ads

पारिस्थितिक तंत्र किसे कहते हैं - what is ecosystem in hindi

प्रकृति में कोई भी जीव अकेला जीवित नहीं रह सकता है। वह एक जैविक समुदाय के रूप में रहता है इस समुदाय के समस्त जीव-जंतुओं पेड़ पौधे पर्यावरण के बिना जैविक तथा अजैविक घटकों से क्रियात्मक रूप से संबंधित रहते हैं। 

पारिस्थितिक तंत्र किसे कहते हैं

इस पर्यावरण में उपस्थित जैविक समुदाय तथा निर्जीव परिस्थितियों में पारस्परिक क्रिया तथा पदार्थों का आदान-प्रदान होता है, दूसरे शब्दों में जीवित पौधे और जंतु और इनकी निर्जीव परिस्थितियां एक दूसरे पर आश्रित है और दोनों मिलकर एक ऐसा स्थाई तंत्र बनाते हैं जिसके विभिन्न संघटक एक मशीन के पुर्जो की तरह कार्य करते हैं तथा एक समन्वित इकाई बनाते हैं जिसे पारिस्थितिक तंत्र कहते हैं।

पारिस्थितिक तंत्र शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम टेंसली नामक वैज्ञानिक ने सन 1935 में किया था टेंसिले के अनुसार प्रकृति में उपस्थित सजीवों एवं निर्जीव की परस्पर या आपसी क्रियाओं के परिणाम स्वरूप बनने वाला तंत्र पारिस्थितिक तंत्र कहलाता है।

पारिस्थितिक तंत्र का आकार 

पारिस्थितिक तंत्र बहुत छोटा हो सकता है जिसे तश्तरी में थोड़ा सा जलिया मृदा का एक छोटा सा टुकड़ा अथवा एक महासागर या बड़े वन जितना विशाल हो सकता है यहां तक की सारी पृथ्वी एक पारिस्थितिक तंत्र मानी जा सकती है पारिस्थितिक तंत्र में एक कल रिक्शा उस पर रहने वाले अन्य जीवो तक भी सीमित हो सकता है 

पारिस्थितिकी तंत्र की संरचना एवं प्रकार,वन पारिस्थितिकी तंत्र के घटकों का वर्णन, पारिस्थितिकी तंत्र के घटकों का वर्णन, कौन कौन से जैविक अजैविक घटक है,पारिस्थितिक तंत्र क्या है,पारिस्थितिकी तंत्र क्या है इन हिंदी, पारिस्थितिक तंत्र कितने प्रकार के होते हैं, पारिस्थितिकी तंत्र के जैविक घटक क्या है,

पारिस्थितिक तंत्र के प्रकार 

पारिस्थितिक तंत्र मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं।

  1. प्राकृतिक पारिस्थितिक तंत्र 
  2. कृत्रिम पारिस्थितिक तंत्र 

प्राकृतिक पारिस्थितिक तंत्र वे तंत्र होते हैं जिसका निर्माण प्रकृति के द्वारा होता है जैसे वन का पारिस्थितिक तंत्र घास के मैदान का पारिस्थितिक तंत्र मरुस्थल का पारिस्थितिक तंत्र।

कृत्रिम पारिस्थितिकी तंत्र वे पारिस्थितिक तंत्र होते हैं जिसका निर्माण मनुष्य द्वारा किया हो उदाहरण खेत का पारिस्थितिक तंत्र मछली घर का पारिस्थितिक तंत्र आदि।

पारिस्थितिक तंत्र के घटक 

पारिस्थितिक तंत्र के 2 मुख्य भाग होते हैं जीवित जीवधारी तथा निर्जीव वातावरण। समस्त जीवधारी परिस्थितिक तंत्र का जैविक घटक तथा निर्जीव वातावरण इसका अजैविक घटक होता है।

A . अजैविक घटक 

ओडम 1971 के किसी पारिस्थितिक तंत्र के अजैविक घटकों को तीन भागों में बांटा है।

  1. अकार्बनिक पोषक
  2. कार्बनिक योगिक
  3. जलवायु या भौतिक कारक 

1. अकार्बनिक पोषक

इनमें जल कैलशियम पोटैशियम मैग्निशियम जैसे खनिज फास्फोरस नाइट्रोजन सल्फर जैसे लग्न तथा ऑक्सीजन कार्बन डाइऑक्साइड नाइट्रोजन जैसे-जैसे शामिल है यह सब हरे पौधे के पोषक तत्व अथवा कच्ची सामग्री है। 

2. कार्बनिक यौगिक 

इसमें मृत पौधों व जंतुओं से उत्पन्न प्रोटीन शर्करा रिपीट जैसे कार्बनिक यौगिक और इनके अपघटन से उत्पन्न माध्यमिक या अंतिम उत्पाद जैसे यूरिया तथा ह्यूमस सम्मिलित है।

3. लवायु कारक या भौतिक कारक 

वातावरण के भौतिक भाग में जलवायु कारक उदाहरण तथा वायु नमी तथा प्रकाश आते हैं सौर ऊर्जा मुख्य भौतिक घटक है।

B जैविक घटक 

सभी जीवो को पोषण वृद्धि तथा जनन के लिए खाद पदार्थों की आवश्यकता होती है खाद पदार्थों से जीवन के लिए ऊर्जा मिलती है पारिस्थितिक तंत्र के जैव घटक में प्रवाहित होने वाली ऊर्जा का स्रोत सूर्य है विभिन्न पोषण विधियों के आधार पर जैविक घटक को निम्न प्रकारों से विभक्त किया गया है।

1. उत्पादक या स्वपोषी 

यह प्रकाश संश्लेषण पौधे हैं जिसमें कुछ प्रकार संश्लेषी जीवाणु भी सम्मिलित है। इनमें हरा वर्णक पर्णहरिम होता है यह सूर्य ऊर्जा के सहायता से अकार्बनिक पोषक तत्वों से अपने कार्बनिक खाद पदार्थ स्वयं बना लेते हैं इस प्रक्रम में आणविक ऑक्सीजन जो जंतुओं को जीवित रखने के लिए अनिवार्य है विमुक्त हो जाती है तथा जो कार्बनिक पदार्थ बनते हैं उनमें सूर्य की ऊर्जा संचित रहती है प्रकाश संश्लेषि पौधों को उत्पादक कहते हैं। 

2. उपभोक्ता या परपोषी 

इनमें कौन हरीम नहीं होता है यह अपना आहार हरे पौधों से लेते हैं इन्हें उपभोक्ता कहते हैं इनमें जंतु कवक तथा जीवाणु सम्मिलित हैं इनको निम्नलिखित पोषण विधियों में विभक्त किया जाता है।

(A) शाकाहारी 

ऐसे जंतु तथा परजीवी पौधों को अपना खाद पदार्थ सीधी में प्रकाश संश्लेषण पौधों से प्राप्त करते हैं इन्हें शाकाहारी या प्राथमिक उपभोक्ता कहते हैं उदाहरण के लिए टिड्डे तिलिया मधुमक्खियां तोता खरगोश बकरी गाय हिरन आते आते इस संवर्ग में आते हैं।

(B) मांसाहारी 

यह ऐसे जंतु है जो शाकाहारी जंतु को खाते हैं इन्हें द्वितीयक उपभोक्ता भी कहते हैं उदाहरण ब्रिंग व झिंगुर छोटी मछलियां मेंढक छिपकली सांप तथा छोटे पक्षी जैसे चिड़िया कौवा कठफोड़वा वा मैना आदि।

(C) सर्वोच्च मांसाहारी 

यह ऐसे जंतु हैं जिन को दूसरे जंतु मारकर नहीं खाते इन्हें तृतीयक उपभोक्ता कहते हैं उदाहरण शार्क मछलियां मगरमच्छ उल्लू चील तथा बाजा आदि।

3. अपघटक 

यह वह जीव है जो विभिन्न कार्बनिक पदार्थों को उनके अवयवों में घटित करते हैं इस प्रकार भोजन जो ऐसे प्राथमिक रूप में उत्पादकों ने संचित किया या अन्य उपभोक्ताओं ने प्रयोग किया वातावरण में वापस लौट आने का कार्य अपघटक ही करते हैं। ऐसे जियो के प्रमुख उदाहरण मृतोपजीवी कवक तथा जीवाणु इत्यादि हैं।

यह पारिस्थितिक तंत्र की क्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं हरे पौधे भूमि से कई खनिज वाला मान लेते हैं जो उनकी वृद्धि तथा परिवर्धन के लिए अनिवार्य होते हैं कैल्शियम पोटेशियम लोहा फास्फोरस तथा नाइट्रोजन जैसे खनिज जंतुओं के लिए भी आवश्यक होते हैं और यह इन्हें हरे पौधों से लेते हैं। 

पौधे और जंतु पैदा होते हैं वृद्धि व जनन करते हैं और अंत में मर जाते हैं उनके शरीर में आवश्यक खनिज अवस्था में विद्यमान रहते हैं यदि किसी कारण व मृदा में लौटना सके तो इनका परिणाम पारिस्थितिक तंत्र के लिए अनर्थ कार्य सिद्ध होगा।

वन का पारिस्थितिक तंत्र 

वन का पारिस्थितिक तंत्र स्वयं में परिपूर्ण एवं स्वतंत्र नियामक पारिस्थितिक तंत्र होता है वन का पारिस्थितिक तंत्र दो प्रमुख घटकों से मिलकर बना होता है 

(A) अजैविक घटक

एक वन के पारिस्थितिक तंत्र में दो प्रकार के जैविक घटक होते हैं एक अकार्बनिक जैविक घटक दूसरा कार्बनिक 

वन में उपस्थित हरे पौधे इन अकार्बनिक एवं कार्बनिक पदार्थों का उपयोग करके प्रकाश संश्लेषण की क्रिया द्वारा अपने भोजन का संश्लेषण करते हैं ।

(B) जैविक घटक 

इसके अंतर्गत में ना प्रकार के जीव धारियों पेड़ पौधे सम्मिलित किए गए हैं 

  1. उत्पादक
  2. उपभोक्ता 
  3. अपघटक

1. उत्पादक 

वनों में पाए जाने वाले समस्त हरे पौधे जो प्रकाश संश्लेषण क्रिया द्वारा पूर्ण हरीम के सहायता से सौर ऊर्जा जल एवं CO2 का उपयोग करके अपना भोजन स्वयं बनाते हैं जिन्हें उत्पादक कहते हैं क्योंकि 1 के प्रकार के होते हैं अतः प्रत्येक प्रकार के वन में अलग-अलग पौधे पाए जाते हैं वनों में पाए जाने वाले सामान्य पौधे सैगोन, साल, पलाश, देवदार, पाइनस आदि हैं।

2. उपभोक्ता 

उनके अंतर्गत वनों के ऐसे जीवधारी सम्मिलित किए जाते हैं जो अपने पोषण हेतु वन्यजीवों या पेड़ पौधों पर आश्रित होते हैं वनों में तीन प्रकार के उपभोक्ता पाए जाते हैं।

प्राथमिक उपभोक्ता हाथी नीलगाय लोमड़ी बंदर गिलहरी हिरण एवं शाकाहारी पक्षी वन के प्रमुख प्राथमिक उपभोक्ता हैं यह भोजन हेतु पेड़ पौधों पर आश्रित होते हैं।

द्वितीयक उपभोक्ता इनके अंतर्गत वनों में उपस्थित ऐसे जीव जंतु आते हैं जो कि अपने पोषण के लिए प्राथमिक उपभोक्ताओं पर निर्भर होते हैं तथा शिकार करके उनके मांस को खाकर अपना पोषण करते हैं उदाहरण गिरगिट छिपकली सांप कौवा सियार भेड़िया नेवला आदि।

तृतीयक उपभोक्ता इनके अंदर गधे से जंतुओं को सम्मिलित किया गया है जो अपने भोजन हेतु द्वितीयक उपभोक्ता ऊपर आश्रित होते हैं इनका शिकार करके अपना भरण-पोषण करते हैं इन्हें सर्वोच्च मांसाहारी जंतु भी कहते हैं उदाहरण बाघ शेर चीता आदि।

3. अपघटक 

इन के अंतर्गत ऑन सूक्ष्म जीवों को सम्मिलित किया गया है जो उत्पादकों एवं उपभोक्ताओं के मृत्युंजय गाड़ी शारीरिक पदार्थों एवं शरीर का गठन करके उन्हें अकार्बनिक पदार्थों में परिवर्तित करके पुनः मृदा में वापस मिला देते हैं इन्हें अपघटक कहते हैं उदाहरण के लिए जीवाणु व कवक।

घास के मैदान का पारिस्थितिक तंत्र 

घास के मैदान का पारिस्थितिक तंत्र अन्य पारिस्थितिक तंत्र से भिन्न है यह घास स्थल ऐसे क्षेत्रों में अधिकता में पाए जाते हैं जहां पर औसत वर्षा 25 से 75 सेंटीमीटर तक होती है, इन हार स्थलों में लंबी लंबी घास एवं झाड़ियों की अधिकता होती है। 

जबकि वृक्षों का दूर-दूर तक अभाव होता है अफ्रीका में सवाना घास मैदान ऑस्ट्रेलिया अर्जेंटीना संयुक्त राष्ट्र अमेरिका साइबेरिया दक्षिण रूस आदि देशों में बड़े-बड़े घास के मैदान पाए जाते हैं। घास के मैदानों की मिट्टी फेमस युक्त होती है जिसके कारण इस की उपजाऊ शक्ति अधिक होती है भारतवर्ष के संपूर्ण भाग के लगभग 8% भाग में घास के मैदान उपस्थित हैं।

घास के मैदान के पारिस्थितिक तंत्र के प्रमुख संचालनात्मक एवं क्रियात्मक घटक 

एक प्राकृतिक घास के मैदान के पारिस्थितिक तंत्र में प्रमुख संचालन आत्मा के क्रियात्मक घटक निम्नलिखित हैं।

  1. अजैविक घटक
  2. जैविक घटक

1. अजैविक घटक घास के मैदानों में भी दो प्रकार के अजैविक घटक पाए जाते हैं।

a.अकार्बनिक घटक उदाहरण जलवायु प्रकाश वर्षा के लिए तत्व जैसे जैसे CO2 n2 O2 आदि।

b. कार्बनी घटक उदाहरण प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट अमीनो अम्ल वसा लिपिड्स आदि ये सभी घटक पौधों और जंतुओं के काम आते हैं।

2. जैविक घटक इन के अंतर्गत निम्न प्रकार के अधिकारी एवं पेड़ पौधे सम्मिलित किए गए हैं।

a. उत्पादक इसके के अंतर्गत घास के मैदान में उपस्थित समस्त प्रकार की हरि ओम शाकीय पौधे झाड़ियां व वृक्ष आते हैं।  जो कि सूर्य की सहायता से अपना भोजन प्रकाश संश्लेषण की क्रिया द्वारा बनाने में सक्षम होते हैं उदाहरण दूब घास, स्पोरोबोल्स डिजोटेरिया।

b. उपभोक्ता इसके अंतर्गत घास के मैदान में उपस्थित उन सभी जीवो को सम्मिलित किया गया है जो कि अपने भोजन हेतु अन्य जीवो एवं पेड़ पौधे पर आश्रित होते हैं घास के मैदान के उपभोक्ता निम्न प्रकार के होते हैं।

प्राथमिक उपभोक्ता घास के मैदान में पाए जाने वाले सभी उपभोक्ता को ही शाकाहारी कहते हैं तथा अपने भोजन हेतु उत्पादों पर निर्भर होते हैं प्राथमिक उपभोक्ता कहलाते हैं।

द्वितीय उपभोक्ता इनके अंतर्गत घास के मैदान में उपस्थित हुए सभी मांसाहारी जंतु औरतें हैं जो शाकाहारी जंतु का शिकार करते हैं तथा उनका मांस खाते हैं उदाहरण के लिए सांप भेड़िया लकड़बग्घा कौवा लोमड़ी आदि।

तृतीयक उपभोक्ता इसके अंतर्गत पूर्ण भुगतान को सम्मिलित किया गया है जोकि द्वितीय उपभोक्ताओं का शिकार करते हैं इन्हें सर्वोच्च मांसाहारी भी कहते हैं उदाहरण के लिए मोर बाज चील आदि।

3. उपघटक घास के मैदान में बहुत से जीवाणु का वक्त पाए जाते हैं जो कि वहां उपस्थित सभी पदार्थों एवं उपभोक्ताओं के मृत शरीर एवं उनके द्वारा उत्सर्जित पदार्थों का उद्घाटन करते हैं इसे अपघटक कहा जाता है।

मरुस्थल का पारिस्थितिक तंत्र

पृथ्वी के ऐसे भोपाल जहां पर औसत वार्षिक व्हाट्सएप 25 सेंटीमीटर से कम होती है उन्हें मरुस्थल के अंतर्गत सम्मानित किया जाता है क्योंकि ऐसे स्थानों का तापमान अधिक होता है तथा यहां पानी की कमी होती है अतः मरुस्थलीय स्थानों पर पेड़ पौधे एवं जंतुओं की संख्या कम होती है एक मरुस्थलीय पारिस्थितिक तंत्र में निम्नलिखित इन घटक होते हैं।

जैविक घटक

उत्पादक इनके अंतर्गत घनी झाड़ियां कुछ प्रकार की घास तथा कुछ हरे पौधे जैसे नागफनी बबूल कटीले पौधे आदि पाए जाते हैं।

उपभोक्ता मरुस्थलीय पारिस्थितिक तंत्र में तीन प्रकार के उपभोक्ता पाए जाते हैं।

प्राथमिक उपभोक्ता हरे पौधों को खाने वाले जंतु जैसे ऊंट भेड़ बकरी गधा एवं शाकाहारी पक्षी आदि।

द्वितीयक उपभोक्ता मांसाहारी जंतु जैसे सांप लकड़बग्घा भेड़िया सियार आदि।

तृतीयक उपभोक्ता इनके अंतर्गत उन सभी को सम्मिलित किया जाता है जो उपरोक्त दोनों प्रकार के वक्ताओं का भक्षण करते हैं उदाहरण गिद्ध बाज चील।

अपघटक क्योंकि मरुस्थल में वनस्पतियों की कमी होती है। अतः आप यहां पर अब घटकों की संख्या कम होती है यहां पर ऐसे जीवाणु यम कवक अब घटकों के रूप में पाए जाते हैं जिनमें उच्च ताप को सहने की क्षमता होती है।

जल का पारिस्थितिक तंत्र 

इसके अंतर्गत जल में पाए जाने वाले परिस्थिति तंत्र को सम्मिलित किया गया है।

जैसे तालाब झील के पारिस्थितिक तंत्र नदी का पारिस्थितिक तंत्र समुद्र का पारिस्थितिक तंत्र या समुद्र तटीय पारिस्थितिक तंत्र।

तालाब झील का पारिस्थितिक तंत्र 

एक तालाब झील अपने आप में पूर्ण एवं एक स्वतः नियामक पारिस्थितिक तंत्र होता है यह पारिस्थितिक तंत्र दोनों आवश्यक घटको अजैविक घटक एवं जैविक घटक उत्पादक उपभोक्ता एवं अब घटक से मिलकर बना होता है।

अजैविक घटक तालाब के पारिस्थितिक तंत्र में दो प्रकार के अजैविक घटक पाए जाते हैं।

अकार्बनिक घटक उदाहरण जल कार्बन डाइऑक्साइड ऑक्सीजन कैल्शियम नाइट्रोजन एवं फास्फोरस के यौगिक। कार्बनिक घटक उदाहरण - एमिनो अम्ल

जैविक घटक तालाब झील में निम्नलिखित जैविक घटक होते हैं 

उत्पादक तलाब में कई प्रकार के उत्पादक पेड़ पौधे पाए जाते हैं जो कि अपना भोजन स्वयं बनाते हैं।

उदाहरण 

  1. तैरने वाले सूक्ष्म पौधे वॉलवॉक्स अनाबिका आदि।
  2. जलमग्न पौधे जैसे वेलिसनेरिया।
  3. स्वतंत्रप्लावी पादप सिंघाड़ा विस्टीरिया आदि।
  4. बड़े पत्ते वाले पाउडर कमल कुमुदिनी आदि।

उपभोक्ता यह तालाब के जंतु समूह को प्रदर्शित करते हैं इन्हें शाकाहारी या प्राथमिक उपभोक्ता मांसाहारी यह द्वितीय उपभोक्ता तथा तृतीय उपभोक्ता में विभक्त किया जा सकता है।

प्राथमिक उपभोक्ता यह पौधों या उनके अवशेषों का सेवन करते हैं। प्राणी पल्लव आख्या सूक्ष्मा भोक्ता डीजल की लहरों के साथ-साथ सतह पर तैरते हैं उदाहरण युगलीना और कोलेप्स।

द्वितीयक उपभोक्ता यह पानी में पाए जाने वाले छोटे जीव है जो प्राणी रिंकू का भक्षण करते हैं उदाहरण कीट छोटी मछलियां बिटक।

तृतीयक उपभोक्ता इन के अंतर्गत कुछ विशेष बड़ी मछलियां आती है। ये द्वितीयक उपभोक्ताओं को खाती है। उदाहरण - गेम फिश। 

उपघातक - तालाब के ताल पर पेड़-पौधे व् जलीय जिव के अवशेष को अपघटित करने वाले जीव होते है जैसे - मृतजीवी कवक और बैक्टीरियाआदि। 

Related Posts Related Posts
Subscribe Our Newsletter