ads

Showing posts with the label Hindi Sahitya

पुरस्कार कहानी की विशेषताएं

पुरस्कार कहानी की विशेषताएं पुरस्कार कहानी जयशंकर प्रसाद के द्वारा लिखी गई कहानी है पिछले पोस्ट में हमें बात किया था पुरस्कार कहानी के उद्देश्य के बारे में इस पोस्ट में हम बात करने वाले हैं पुरस्का…

पुरस्कार कहानी का उद्देश्य लिखिए

आपका स्वागत है हमारे ब्लॉग में पिछले पोस्ट में मैंने आपके साथ साझा किया था पुरस्कार कहानी के सारांश के साथ पूरी कहानी इस पोस्ट में हम बात करने वाले हैं पुरस्कार कहानी का उद्देश्य मैंने पुरस्कार कहानी…

मैथलीशरण गुप्त द्वारा लिखित साकेत महाकाव्य के आधार पर कैकेई का चरित्र चित्रण कीजिए।

Hello friends पिछले पोस्ट में हमें बात किया था  मैथिलीशरण गुप्त द्वारा लिखित साकेत महाकाव्य  की व्याख्या के बारे में आज इसकी चर्चा को आगे बढ़ाते हुए आइये बात करते हैं - इसी काव्य की पात्र या कहें रा…

Bihari Satsai Sampadak Jagannath Das Ratnakar 50 Dohe Hindi Sahitya part two

हिंदी साहित्य- बिहारी रत्नाकर -सतसई  बिहारी रत्नाकर के दोहे सम्पादक - जगन्नाथ दास रत्नाकर   दीरघ साँस न लेहि दुख, सुख साईहिं न भूलि।  दई दई क्यौं करतु है, दई दई सु क़बूलि।।51।। बैठि रही अति सघन बन, पै…

Bihari Satsai Sampadak Jagannath Das Ratnakar 50 Dohe Hindi Sahitya

Bihari Satsai  Sampadak - Jagannath Das Ratnakar बिहारी-रत्नाकर सतसई  सम्पादक जगन्नाथ दास रत्नाकर  दोहे मेरी भव बाधा हरौ, राधा नागरी सोइ। जा तन की झाँई परैं स्यामु हरित-दुति होइ।। 1 ।। अपने अंग के जा…

भ्रमरगीत सार : सूरदास पद क्रमांक 81 सप्रसंग व्याख्या By Rexgin

भ्रमर गीत सार : सूरदास सम्पादक आचार्य रामचंद्र शुक्ल Hindi Sahitya Bhramar Geet Sar Surdas Pad 81 Vyakhya By Rexgin भ्रमर गीत व्याख्या भ्रमरगीत सार (व्याख्या) 81. राग मलार  मधुकर रह्यो जोग लौं नातो। …

भ्रमरगीत सार : सूरदास पद क्रमांक 82 सप्रसंग व्याख्या By Rexgin

भ्रमर गीत सार : सूरदास सम्पादक आचार्य रामचंद्र शुक्ल Hindi Sahitya Bhramar Geet Sar Surdas Pad 82 Vyakhya By Rexgin सम्पादक आचार्य रामचंद्र शुक्…
Subscribe Our Newsletter