स्थलमंडल किसे कहते हैं - what is the lithosphere

उत्पत्ति के बाद से आज तक पृथ्वी में अनेक परिवर्तन हुए हैं, और होते रहेंगे। पृथ्वी का लगभग 29 प्रतिशत भाग स्थलमंडल और 71 प्रतिशत भाग जलमंडल से घिरा हुआ है। हमारी पृथ्वी पर तीन प्रमुख मंडल पायी जाती हैं।  जिन्हें स्थलमंडल, जलमंडल एवं वायुमंडल कहा जाता है। 

स्थलमंडल किसे कहते हैं

स्थलमंडल पृथ्वी का सबसे महत्वपूर्ण भाग है। पृथ्वी पर जितने भी भूमि क्षेत्र हैं। वह स्थल मंडल कहलाता है। इनमे ऊँचे पर्वत, बड़ी-बड़ी नदियाँ और घाटियाँ पाई जाती हैं। कहीं विशाल पठार हैं तो कही विशाल मैदान पाए जाते हैं। पृथ्वी की सबसे बाहरी परत को ही स्थलमंडल कहा जाता हैं।

स्थलमंडल ग्रह की कठोर आवरण होता है। पृथ्वी पर यह क्रस्ट और अपर मेंटल से बना है जो हजारों साल या उससे अधिक के समयके परिवर्तन का परिणाम है।

स्थलमंडल किसे कहते हैं - what is the lithosphere

स्थलमंडल की संरचना

सबसे पहले आपको यह जानना होगा कि पृथ्वी का ठोस भाग एक सामान पदार्थ से नहीं बना है। दूसरे शब्दों में कहा जाय तो इसमें चट्टानों की अलग-अलग परतें हैं। जिनमें शीर्ष पर तलछटी चट्टानें शामिल हैं, फिर बीच में ग्रेनाइट और मेटामॉर्फिक चट्टानें हैं। अंत में सबसे नीचे बेसाल्टिक चट्टानें मौजूद हैं।

पृथ्वी की क्रस्ट में विभिन्न बड़ी गतिशील टेक्टोनिक प्लेट शामिल होती हैं। ये टेक्टोनिक प्लेट्स धीरे-धीरे लेकिन लगातार चलती रहती हैं। वे लगभग 10 सेमी की औसत दर से खिसकते रहते हैं। पृथ्वी पर दो प्रकार के क्रस्ट पाए जाते हैं - महाद्वीपीय और समुद्री क्रस्ट।

पृथ्वी की इस परत में दो अलग-अलग प्रकार की क्रस्ट होती है। महाद्वीपीय क्रस्ट में विभिन्न प्रकार की चट्टानें होती हैं। वे आग्नेय चट्टानें, अवसादी चट्टानें और कायांतरित चट्टानें हैं जो चट्टान चक्र बनाती हैं। महाद्वीपीय क्रस्ट समुद्री क्रस्ट की तुलना में हल्का होता है जो बेसाल्ट और गैब्रो से बना होता है। ये चट्टानें ऊपरी मेंटल से निकली हैं।

स्थलमंडल की ऊपरी परत को क्या कहते हैं

स्थलमंडल की ऊपरी परत को कॉन्टिनेंटल क्रस्ट कहा जाता हैं। यह विभिन्न प्रकार के ग्रेनाइट से बना होता है। भूवैज्ञानिक अक्सर महाद्वीपीय क्रस्ट की चट्टान को सियाल कहते हैं। सियाल सिलिकेट और एल्यूमीनियम के मिश्रण से बने होते है, महाद्वीपीय क्रस्ट में सबसे प्रचुर मात्रा में खनिज पदार्थ पाए जाते हैं।

सियाल सिमा 70 किलोमीटर से अधिक मोटा हो सकता है, और 2.7 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर भी हो सकता है। समुद्री क्रस्ट की तरह, महाद्वीपीय क्रस्ट प्लेट टेक्टोनिक्स द्वारा निर्मित होता है। जहां टेक्टोनिक प्लेट्स एक-दूसरे से टकराती हैं, तो पर्वत जैसी स्थलाकृति का निर्माण होता है। इस कारण से महाद्वीपीय क्रस्ट के सबसे मोटे हिस्से दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत श्रृंखलाओं में हैं। हिमखंडों की तरह, हिमालय और एंडीज की ऊंची चोटियां इस क्षेत्र के महाद्वीपीय क्रस्ट का ही हिस्सा हैं।

क्रस्ट पृथ्वी के नीचे असमान रूप से फैली हुई है और साथ ही वायुमंडल में भी बढ़ रही है। क्रेटन महाद्वीपीय स्थलमंडल का सबसे पुराना और सबसे स्थिर हिस्सा हैं। महाद्वीपीय क्रस्ट के ये हिस्से आमतौर पर अधिकांश महाद्वीपों के आंतरिक भाग में पाए जाते हैं।

स्थलमंडल का विकास कैसे हुआ

लगभग 4.6 अरब साल पहले, पृथ्वी का निर्माण तब हुआ था। सूर्य के गठन से बचे धूल और मलबे से पृथ्वी का निर्माण हुआ था। पहले पृथ्वी ऐसी  नहीं दिखती थी जैसे हम आज देखते हैं। लेकिन जल्दी ही यह लाल-गर्म ग्रह परिवर्तन के कारण नीला ग्रह में परिवर्तित हो गया। एक महत्वपूर्ण विकास जिसने महासागरों, वातावरण और जीवन रूपों को जन्म दिया, वह प्लेट टेक्टोनिक्स की शुरुआत थी। 

पृथ्वी अपनी प्रारंभिक अवस्था के दौरान क्रस्ट अस्थिर अवस्था में थी। घनत्व में वृद्धि के कारण अंदर के तापमान में वृद्धि हुई है। परिणामस्वरूप पदार्थ अपने घनत्व के आधार पर विभाजित होने लगे। इसने भारी सामग्री जैसे लोहा को पृथ्वी के केंद्र की ओर और हल्के पदार्थों को सतह की ओर ले जाने लगे। समय बीतने के साथ यह और ठंडा हो गया और जम कर छोटे आकार में संघनित हो गया। 

यह बाद में एक क्रस्ट के रूप में बाहरी सतह का निर्माण करने लगा। चंद्रमा की संरचना के दौरान प्रभाव के कारण, पृथ्वी और भी गर्म हो गई थी। यह पृथक्करण की प्रक्रिया के माध्यम से है कि पृथ्वी बनाने वाली सामग्री विविध परतों में विभाजित हो गई। पृथ्वी के पास क्रस्ट, मेंटल, बाहरी कोर और आंतरिक कोर जैसी परतें होती हैं।

पृथ्वी की तीन परतें कौन सी है

पृथ्वी की तीन परतें निम्नलिखित हैं -

  1. भूपर्पटी 
  2. प्रवार
  3. क्रोड

भूपर्पटी - यह पृथ्वी की बाहरी परत है और ठोस चट्टान से बनी है, ज्यादातर क्रस्ट बेसाल्ट और ग्रेनाइट से बने होते हैं। क्रस्ट दो प्रकार के होते हैं; समुद्री और महाद्वीपीय। समुद्री क्रस्ट सघन और पतला होता है और मुख्य रूप से बेसाल्ट से बना है। महाद्वीपीय क्रस्ट कम घना, मोटा और मुख्य रूप से ग्रेनाइट से बना है।

प्रवार - प्रवार मेंटल क्रस्ट के नीचे स्थित 2900 किमी तक मोटा होता है। इसमें गर्म, घने, लौह और मैग्नीशियम युक्त ठोस चट्टान शामिल हैं। क्रस्ट और मेंटल का ऊपरी हिस्सा स्थलमंडल बनाते हैं, जो बड़े और छोटे दोनों प्लेटों में टूट जाता है।

कोर - कोर पृथ्वी का केंद्र है और दो भागों से बना है। तरल बाहरी कोर और ठोस आंतरिक कोर। बाहरी कोर निकल, लोहे और पिघली हुई चट्टान से बना है। यहां का तापमान 50,000 C तक पहुंच सकता है।

स्थलमंडल कितने प्रकार के होते हैं

पृथ्वी की पपड़ी में चट्टानों की विभिन्न परतें पायी जाती हैं जिनमें शीर्ष पर तलछटी चट्टानें , बीच में ग्रेनाइट और कायापलट चट्टानें और तल पर बेसाल्टिक चट्टानें शामिल हैं। पृथ्वी की पपड़ी में कई बड़ी गतिशील टेक्टोनिक प्लेटें भी होती हैं। ये टेक्टोनिक प्लेट्स धीरे-धीरे लेकिन लगातार चलती रहती हैं।

स्थलमंडल दो प्रकार के होते हैं। महासागरीय - जो महासागरीय क्रस्ट से जुड़ा है और महासागरीय घाटियों में मौजूद है। महाद्वीपीय - यह महाद्वीपीय क्रस्ट से जुड़ा है।

Related Posts

कितनी भी हो मुश्किल थोड़ा भी न घबराना है, जीवन में अपना मार्ग खुद बनाना है।