ads

स्वच्छता अभियान में छात्रों की भूमिका | Essay on Role of students in cleanliness campaign in hindi

 8.  स्वच्छता अभियान में छात्रों की भूमिका 

किसी भी निबंध को लिखने से पहले हम उसकी रूपरेखा तैयार करते हैं तो इसकी रूपरेखा इस  प्रकार से हमें तैयार किया है आइये देखें -

रुपरेखा - 

  1. प्रस्तावना 
  2. स्वच्छता अभियान 
  3. छात्रों की भूमिका 
  4. उपसंहार 

    प्रस्तावना - संसार का हर जीव सुख चाहता है लेकिन सिर्फ चाहने से ही न तो आज कोई सुखी हुआ है, न होगा। जब तक आप उसके लिए प्रयास नहीं करेंगे आपको कभी भी सुख नहीं मिलेगा। सुख एक आकाश पुष्प के समान असम्भव  तब-तक बना रहेगा जब तक उसे पाने की चाह में इंसान कुछ ऐसा नहीं करेगा जो की सुख पाने के लिए बहुत ज्यादा जरूरी है। सबसे बड़ी बात यदि आपको सुख चाहिए तो आपको अपने आप को बदलना होगा। 

    सुखी रहने के बहुत सारे तरिके हैं इनमें से एक तरीका और सबसे अच्छा तरीका है - "स्वच्छता" वर्तमान समय में हमारे देश में 'स्वच्छंदता अभियान' पर बहुत जोर दिया जा रहा है। हमारे देश के वर्तमान (2022) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा पूरे देश में स्वच्छंदता अभियान जोर शोर से चलाया जा रहा है। 

    स्वच्छता अभियान - "स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत" ये नारा बड़े जोर-शोर से हमारे देश के कोने-कोने में गूँज रहा है। 

    महात्मा गाँधी ने सभी भारतवासियों को साफ़ सफाई के प्रति जागरूक होने का संदेश दिया था। वे भारत को स्वच्छ भारत के रूप में देखना चाहते थे, जिसमें कि लोग स्वयं से अपने आसपास की सफाई करें। 

    महात्मा गाँधी के इसी नजरिये को हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी में ने "स्वच्छ भारत अभियान" के रूप में परम पूज्य महात्मा गाँधी के जन्म दिवस 2 अक्टूबर, 2014 को उद्घाटित किया और लोगों से आग्रह किया कि वे अपने आसपास की सफाई करके इस अभियान को सफल बनाए। 

    इस मिशन को पूर्ण होने में पाँच साल से भी ज्यादा समय लग गया है और काम अभी भी चल रहा है, फिर भी इसे पूर्ण करने के लिए पाँच साल का लक्ष्य रखा गया था जिससे बापू की 150 वीं सालगिरह पर हम इस कर्तव्य को पूर्ण कर पाये। 

    स्वच्छ भारत अभियान के तहत लोगों से आग्रह है कि वे 100 घंटे प्रतिवर्ष स्वच्छता को समर्पित करें। 

    इस अभियान को सफल बनाने हेतु मोदी जी ने हमारे देश के 9 जानी मानी हस्ती मृदुला सिन्हा, सचिन तेंदुलकर, बाबा रामदेव, शशि थुरूर, अनिल अंबानी, कमल हासन, सलमान खान, प्रियंका चोपड़ा और "तारक मेहता का उल्टा चश्मा" टी.वी. सीरियल के कलाकारों से आग्रह किया कि वे स्वच्छ भारत अभियान से जुड़े और अधिक से अधिक लोगों को जोड़कर इस श्रृंखला को आगे बढ़ाएँ। और आम लोगों से भी आग्रह किया कि वे इस कार्य को सफल बनाने में सहयोग दें। 

    छात्रों की भूमिका - विद्द्यार्थी जीवन पुरे जीवन का स्वर्णिम समय है। इसी अवस्था में ज्ञान प्राप्त करते हुए संस्कारों को अपनाया जाता है, क्योंकि इस अवस्था में बुद्धि तीव्र होती है व् मन निर्मल होता है। इस काल में विद्यार्थी के भीतर सीखने व् कुछ करने की अलग ही उमंग होती है। यह अवस्था सारे जीवन की बुनियाद है। विद्यार्थी को देश की आशा देश का भविष्य, भावी पीढ़ी का कर्णधार माना जाता है। 

    हम बचपन से ही विद्यार्थियों को सफाई का महत्व सिखाएँगे तो निश्चित ही एक दिन हम स्वच्छ भारत के स्वस्थ भारत के रूप में जाने जाएँगे। 

    उपसंहार - आज हर विद्द्यार्थी का परम कर्तव्य है कि वे अपने आस-पास को स्वच्छ रखे, अपने आपको स्वच्छ रखें व् साफ सफाई का संदेश अन्य लोगों को भी दें। तभी ये अभियान सफलता की सीढ़ी तय करेगी। 

आपको यह निबंध कैसे लगा हमें अपने सुझाव इस फॉर्म के माध्यम से जरूर दें। 

Subscribe Our Newsletter