ज्यादा फैलाए अपने दोस्तों के साथ साइन ऑफ लव थैंक यू।

Saturday, September 21, 2019

,



गोबर गैस(gobar gas) जिसे हम अंग्रेजी में biogas के नाम से जानते हैं तो मैं आज इसी पर चर्चा करने वाला हूं। इस पोस्ट के माध्यम से मैं आप सभी को गोबर गैस क्या है और गोबर गैस का उपयोग कैसे किया जाता है। बिजनेस मॉडल के तौर पर इसका उपयोग हम कैसे कर सकते हैं इन सभी विषयों पर इस पोस्ट में मैं आपको बताने वाला हूं।


Gobar gas or biogas क्या है  

यहां पर गोबर गैस कहने से इसका अर्थ पूर्ण रूप से अलग हो जाता है। ग्रामीण इलाकों में गोबर जानवरों द्वारा त्याग किया गया मल को कहा जाता है।
इस प्रकार गोबर गैस का अर्थ जानवरों द्वारा त्याग किए गए मल से निकलने वाले गैस से है।

bio-gas kya hai

जानवरों द्वारा त्यागे गए अपशिष्ट पदार्थ का विघटन या गैस को एक यंत्र के माध्यम से बाहर निकाला जाता है। जिसे गोबर गैस संयंत्र का के नाम से जाना जाता है।
गोबर गैस संयंत्र के माध्यम से ही गोबर गैस को निकाला जाता है इसमें जानवरों के मल का महत्वपूर्ण योगदान होता है बिना उनके मल के यह संभव नहीं है।


Gobar gas ka upyog kaise kiya jata hai?





गोबर गैस के उपयोग को देखें तो यहां बहुत ही विस्तृत है और इसका उपयोग हम खाने पकाने के लिए और बस या विभिन्न गाड़ियों के इंधन के रूप में इसका उपयोग हम कर सकते हैं गोबर गैस से निकलने वाले गैस मेथेन गैस होता है जोकि ज्वलनशील होता है।

यह एक प्रकार ऐसा एवं है जिसका उपयोग हम विभिन्न प्रकार से कर सकते हैं और यहां हमारे दैनिक जीवन में उपयोग होने वाले सिलेंडर गैस का स्थान ले सकता है मगर इसमें बहुत सी समस्याएं हैं जो कि इस प्रकार हैं।


Gobar gas plantation samasyaen

इसके लिए बहुत सारे गोबर की आवश्यकता होती है।
गोबर गैस में निकलने वाले अपशिष्ट पदार्थ का निस्तारण इतना आसान नहीं होता है।
अगर हम छोटा संयंत्र बनाते हैं तो कम मात्रा में गैस प्राप्त होते हैं और अगर बड़ा बना देते हैं तो बहुत ज्यादा जगह की आवश्यकता होती है।
बायो गैस के प्लांट से निकलने वाली स्लरी को ले जाने के लिए गाड़ी की आवश्यकता होती है यहां गिली और सुखी दोनों रूप में होती हैं।


Gobar gas sanyantra yah biogas sanyantra se hone wale labh
  1. यहां पर्यावरण के अनुकूल है इससे ज्यादा मात्रा में प्रदूषण नहीं होता है।
  2. और बायोगैस के लिए जो कच्चे माल की आवश्यकता होती है वहां ग्रामीण इलाकों में आसानी से उपलब्ध होती है।
  3. लकड़ी का उपयोग करने से स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव पड़ता है लेकिन इसके उपयोग करने से ऐसी कोई समस्याएं नहीं होती है।
  4. गोबर गैस संयंत्र के उपयोग से खेतों में उपयोग किए जाने वाले जैविक खाद या गुणवत्ता युक्त खाद की प्राप्ति होती है।


Gobar gas business plan
  1. गोबर गैस की उपयोगिता को देखते हुए इसका उपयोग बिजनेस के तौर पर भी किया जा सकता है क्योंकि इससे बहुत ही अच्छा इंधन हमें प्राप्त होता है।
  2. अब इसका अगर हम बिजनेस के तौर पर उपयोग करते हैं तो इसके लिए हमें बहुत सारे गोबर और ज्यादा जगह की आवश्यकता होती है।
  3. मेंटेनेंस करने के लिए पाइप लाइन का उपयोग कर सकते हैं।
  4. Gobar gas business plan के नाम से मैंने एक पोस्ट लिखें उसे पढ़ सकते हैं।


गोबर गैस (बायोगैस) मैं उपलब्ध गैसों का विवरण

  1. गोबर गैस में मेथेन की मात्राओं सबसे ज्यादा 50 से 75% तक होती है।
  2. कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा 25 से 50% तक होती है।
  3. नाइट्रोजन की मात्रा शून्य से 10% तक होती है।
  4. और हाइड्रोजन की मात्रा शून्य से 3 प्रतिशत होती है इसी क्रम में हाइड्रोजन सल्फाइड की मात्रा शून्य से 3% होती है और ऑक्सीजन की मात्रा इसमें बिल्कुल नहीं होती है।

Conclusion

इस प्रकार भारत में अगर गोबर गैस संयंत्र के उपयोगिता को देखें तो यहां हमारे देश के लिए बहुत ही आसान और सरल है क्योंकि हमारे देश में ग्रामीण क्षेत्रीय गांव की जनसंख्या बहुत ज्यादा है यहां पर बहुत सारे जानवर उपलब्ध हैं इस कारण से बायोगैस संयंत्र के लिए या गोबर गैस संयंत्र के लिए कच्चे माल आसानी से उपलब्ध हो सकते हैं।
,
Hello friends जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आजकल पानी की किल्लत सभी जगह हो रही है तो आज का बेरा टॉपिक water save कैसे करना है उसके बारे में इस पोस्ट में मैं पानी किस प्रकार से उपयोगी है और इसे हमें क्यों बचाना चाहिए इस पर चर्चा करूंगा इसके अलावा इस पोस्ट में आपको बताऊंगा कि पानी को किस प्रकार से संरक्षित रखना है।
Save_Water_Hindi

Kya Hai Water Saving


हमारे द्वारा जल का उपयोग बहुत ज्यादा मात्रा भी किया जाता है। इस प्रकार से हमारे द्वारा जल का बहुत ज्यादा मात्रा में दोहन किया जाता है जिसने गर्म पानी की बर्बादी होती है तो इस प्रकार पानी की बर्बादी को कम करना है water saving या जल संरक्षण कहलाता है।




Water Saving की जरूरत क्यों?


दोस्तों आप सभी को यह तो पता होगा ही कि पृथ्वी का लगभग 75% भूभाग में जल पाया जाता है लेकिन मैं आपको बता दूं कि हमारे पृथ्वी पर जो पीने लायक जल की मात्रा है वह बहुत ही कम है जिसके कारण आज जल संकट का सामना हमें करना पड़ रहा है और भविष्य में यहां और भी गंभीर रूप ले सकता है तो इसी को देखते हुए मैंने इस पोस्ट में कुछ अपने तरफ से पानी को या जल को किस प्रकार से बचाया जा सकता है इस बारे में बताया है।
अभी वर्तमान में हमारे लिए सिर्फ पीने के पानी की समस्या का ही सामना नहीं करना पड़ रहा है बल्कि भूजल का जो जल स्तर है वह लगातार नीचे जा रहा है।
जिसके कारण अब कृष्ण ऋतु में पानी के किल्लत का सामना करना पड़ता है और दिल्ली जैसे शहरों में तो पानी की इतनी ज्यादा समस्या है कि लोग खराब पानी से अपना जीवन यापन करने में मजबूर हो जाते हैं तो इसी को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार भी वर्षा जल संरक्षण और इसके अलावा जल संरक्षण के बहुत सारे कदम वहां आगे बढ़ा रहे हैं।

What is the importance of water





अगर पानी के importance की बात करें तो यह हमारे जीवन के लिए अत्यंत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि हमारे शरीर का भी लगभग 75% भाग में चल पाया जाता है और इसके बिना हमारे शरीर के जो पाचन क्रिया हैं या जो अन्य एक्टिविटी है वह संभव नहीं है।
इस प्रकार जल है तो कल है और जल ही जीवन है जैसे कथन सत्य प्रतीत होते हैं क्योंकि हम भोजन के बिना तो कुछ समय तक रह सकते हैं लेकिन पानी के बिना एक पल भी नहीं रहा जा सकता है।
इस प्रकार जल का संरक्षण अत्यंत ही आवश्यक है।

Ideas for Water Saving


दोस्तों मैंने यहां पर वर्षा जल संरक्षण के कुछ टिप्स दिए हैं जो कि आपके लिए उपयोगी हो सकते हैं-

  1. सबसे पहले तो हमें जल का दोहन कम करना चाहिए।
  2. जल संरक्षण के लिए विभिन्न कार्यक्रम चलाया जा रहे हैं उसका हमें लाभ लेना चाहिए।
  3. Save water save life को चरितार्थ करते हुए हमें जो वर्षा का जल है उसे संरक्षित रखना चाहिए, बांध बनाकर।
  4. Water या जल का उपयोग हमें सोच समझ कर करना चाहिए और सीमित मात्रा में करना चाहिए।
  5. गांव में बहने वाले पानी को छोटे-छोटे बांध बनाकर रोकना चाहिए।
  6. इसके अलावा खेतों में भी छोटे से जल संग्रहण के लिए छोटा सा तलाब बनाना चाहिए और इसका उपयोग हम जब पानी की कमी होगी तब कर सकते हैं।
  7. पानी की कमी या जल स्तर के नीचे जाने के कारण आज ग्लोबल वार्मिंग और ज्यादा बढ़ती जा रही है बढ़ती जा रही है जिसके कारण ताप में वृद्धि होने के साथ साथ पृथ्वी में उपस्थित पानी वाष्प बनकर ऊपर उड़ जाती है।
  8. घरों में उपयोग किए जाने वाले सावर को हमें धीमा वाला सावर का उपयोग करना चाहिए ताकि पानी जल्दी ना बहे।
  9. शौचालय में पानी के उपयोग बाल्टी से करना चाहिए क्योंकि नल से ज्यादा पानी की आवश्यकता पड़ती है।

Advantage of water saving





वैसे तो जल संरक्षण के बहुत सारे लाभ हैं लेकिन मैं यहां पर सभी का जिक्र ना करते हुए एक बात साफ करना चाहूंगा कि- अगर आज हम अगर पानी बचाते हैं तो भविष्य में हमें जब भी किसी भी प्रकार के पानी की आवश्यकता पड़ेगी तो उसके लिए हम निश्चिंत रहेंगे और आने वाले भविष्य में आने वाली पीढ़ी को पानी की कोई कमी नहीं होगी और इससे हमारे पृथ्वी का जो जलस्तर है वह भी ठीक से बना रहेगा जिससे फसलों का उत्पादन हम अच्छे से ले सकते हैं।

Conclusion

जल संरक्षण आज के ही नहीं बल्कि भविष्य के जल संकट से हमें बचा सकता है इसलिए हर संभव हमें जल का उपयोग सोच समझ कर करना चाहिए।

Save water in Hindi के इस पोस्ट में आज के लिए बस इतना ही.
यह टॉपिक इस विषय से भी रिलेटेड है
save water hindi
water conservation hindi

Friday, September 20, 2019

,
Hi friends आप सभी ने सपनों के बारे में तो जरूर सुना होगा लेकिन क्या आप जानते हैं कि सपना क्या होता है अगर नहीं तो आप बिल्कुल सही जगह आए हैं आज मैं इसी के बारे में चर्चा करने वाला हूं सपना का मतलब क्या होता है और हमें सपने क्यों आते हैं ।
Sapno ka Matlab Hindi me

सपने क्या होते हैं?


सपने इंसानों द्वारा ही नहीं बल्कि अन्य प्राणियों द्वारा भी देखे जाते हैं। सपना एक प्रकार से जब मनुष्य गहरी निद्रा में होता है तब उस समय हमारा दिमाग ऐसी चीजों में खो जाता है जो सिर्फ कल्पना मात्र होता है जो कि वास्तविक नहीं होता है।
और हमें ऐसा अनुभव होता है कि वहां घटना हमारे साथ ही हो रहा है और वहां सही में हो रहा है।
लेकिन ऐसा नहीं होता है वह सिर्फ कल्पना मात्र होता है जो कि काल्पनिक होता है। लेकिन ज्योतिष शास्त्र में इसके अनेक अर्थ होते हैं जब आप सपने में कुछ देखते हैं तो उसके अलग-अलग मतलब होते हैं जैसे कि आप जब कोई वस्तु देखते हैं या किसी को कार्य करते हुए देखते हैं या किसी मरे हुए व्यक्ति को देखते हैं तो इसके अलग-अलग अर्थ निकलते हैं ज्योतिष शास्त्र में इसके बहुत से उदाहरण आपको देखने को मिल जाएंगे।
हमारा जो दिमाग है वह कभी भी शांत नहीं रहता है जब हम सो जाते हैं तब भी हमारे दिमाग में कुछ ना कुछ चलता रहता है जिसके कारण हमें सपना आते हैं और हम उसे रियल में हो रहा है ऐसे सोचते हैं।
आपने कई बार अनुभव किया होगा कि अगर आप सपने में रो रहे होते हैं तो आप रियल में रोने लग जाते हैं और सही में आपके आंसू निकल रहे होते हैं।

Sapno ka matlab Hindi mein


सपनों के मतलब की बात करें तो यहां पर सपनों के मतलब से ज्योतिष शास्त्र से जुड़ा हुआ है क्योंकि ज्योतिष शास्त्र में जब आप सपने देखते हैं तो उसके अलग-अलग अर्थ वहां पर निकलते हैं तो इसका मतलब यह हुआ कि अगर आप कोई सपना देखते हैं या कुछ सपने देखते हैं तो उसके अलग अर्थ निकालकर आपको ज्योतिष शास्त्र के माध्यम से बताया जाता है और इसी संबंध में लाल किताब जैसे कई पुस्तकें आपको पढ़ने को मिल जाएंगे।

इंटरनेट पर जब आप सर्च मारेंगे कि सपनों का मतलब क्या होता है तो आपको बहुत सारे ऐसे ब्लॉग मिल जाएंगे जिसने आपको सपनों के बारे में बताया गया होगा और ऐसे बहुत से सपने होंगे जो आपने देखे हैं वह उसमें कंटेंट से मिलते जुलते होंगे तो इसके लिए आपने ब्लॉक को पढ़ सकते हैं।

सपने क्यों आते हैं?

अगर हम सपनों के आने की बात करें तो यहां पूर्ण रूप से हमारे दिमाग द्वारा यह हमारे मस्तिष्क के द्वारा एक प्रकार का भ्रम होता है। जो कि किसी कार्य के पूर्णा होने या अधूरे होने पर या जब हम किसी कार्य को सोते वक्त सोच रहे होते हैं तो उसी से संबंधित स्वप्न हमें आते हैं और जो स्वप्न हमें आते हैं वह हमारे दैनिक जीवन में किसी न किसी प्रकार से घटित हो चुके होते हैं या हम जो सपने में देखते हैं उसे हम पहले ही या उस चेहरे को हम पहले ही कहीं ना कहीं देख चुके होते हैं।
सपने में कभी भी हम अपने आप कोई नया चेहरा नहीं बना सकते हैं और यहां जो यहां पर जो चेहरा दिखाई देते हैं वहां पहले हम देख चुके होते हैं या हम पहले सो चुके होते हैं उसी को हम सपने में देखते हैं।

Conclusion

मेरे हिसाब से सपनों का कोई अर्थ नहीं होता है और ना ही इसका कोई मतलब होता है यहां हमारे दिमाग का ही रचाया हुआ एक जाल होता है जो हमें उलझाने की कोशिश करता है।
किसी भी प्रकार के कार्य जिसे हम नहीं कर पाते हैं उसे हम सपने में करने की कोशिश करते हैं।

धन्यवाद।

इन्हें भी पढ़ें




,
Hello and welcome friends मैं आज मैं बात करने वाला हूं. surgical strike के बारे में इस पोस्ट में हम जानेंगे कि-
Surgical strike kya hai

क्या होता है? Surgical Strike

Surgical Strike एक प्रकार की सैन्य कार्यवाही होती है जिसे सेना के द्वारा अंजाम दिया जाता है।

Surgical strike की विशेषता



  1. Surgical strike सर्जिकल स्ट्राइक में किसी भी प्रकार की जानकारी को किसी के साथ शेयर नहीं किया जाता है और यह पूर्ण रूप से गोपनीय होता है।
  2. Surgical strike में मात्र दो या चार हेड्स को स्ट्राइक की जानकारी होती है कि कहां पर सर्जिकल स्ट्राइक करना है।
  3. Surgical strike 2016 भारत में 21 सितंबर 2016 को पाकिस्तान के खिलाफ एलओसी में सर्जिकल स्ट्राइक किया गया था जिसे आप उसके उदाहरण के तौर पर ले सकते हैं।
  4. Surgical strike में किसी भी प्रकार का कोई सबूत नहीं छोड़ा जाता है तथा जिस स्थान पर सर्जिकल स्ट्राइक किया जाता है उस स्थान में जो भी सामग्री होती है उसे नष्ट कर दिया जाता है।
  5. Surgical strike को इस प्रकार अंजाम दिया जाता है कि इससे किसी भी प्रकार की समान्य लोगों को हानि ना पहुंचे यह पूर्ण रूप से सुरक्षित होता है।
  6. इस प्रकार की सैन्य कार्यवाही में किसी भी प्रकार की लापरवाही नहीं बरती जाती है और सर्जिकल स्ट्राइक में किसी बड़े कार्य को अंजाम दिया जाता है।
  7. Surgical strike को देर रात या ऐसे समय में अंजाम दिया जाता है जिस समय सर्जिकल स्ट्राइक जहां पर होना है वहां के आसपास के लोगों का आवागमन कम हो।
  8. भारत ने पाकिस्तान के कश्मीर अधिकृत के सीमा पर लांच पैड पर सर्जिकल स्ट्राइक 21 सितंबर 2016 को किया था।
  9. Surgical strike में ज्यादातर वायु सेना का उपयोग किया जाता है।


Conclusion


Surgical strike सेनाओं द्वारा किया जाने वाला एक प्रकार का मिशन होता है जिसे वहां जी जान लगाकर पूर्ण करते हैं।

इन्हें भी पढ़ें

Thursday, September 5, 2019

,

शिक्षक दिवस Teachers Day

Friday, August 30, 2019

,
Hello and Welcome My Dear Friends मैं आपका फिर से एक बार स्वागत करता हूँ मेरे ब्लॉग Rexgin.in जिस पर मैं आपसे हर रोज बातें करता हूँ। Eductional Topics पर आज मैं आपके लिए खासकर उन लोगों के लिए निबन्ध लेकर आया हूँ।
जिन्हें तलास होती है महात्मा गाँधी निबन्ध की (Mahatma Gandhi Essay in Hindi) इस Post में मैने उनके ऊपर सटीक निबन्ध लिखने की कोशिश की है तो चलिए शुरू करते हैं-




father of nation

रूपरेखा :-
  1. परिचय 
  2. महात्मा गाँधी का जीवन 
  3. महात्मा गाँधी की विशेषताएं 
  4. महात्मा गाँधी का पूरे देश पर क्या प्रभाव रहा
  5. उपसंहार(Conclusion)
तो friends मैं इस पोस्ट में आपको महात्मा गाँधी के बारे में ज्यादा तो नहीं बता सकता लेकिन निबन्ध को किस प्रकार से लिखना है इसके बारे में ही बताने के लिए मैने ये पोस्ट लिखा है (How to Write mahatma gandhi essay in hindi ) इस पोस्ट में मैं Cover करने वाला हूँ। 

1. परिचय:-

 यहाँ पर आपको जिस Topic के बारे में निबन्ध लिखना है उसका परिचय देना है फिर उसके बाद निबन्ध के आगे का भाग हमें बताना होता है। 
तो यहां पर मैं उनके बारे में ज्यादा तो नहीं बताने वाला हूँ क्योकि वो किसी के परिचय के मोहताज नहीं है लगभग-लगभग उन्हें हर कोई जानता है। 
  • जन्म - 2 अक्टूबर 1869 को हुआ। 
  • जन्म स्थान - पोरबन्दर, काठियावाड़, गुजरात (भारत) में। 
  • मृत्यु - 30 जनवरी 1848 को हुआ।
  • मृत्यु स्थान - नई दिल्ली (भारत)
  • अन्य नाम - राष्ट्रपिता, महात्मा, बापू, गांधी जी। 
  • शिक्षा - यूनिवर्सिटी कॉलेज लन्दन।  
जैसे की  आप सभी जानते हैं महात्मा गाँधी का जन्म भारत के गुजरात राज्य के पोरबन्दर नामक स्थान में 2 अक्टूबर सन 1869 को हुआ था। महात्मा गाँधी के माता का नाम पुतलीबाई था और पिता का नाम करमचन्द गांधी था। महात्मा गाँधी की माता वैश्य समुदाय से सम्बन्ध रखती थी और वहीं गाँधी के पिता सनातन धर्म के पनसारी जाती से सम्बन्ध रखते थे। महात्मा गाँधी का नाम पहले मोहन दास था फिर बाद में उनको उनके पिता के नाम के साथ जोड़कर मोहन दास करमचन्द गाँधी के नाम से जाने जाना लगा।  

2. महात्मा गाँधी का जीवन-

my dear friends महात्मागांधी का जीवन संघर्ष पूर्ण रहा है उन्होंने ज्यादा तकलीफ तो नहीं पाई क्योकि उनके पिता अंग्रेजों के जमाने में दीवान हुआ करते थे। तो उनका बचपन भी उतने ज्यादा तकलीफ में नहीं गुजरा था।

उनके बारे में और अधिक जानकारी के लिए आप Wikipedia में देख सकते है फिर हाल मैं उनके बारे में यहां मेन मेन टॉपिक को छूते हुए चला जा रहा हूँ क्योकि आपके पास भी उतना ज्यादा समय नहीं होगा मेरे पास भी नहीं है।

विवाह -
महात्मा गाँधी का विवाह 13 साल के आयु पूर्ण करते ही कम उम्र में हो गया था और उनकी पत्नी का नाम कस्तूरबा था। जिन्हें "बा" कहके भी पुकारा जाता था। उस जमाने में उनका बाल विवाह हुआ था। क्योकि वह उस राज्य में प्रचलित था। अब महात्मा गाँधी और उनकी पत्नी को एक साथ नहीं रखा जाता था उस समय यह प्रथा होती थी विवाह के बाद के पुत्र और पुत्र वधु अपने अपने घर में रहा करते थे इस कारण उन्हें यानी महात्मा गांधी को पढाई के लिए अलग देश भेजा गया उन्हें विदेश भेजने में उनके बड़े भाई का हाथ था।
उन्होंने लन्दन में वकालत की डिग्री हासिल की और फिर वहां से मुम्बई के अदालत में वकालत करने के लिए आ गए लेकिन उनको यह काम जचा नहीं। इस प्रकार वे पेशे से वह वकील थे।

 3. महात्मा गाँधी की विशेषताएं-

महात्मा गांधी की विशेषताएं की बात की करें तो उनके विशेषता में उनका सांत व्यवहार बहुत ही बड़ी विशेषता थी। मेरे हिसाब से मैने महात्मा गाँधी के जीवन के बारे में पढा तो पाया की वाकई में उन्होंने अपने आप पर पूरा विजय प्राप्त कर लिया था।

सत्य प्रेमी -
 सत्यता उनकी सबसे बड़ी विशेषता रही है उन्होंने किसी भी प्रकार के अनर्गल बातों की ओर ध्यान नहीं दिया था। हमेशा सत्य की राह में चलने के लिए लोगों को कहते थे और खुद भी पालन करते थे ऐसा नहीं की वह सिर्फ कहते थे।

सहृदय -
उनके मन में भी कोई कपट की भावना नहीं थी और वह किसी से भी रूखा व्यवहार किया करते थे। सभी से एक जैसे व्यवहार वे करते थे।

स्वक्षता प्रेमी -
महात्मा गांधी के नाम पर आज स्वच्छ भारत का अभियान चलाया जा रहा है क्योकि वह बहुत ही ज्यादा स्वक्षता को ध्यान में रखते थे। और उन्होंने ही हरिजन की सुरुआत की थी।



इस प्रकार से महात्मा गाँधी की अनेक विशेषताए थी जिसमें बहुत सारे का वर्णन मैने यहां पर नहीं किया है।

लेखक -
महात्मागांधी ने कई सारे पत्र पत्रिकाओं का भी लेखन किया और इसके माध्यम से लोगों को जागरूक करते रहें। उनकी कुछ पुस्तके इस प्रकार हैं -

हिन्द स्वराज - जिस पर उन्होंने स्वराज की ओर इसारा किया है।
दक्षिण आफ्रिका के सत्याग्रह का इतिहास - दक्षिण अफ्रीका में सत्याग्रह का कैसा इतिहास रहा है इस पुस्तक में बताया गया है।
सत्य के प्रयोग (आत्मकथा) - जिस पर इन्होंने बताया है सत्य के उनके जीवन पर महत्व के बारे में। इस पुस्तक के माध्यम से वे सत्य के प्रयोग को अपने आंतरिक जीवन में करते हैं और इसके अनुभव को ही उन्होंने इस पुस्तक के माध्यम से बताया है।
गीता माता - इस पुस्तक के माध्यम से महात्मागांधी ने गीता के उनके जीवन पर प्रभाव को बताया है और उसका वर्णन उन्होंने न एक जाती के रूप में बल्कि इसका वर्णन उन्होंने एक जीवन को सफल बनाने वाले ग्रन्थ के रूप में किया है इस पर उन्होंने इसे सभी समस्या का समाधान बताने वाली गीता को गीता माता के नाम से सम्बोधित किया है। गीता में गया का खजाना है। इस पुस्तक में बताया गया है।

4. महात्मा गाँधी का पूरे देश पर क्या प्रभाव रहा-

महात्मा गाँधी को पूरे भारत में ही नही बल्कि पूरे विश्व में जाना जाता है। उनके धन संपत्ति के कारण नहीं बल्कि उनके प्रेम व्यवहार के कारण, सत्य निष्ठा के कारण।
भारत पर महात्मा गाँधी के व्यवहार के कारण वह बापू के  नाम से संबोधित किये गए और आज उन्हें हर कोई राष्ट्र पिता के नाम से जानता है।
जहाँ एक तरफ महात्मागांधी के अच्छे प्रभाव हैं वहीं दूसरी ओर कई आलोचना भी उनके ऊपर देखने को मिलते हैं।

ये आलोचनाएं उनके काम और सिद्धांतों को लेकर है।

जैसे -
जुलु विद्रोह के सम्बंध में कहा जाता है कि उन्होंने अंग्रेजों का साथ दिया था।
विश्व युद्ध के समय अंग्रेजों का साथ देना और उनसे डिल करना कि युद्ध में साथ देने के कारण देश को छोड़ने का फैसला अंग्रेजों द्वारा करना।
खिलाफत आंदोलन जैसे सम्प्रदायिक आनफॉलन को राष्ट्रीय आंदोलन बनाना।
अंग्रेजों के खिलाफ किये जाने वाले हिंसात्मक कार्य जो कि क्रांतिकारियों द्वारा किये जाते थे उनकी निंदा वह किया करते थे।
इस प्रकार बहुत से ऐसे कारण भी हैं जिसके कारण महात्मागांधी की निंदा हुई थी। और भी कारण हैं जिन्हें मैं नहीं लिख रहा हूँ समय के अभाव के कारण आप इसे पढ़ सकते हैं विकिपीडिया से और जान सकते हैं इससे भी और ज्यादा जानकारी पा सकते हैं।
महात्मागांधी जाती प्रथा का समर्थन समझते थे।

5. Conclusion (उपसंहार)-

महात्मागांधी के द्वारा किये गए कार्य को इतने कम शब्दों में बता पाना बहुत ही कठिन कार्य है इसके लिए एक लाईन में कहा जा सकता है की " महात्मा गांधी एक ऐसे व्यक्तित्व के धनी थे जो अपनी छाप पर भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी छोड़ने में कामयाब रहे। "

Mahatma gandhi essay in hindi kaise likhe-

Freinds ये निबन्ध मेरे द्वारा अलग अलग जगह से जानकारी जो मुझे अच्छी लगी उसे लेकर लिखा गया है आप चाहें तो इससे और भी अच्छा निबन्ध लिख सकते हैं।
निबन्ध को लिखने के लिए आपको बस एक बात का ध्यान रखना है की यहाँ पर जो भी कुछ शेयर करें वह ऐसे लगना चाहिए की आपने वाकई में कहीं से इसको पढा है।
निबन्ध को इस प्रकार लिखें माने जीवन्त हो और आप उसके बारे में उसके सामने बता  रहें हों।

धन्यवाद!

इन्हें भी पढ़ें




Wednesday, August 28, 2019

,

Agar ek sabd me ans de to Bharat ki rajdhani New Delhi hai agar New Delhi ke bare me aur jankari chahte hai to aage read kare,



Bharat ki Rajdhani

New Delhi purani delhi ka ek hissa hai jaha par kai mugal sasko ne sasan kiy hai. british kal me iski new rakhi gai thi. pahle bharat ki rajdhani Kokata tha bad me new delhi ko rajdhani banaya gya. delhi bharat ki rajdhani hone ke karan yaha par sarkar ki tino ikaiya yaha par hai -karyapalika, nyaypalika aur sadan sthapit hai. yaha mahanagar yamuna  nadi ke kinare basa hua hai.






Agar Delhi ki purani naam ke bare me bat kare to mahabharat ke aadhar par Delhi ka naam indraprasth tha, 


Delhi Turisme 

 Delhi me Ghumne layak jagah ki bat kare to yaha lal kila bahut hi achha place hai log door door se ise dekhne ke liye aate hai. india get ke bare me to aap jante honge ye bhi delhi me hai. yah ek kendra sasit pradesh tha lekin bad me ise ek state bana diya gya,  new Delhi purani Delhi ka ek hissa hai jo bharat ki Rajdhani hai. puratatwik itihash yaha par purana kila safdarjang ka makbara, kutub minar aur lauh stambh jaise anek viswprasidh nirman hai.

Delhi ka Naksha

Delhi map





Delhi education

 Delhi india ki rajdhani hone ke karan yaha par shiksha bhi bahut teji se shiksha ka vikash hua hai yaha par kai viswvidhyalay bane jo india kr top vishwvidhyalaya hai. guru govind shih indraprasth viswvidhyalay

Tuesday, August 27, 2019

,
Hello and welcome friends आपका स्वागत है मेरे ब्लॉग rexgin.in पर आज मैं बात करने वाला हूँ Business के बारे में बहुत सारी बातें जिसमें मैं आपसे share करूँगा ढेर सारी Business Ideas hindi me आपके साथ तो दोस्तों इससे पहले भी आपने और भी कई सारे ब्लॉग या बिजनेस से जुड़ी Topics के बारे में पढा होगा।

Business idea


BUSINESS IDEA HINDI ME

इस पोस्ट को में क्या है खास मैं आपको बता देता हूं दोस्तों इस पोस्ट को मैने Besiclly उन लोगॉ के लिए लिखा है जिनके यहां पर ज्यादा Business ideas गांव के लिए है। या ऐसे इलाकों के लिए है जहाँ पर लोग ज्यादा पैसे लगाने की नहीं सोचते हैं या गरीब होते हैं तो उन्हीं लोगों के लिए मैं यहां पर आपके लिए 17 best Business ideas hindi में लेकर आया हूँ इससे पहले मैं आपको Business के बारे में थोड़ा सा Intro दे दूँ जो नए readers हैं वो मेरे ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर कर लें क्योकि आज से हर रोज इसमें नये पोस्ट आने वाले हैं।

Business Kya Hai (क्या है बिज़नेस?)

Business को हिंदी में व्यपार भी कहा जाता है दोस्तो आज के इस competion में Business ही एक ऐसा माध्यम है जिससे आप ढेर सारे पैसे कमा सकते हैं।
Business एक प्रकार का व्यापक क्षेत्र है जिसको करने के लिए ज्यादा पैसे की जरूरत नहीं होती है, और मैं मानता हूँ जिस Business को करने में ज्यादा पैसे invest करने पडे वह business नहीं है वह एक प्रकार का जुआ है।
Business करने के लिए कोई रोक टोक नहीं है Small Business के लिए लेकिन यदि आप बहुत बड़ा Business करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको इजाजत लेने की जरूरत पड़ सकती है।
तो मेरे हिसाब से Business एक प्रकार से पैसे कमाने का एक ऐसा माध्यम है जिसमें कोई किसी प्रकार से आपके ऊपर डाट-दबाव नहीं कर सकता है और न ही किसी प्रकार के आदेश आपके ऊपर चला सकता है। और इसमें पैसे कमाने की सीमा आपके ऊपर निर्भर करता है। इसलिए मैं इसे नौकरी से बेहतर मानता हूँ।





Types of Business

दोस्तो अगर बात करें Business के Types(प्रकार) की तो यह मेरे हिसाब से दो ही प्रकार का होता है जो की इस प्रकार है-

Small Business
Big Business


Small Business(लघु उद्योग या छोटा व्यपार)

- एक प्रकार का ऐसा Business जो की छोटे से बड़े Business को बनाने में लोगों की मदद करता है। या यूं कहें हर Business की शुरुआत इसी प्रकार के small Business से होती है।
इस पकार के Small Business में ज्यादा पैसे invest करने की आवश्यकत नहीं होती है। आप इस प्रकार के Business को हजार पांच सौ या फ्री में भी Start कर सकते हैं बस आपको धैर्य ज्यादा समय तक रखना होता है।
Business पूर्ण रूप से Costumers के ऊपर Depend करता है इसलिए आप कोई भी Business करते हैं तो उसमें ग्राहक का होना उतना ही जरूरी है जितना की पैसे का है।

Big Business (दीर्घ व्यापार)




- इस प्रकार के Business में बहुत ज्यादा पैसे की जरूरत होती है और इसके करने के लिए ज्यादा ग्राहक की आवश्य्कता भी होती है investers अगर मिल जाते हैं तब तो यह Big Business चल पड़ता है, नहीं तो सबसे ज्यादा घाटा इसी प्रकार के ज्यादा पैसे वाले Business में होता है।
जैसे मैं यहां उदाहरण लेता हूँ एक बड़े होटल का तो यहां पर मुझे बहुत ज्यादा पैसे लगाने पड़ेंगे।
इसी प्रकार इसके छोटे रूप या Small Business की बात करें तो जैसे Tea-stol की बात करूं तो इसमें आपको ज्यादा पैसे लगाने की जरूरत नहीं है।
तो हर Big Business की शुरुवात छोटे से Business से होती है अब आप देश के बड़ी बड़ी कम्पनियों का उदाहर ही ले ले कैसे HP, Microsoft, Apple इन सभी Company की शुरुआत एक गैरेज से हुई थी।
तो ये तो हुए Business के प्रकार की बात अब बात करते हैं Business Ideas के बारे में।

Small Business Idea for Villagers(ग्रामीणों के लिए छोटे व्यपार)

दोस्तों गांव एक ऐसी जगह है जहां पर न तो बहुत ज्यादा ग्राहक हमें मिलते है और न हीं बहुत ज्यादा investers तो गांव में क्या ऐसा करें की आपको कम पैसे में ही ज्यादा Profite मिल सके। इसी पर चर्चा करते हैं आगे-

1. Blogging Best Business for Villagers(blogging सबसे बढ़िया व्यापार है गांव के लिए)


Blogging मेरे हिसाब से गांव में रहने वाले उन पढ़े लिखे नौजवानों के लिए best Business है जिनके पास Knowledge है, जो अपनी बात लोगों के साथ शेयर करने में बहुत ही Proud Fill करते हैं उनके लिए ये Best है और इसमें आजकल बहुत सारे क्षेत्र भी आ गए हैं जहां पर आप ब्लॉगिंग में जानकारी शेयर कर सकते हैं।
जैसे की अगर आप छत्तीसगढ़ से हैं और आपको छत्तीसगढ़ में घूमना बहुत पसन्द है या आपको छत्तीसगढ़ से जुड़ी बहुत सारी जानकारी मालूम है तो आप इस ब्लॉगिंग के माध्यम से शेयर कर सकते हैं।
Blogging में ज्यादा पैसे invest करने की आवश्य्कता नहीं है आपको यह एक साल के लिए ज्यादा से ज्यादा 2500 रुपये के आस पास खर्च करने होंगे।
यह फ्री में भी चालू किया जा सकता है जो की Google द्वारा संचालित एक Platform Blogger.com के नाम से तो आप वहां Free में Account Creat कर सकते है और जब तक चाहें ब्लॉगिंग कर सकते हैं ये Free of Coast है।
फिर बाद में आप इसमें इनकम होने पर पैसे लगाकर और ज्यादा Facility Provide करके ज्यादा पैसे कमा सकते हैं।

2. Mushroom का Business (मसरूम का व्यपार)-


दोस्तो आज लगभग हर गांव एक ना एक शहर जैसे जुड़ा हूआ है या गांव के पास 10 किलोमीटर तक कोई न 
कोई गांव जरूर होता है जहां पर आप मसरूम की बिक्री कर सकते हैं आप यदि गांव में रहते हैं तो आपको पता ही होगा की गांव में कई तरह के प्राकृतिक मसरूम भी मिलते हैं जिन्हें खाया जाता है तो आप इसे शहर में लेजाकर बेच सकते हैं या किसी के माध्यम से बेचवा सकते हैं इस प्रकार की खेती भी आजकल सरकार के माध्यम से अनुदान के रूप में लोन ले के किया जा सकता है अगर आपके पास अच्छी सी जगह है तो घर में आप इसकी खेती करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।

3. Mobile Repairing(मोबाईल बनाना)-


अगर आपमें थोड़ी बहुत Mobile से related knowledge है तो आप इसका Repairig Cours करके अपना छोटा सा दुकान खोल सकते हैं आपके लिए यह बहुत ही ज्यादा Profitable हो सकता है क्योकि आजकल हर जगह मोबाइल का चलन बहुत ज्यादा हो गया है तो आप इसमें अपना अच्छा करियर बना सकते हैं। आज हर कोई मोबाइल use करता ही है और यदि आप छत्तीसगढ़ में रहते हैं तो आपको तो पता ही होगा की संचार क्रांति योजना का लाभ अभी बहुत ज्यादा लोगों को मिला है तो इससे जाहिर सी बात है की कुछ न कुछ खराबी तो इन सभी मोबाइल्स में आ ही सकता है तो ये आपको करना चाहिए।
Mobile Repaireng Shop खोलने के लिए ज्यादा पैसे की जरूरत नहीं होती है।

4. General Stor Business (किराना दुकान व्यपार)-


इस प्रकार के Business से आपको बहुत ज्यादा फायदा हो सकता है क्योकि ग्रामीण इलाको में ज्यादातर समान आसानी से उपलब्ध नहीं होता है अगर आपको कुछ यूनिक करने की Quality है तो आप इसमें बहुत आगे तक जा सकते हैं।
इस प्रकार के Business माना की अभी गांवों में भी Compitition बढ़ गया है लेकिन अगर आप कुछ Unique कर सकते हैं तो आपको इसमें ज्यादा फायदा होगा।

5. Coching Center (कोचिंग सेंटर)-





पढाई में Compitition के बारे में आपको पता तो होगा ही की कितना ज्यादा अभी है। आपको किसी subject में अच्छी पकड़ है तो आप Coching Center खोल सकते हैं छोटे बच्चों के लिए आज कल बहुत सारे प्राइवेट स्कूल खुल गये हैं जिनमें पढ़ने वाले बच्चों के माँ-बाप Tution Class भेजना चाहते हैं।
इससे आपको अच्छी इनकम हो सकती है अगर आप किसी बच्चे से 200 रुपये हर महीने के ले रहें तो पर भी आपको इससे बहुत ज्यादा फायदा मिल सकता है। मान ले की आपके पास 20 बच्चे पढ़ने आ रहें है और आप उन्हें 1 घण्टे पढा रहें है सुबह और साम को भी आप ऐसे ही 20 बच्चों को पढा रहें है तो आपको एक महीने में 8000 हजार रुपये यू ही मिल जाते हैं। बस आपको दिन के 2 घण्टे ही देने हैं।

6. Freelaucer Business(स्वतन्त्र व्यपार)-


आपको यदि किसी Feild के बारे में अच्छी Knowledge है तो आप internet के माध्यम से freelancer का काम कर सकते है इससे आपको अच्छी इनकम भी हो सकता है और यह आप जब चाहे तब कर सकते हैं।
जैसे आपको लिखना अच्छा लगता है तो आप किसी से Order लेके लिख सकते है या आप इसमें अपना कमीशन एड करके किसी और से लिखाकर पैसे कमा सकते हैं बस आपको दिमाग लगाना है फिर पैसे कमाना आपके लिए आसान हो जाएगा।

7. Social Media Business(सामाजिक जाल स्थल व्यपार)-


आपको पैसे कमाने के लिए जो अच्छा लगे उससे पैसे कमाएंगे ओ वो आपके लिए अच्छा होगा। लेकिन अगर आपको Social Media के बारे में थोड़ी बहुत अच्छी पकड़ है तो आप किसी आदमी के Social Media Manager बनके भी पैसे कमा सकते हैं। इसमें आपको उससे या उस कम्पनी से सम्पर्क करना है जिनका व्यपार social Media पर प्रचार के लिए चलाया जाता है।
उनसे आप पैसे लेकर यह काम कर सकते हैं। इसके लिए बस आपको मोबाइल की जरूरत पड़ती है। बांकी सब उस कम्पनी के अकाउंट से ही आपको सब कुछ Hendal करना होता है। तो ये भी बिना इन्वेस्टमेंट के किया जा सकता है। इसमें किसी Office जाने की आवश्य्कता नहीं होती है।

8. Canteen या नाश्ते की दुकान -


इस प्रकार के Business में किसी प्रकार के ज्यादा पैसे आपको लगाने नहीं होते हैं और आपको बस मेहनत करने पड़ते हैं। जैसे जैसे आप मेहनत करते जाते है आपको बहुत ज्यादा इनकम इससे हो सकता है। आजकल हर कोई खाने लेकर कहीं नहीं जाता है।
और वह नाश्ते से ही काम चला लेता है। तो आप अगर किसी शहर के पास में रहते है तो आपको इस प्रकार से छोटे से नाश्ते की दुकान खोलने में भी ज्यादा profit हो सकता है।
आजकल ऑफिस वाले भी नाश्ते कर के ही दोपहर का गुजारा कर लेते हैं तो ऐसे में यदि आप शहर के पास से हैं तो आपको इस प्रकार के दुकान खोलने में ज्यादा फायदा हो सकता है।

9. Dry Fruite stor(सूखे सब्जी की दुकान)-

अगर आप गांव में रहते है या शहर में भी रहते हैं तो आपके लिए ये बेस्ट तरीका हो सकता है पैसे कमाने का क्योकि आप तो जानते ही हैं की आजकल हरे सब्जियों के भाव कितने ज्यादा बढ़ गये है और इस कारण लोग खुले या सुखी सब्जियों को खाना बहुत ज्यादा पसन्द करते हैं।
इस प्रकार के Business ने सुखी मछलियां भी आ जाती हैं इसको शहरों में बड़े चाव से खाया जाता है और गांव में सबसे ज्यादा इसका उत्पादन होता है तो ये आपके लिए बेस्ट हो सकता है।

10. Backery Business-


इस प्रकार के व्यपार में आपको ज्यादा पैसे Invest करने की आवश्य्कता नहीं होती है। आप खुद की बेकरी खोल के बहुत ज्यादा तो नहीं लेकिन इतने पैसे अवश्य कमा सकते हैं जितने की आपको जरूरत होती है और आप धीरे धीरे इस आगे बड़ा कर सकते हैं।
इसमें वैसे भी आजकल बहुत ज्यादा स्कोप होता जा रहा है क्योकि हर कोई आजकल अपने बर्थडे और कोई भी एनिवर्सरी में केक को लेते जरूर हैं तो ये आपके छोटे से दुकान से स्टार्ट कर सकते हैं।

11. Youtube Business-


अभी के समय Youtube सबसे ज्यादा देखा जाने वाला वेबसाइट है जहां लोग अपना समय सबसे ज्यादा यहां बिताते हैं। और अगर आपमें कोई Creativity है तो आपको भी Youtube बनाने में कोई खर्च करने की जरूरत नहीं होती है। अगर आप Pasonate है किसी भी प्रकार की ऐसे ज्ञान आपमें हैं जो लोगों के लिए उपयोगी हो सकतें हैं तो आप इस प्रकार के फ्री के youtube channel बना के इससे Earning कर सकते हैं।

12. Vehicle Repairing Center -


आज कल गाड़ी मोटर का चलन बहुत ज्यादा हैं और यदि आपनें कहीं से कोई Repairing का Cors कर लिया है तो आप उसे Repair करने वाले Repairing Shop खोल सकते हैं। यहाँ पर आपके ज्यादा पैसे नहीं फसते हैं इसमें जितना भी पैसा फ़सना है वह Repairing के लिए प्रयोग किये जाने वाले Tools के ऊपर ही पैसे खर्च करने की आवश्य्कता होती है।
तो ये भी एक अच्छा Frofitable Niche हो सकता है आपके लिए।

13. Bike Repairing Center-


अगर आपको Bikes में ज्यादा Interest है तो आप Bike Repairing का कॉर्स करके भी अपने लिए छोटे से workshop खोल सकते हैं इसमें भी आपको बाइक को बनाने के लिए आवश्यक समान को ही लेना होता है। बस फिर क्या है आप जितना ज्यादा Repairing करते जाते है आपको उतना ही ज्यादा Profite होता है। और आप किसी और को part के लिए दुकान खुलवा सकते हैं जिससे आप उससे कमीशन भी ले सकते है नहीं भी लेते हैं तो आस-पास में इस प्रकार के दुकान होने के कारण आपका Repairin Center अच्छे से चलता है।
इसका पैसा आप इस पर Invest करके और अच्छे के कमाई कर सकते हैं।

14. Agarbatti Business(अगरबत्ती लघु उद्योग)-


अगर बत्ती का छोटा सा उद्योग आपके लिए Profitable हो सकता है क्योकि आजकल सरकार भी इसके लिए अनुदान दे रहा है जिसके सहायता से अगर आप Business Start करते हैं तो ये आपको सस्ता पड़ता है और आप इसकी शुरुआत छोटे-छोटे ब्रांच से भी कर सकते हैं इसमें ज्यादा Manpaower की आवश्य्कता होती है।
यह एक ब्रांड़ बन सकता है और बहुत आगे जा सकता है।

15. Gift Corner Business-

Gift आज कल हर कोई इसके बारे में जानता है और यह गांव में भी खूब चल सकता है और शहर में तो सबसे ज्यादा चलता है। कई ऐसे अवसर होते हैं जिनमें Gift की आवश्य्कता होती है। तो ये आपके लिए profitable तरीका हो सकता है।
इसमें किसी बड़े Item की आवश्य्कता नहीं होती है आप कई सारे छोटे-छोटे आइटम रख सकते हैं। जो की ज्यादा खर्च नहीं करने पड़ेंगें इसके लिए।

16. Vehicle Wash(गाड़ी धोना)-


कार धोने का समान ज्यादा महंगा नहीं होता है और यह आपके लिए Profitable हो सकता है क्योकि आज-कल गाड़ी मोटर की संख्या बहुत ज्यादा हो गई है इस कारण आपको इसे और भी ज्यादा फायदा हो सकता है। इसमें किसी भी प्रकार के ज्यादा जगह की आवश्य्कता भी नहीं होता है।

17. Decorating Business-


आज कल बहुत सारे शहरों में कई सारे funcions Organize किये जाते हैं। इस कारण आपको ये Decorating का Cors कर लेना चाहिए और आपको इसमें किसी भी प्रकार के पैसे Invest करने की आवश्य्कता नहीं होती है। आपको जो भी Decoration का सामान है वह उस घर के मालिक के द्वारा दिया जाता है या आप खुद Arenge करते हैं तो आपको किसी से उधारी भी ये समान मिल जाते हैं। इस प्रकार यह भी एक अच्छा Profitable business हो सकता हैं।

Conclusion-





आपको जो भी Business Ideas आपके मन में है मेरे साथ Hindi में Discus कर सकते हैं। आपको जो Business idea यहां पर बताए गये है वह सब कम पैसे में ही शुरू किये जा सकते हैं और कई ऐसे Business है जिनको फ्री में चालू किया जा सकता है। आपको जो भी काम पसन्द हो आप वहीं Business Idea को अपने आप में Impliment करें क्योकि इससे आप जल्दी बोर नहीं होंगे और इसे लम्बे समय तक कर सकते हैं।
धन्यवाद!
ओके बाय मिलते हैं अगले पोस्ट में

Other topic

Monday, July 1, 2019

,
HEY Welcome in my blog दोस्तों आपने तो Good Friday के बारे में सुना ही होगा लेकिन क्या आप जानते है की इस दिन को ऐसा क्या होता है की इसे good friday कहा जाता है?
नहीं जानते तो इस पोस्ट को शुरू से लेकर आखरी तक पढ़ते रहिये आपको समझ में आ जाएगा की इस दिन को

Good Friday क्यों कहा जाता है?

good friday img

दोस्तों आपने प्रभू यीशु मशीह के बारे में जरूर सुना होगा उन्हें भगवान के पुत्र के रूप में माना जाता है। भगवान ईशू के इसी कहानी को लेकर लोगों में यह भ्रांति फैल रही थी की आखिर कोई भगवान का पुत्र कैसे हो सकता है और भगवान भला ऐसे कैसे कर सकता है । इसी बात पर लोग भगवान यीशु को धोखा देने वाले कहकर उनसे नाराज हो गए और इसी नाराजगी की वजह से उन्हें इसी दिन GOOD FRIDAY जे क्रॉस पर किलों से लटका दिया गया था तब से लेकर आज तक उन्हीं की याद में ये दिन मनाया जाता है ।




GOOD FRIDAY किन किन लोगों द्वारा मनाया जाता है ?

वैसे तो यह GOOD FRIDAY का दिन सबसे ज्यादा क्रिश्चियन लोगों के द्वारा मनाया जाता है। भगवान यीशु की याद में लेकिन इसे मनाने के लिए कोई पाबन्दी नहीं है इसे कोई भी मना सकता है । यह उन्हीं क्रिश्चियन्स का त्योहार होता है लोग इन्हें इनकी ही त्योहार के नाम से जानते हैं।  इसलिए इसे क्रिश्चियन का त्योहार कहा जाता है ।

GOOD FRIDAY कैसे मनाया जाता है ?

GOOD FRIDAY को लोग अपने अपने तरीके से कैसे भी मना सकते हैं। इस प्रकार ये सार्वजनिक दिन है जिसे सबसे ज्यादा क्रिचिश्यन लोग सेलिब्रेट करते हैं।

other general knowledge


  1. selfi se jude rochak tathya
  2. History of telephone
  3. Indian space research center


Friday, May 17, 2019

,
मेरे सभी दोस्तों का एक बार फिर से स्वागत करता हूँ।
आज मैं आपको पं. रविशंकर शुक्ल यूनिवर्सिटी के द्वारा लिए जाने वाले CBS परीक्षा के बारे में बताने वाला हूँ। इसका सार लास्ट में है आप लास्ट तक पढ़ें आपको पोस्ट जरूर अच्छा लगेगा।

क्या है CBS Entrance Screening Test 2019

ये एक प्रकार का Test (परीक्षा) है जो कि pt. Ravishankar shukla University के द्वारा लिया जाता है।





CBS-Entrance Screening Test 2019

क्या योग्यता होना चाहिए इस CBS Exam में भाग लेने के लिए?

इस CBS-EST 2019 में भाग लेने के लिए आपको 12वीं पास होना आवश्यक है न्यूनतम 55% अंकों के साथ अगर आप किसी भी कैटेगरी से bilong नहीं करते हैं हो आपका 12वीं में 60% होना अनिवार्य है। आपके 12वीं पास करने का माध्यम हिंदी एवं अंग्रेजी दोनों में से कोई भी एक होना चाहिए।
अगर उम्र की बात करें तो CBS में Exam दिलाने के लिए आपका जन्म 01 जुलाई 1999 को या के बाद होना चाहिये।

CBS TEST 2019 में किस आधार पर चयन किया  जाता है?

जैसे कि मैंने आपको पहले ही बताया है कि इसके लिए आपको पेपर दिलाना होता है और जब आप पेपर में पास हो जाते हैं तब वहां पर CBS (Centre for Basic Science) में Admission के लिए मेरिट लिस्ट निकाला जाता है।
जिसके आधार पर वहां पर आपका चयन किया जाता है।
तो पेपर दिलाने से कुछ नहीं होने वाला आपको अच्छे नम्बर लाने की होंगें CBS 2019 या किसी भी सत्र के CBS Exam हो उसमें।
तभी आपको इसमें Admission मिलेगा।
CBS Exam में कितने सीट का आरक्षण है?
आपके लिए यहाँ पर कुल 60 दिए जाते हैं जिसे फिर Category के हिसाब से अलग अलग विभाजित किया गया है।
और आपको Counseling के समय निवास प्रमाण पत्र की अनिवार्यता होगी। आपके पास होना अनिवार्य है।

CBS-EST 2019 Examination Schedule

इस परीक्षा का आयोजन रविशंकर यूनिवर्सिटी के द्वारा 11 जून 2019 को किया जाएगा।
तथा परीक्षा का समय सुबह 11 बजे से दोपहर के 2 बजे तक का रहेगा।

Examination rule

तथा विद्यार्थोयों को परीक्षा हाल में आधे घण्टे पहले उपस्थित होना है। 11 बज के 30 मिनट के कोई भी परीक्षा में बैठ नहीं सकते है।
परीक्षा पूर्ण हो जाने के बाद परीक्षार्थी अपना रिजल्ट 20 जून को CBS के वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं।
जो विद्यार्थी इस परीक्षा जो पास कर लेते हैं उन्हें काउंसलिंग के लिए बुलाया जाएगा।

Questions type

प्रश्न पत्र दो भाग में बटा होगा एक भाग Compulsory होगा। और दूसरा भाग Optional होगा।
पेपर हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में होंगे।

Syllabus

CBS का Syllabus 11वीं और 12वीं के अनुसार होगा। जैसे कि आपने CGBSE से Exam पास किया है तो आपका प्रश्न पेपर इसके अनुसार होगा।

CBS Form कैसे भरना है

To Apply for CBS-EST 2019 फार्म online भरना है भरने के लिए आप इसकी वेबसाइट www.cbsraipur.ac.in पर जाएं। और फॉर्म भरें।

Application Fee:

आपको इसमें अपने Category ये हिसाब से फीस जमा करने होते हैं। पिछले कई साल के मुकाबले इस साल मुझे इसका फीस कुछ ज्यादा लग रहा है। इसमें जो आप फीस जमा करते हैं उसका कोई रिफंड नहीं होता है। यानी कि वापसी नहीं होता है। तो आप सावधानी से फीस जमा करें।
Fees For OBC and GENERAL - 1000/-
Fees For ST and SC Category-  550/-
अगर और ज्यादा जानकारी चाहते है तो आप सीधे CBS बोर्ड से मेल के माध्यम से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
Email: cbsprsu@gmail.com

Conclusion:





इस परीक्षा को दिलाने का क्या फायदा है? ये सवाल आप सभी के मन में उठ रहा होगा तो इसी का जवाब देने जा रहा हूँ मैं।
इस परीक्षा को अगर आप दिलाते हैं और पास हो जाते है सलेक्शन हो जाता है आपका तो आपको हर महीने आपको 5000 रुपये का स्कॉलरशिप दिया जाता है।
तथा इसके अलावा जो विद्यार्थी जो मेधावी छात्र या छात्रा होते हैं उनको गर्मी में बाहर ले जाने के लिए 20000 रुपये दिए जाते हैं।
आप भी चाहते हैं कि आपके परिवार का या आपका कोई मित्र ऐसी पढाई करे तो आप उन सभी को ये जानकारी शेयर करें।
क्या पता उनका भला हो जाये।
मिलते हैं अगले पोस्ट के साथ तब तक के लिए
thanks