ads

आदि शंकराचार्य का जीवन परिचय - adi shankaracharya

आदि शंकराचार्य का जीवन परिचय - adi shankaracharya
आदि शंकराचार्य

आदि शंकराचार्य एक भारतीय दार्शनिक और धर्मशास्त्री थे जिन्होंने अद्वैत वेदांत के सिद्धांत दिया। उन्हें हिंदू धर्म की मुख्य धाराओं को एकजुट करने और स्थापित करने का श्रेय दिया जाता है। इनका जन्म 8 वीं सदी में हुआ मन जाता है। 

आदि शंकराचार्य ने जातीय और धार्मिक कुरीतियाँ को  इनकार किया और लोगो को धर्म का सही साधना करना सिखया। इनका जन्म से ही धर्म के प्रति लगाव था। वे बचपन से विद्वान थे। संस्कृत के बड़े बड़े श्लोक बचपन से ही उन्हें मुँह जुबानी यद् था। और वे सन्यासी बनना चाहते थे। उनकी माँ पर ये नहीं चलती थी। 

आदि शंकराचार्य ने पुरे भारत का भ्रमण किया। और चार पीठो की स्थापना किया। जो इस पारकर है - श्रृंगेरी मठ भारत के दक्षिण में चिकमंगलुुुर में स्थित है। वर्धन मठ भारत के पूर्वी भाग ओडिशा राज्य के जगन्नाथ पुरी में स्थित है। शारदा मठ गुजरात में द्वारकाधाम में स्थित है। और उत्तरांचल के बद्रीनाथ में स्थित है ज्योतिर्मठ।

आदि शंकराचार्य का जन्म 

श्रृंगेरी के अभिलेखों में कहा गया है कि शंकर का जन्म "विक्रमादित्य" के शासनकाल के 14 वें वर्ष में हुआ था, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि यह नाम किस राजा का है। यद्यपि कुछ शोधकर्ता चंद्रगुप्त द्वितीय (4 वीं शताब्दी सीई) के नाम की पहचान करते हैं। 

आदि शंकर के जीवन की कम से कम चौदह अलग-अलग आत्मकथाएँ हैं। इनमें से कई को ओंकारा विजया कहा जाता है, जबकि कुछ को गुरुविजय, शंकरायुध्याय और शंकराचार्यचरिता कहा जाता है।

शंकर आचार्य का जन्म 504 ई.पू. में केरल में कालपी नामक गावं में हुआ था। इनके पिता का नाम शिवगुरु भट्ट और माता का नाम सुभद्रा था। कहा जाता है। भगवान शंकर की पूजा से बहुत समय बाद शंकराचार्य का जन्म हुआ था। जब ये तीन ही वर्ष के थे तब इनके पिता का देहांत हो गया।

 वे छह वर्ष की उम्र में ही प्रकांड पंडित हो गए थे और आठ वर्ष की अवस्था में इन्होंने संन्यास ग्रहण किया था। 

शंकराचार्य की जीवनी में उनका वर्णन किसी ऐसे व्यक्ति के रूप में किया गया है जो बचपन से ही संन्यास के प्रति आकर्षित था। उसकी माँ ने यह नहीं कहती थी। एक कहानी के अनुसार आठ साल की उम्र में वह अपनी मां सुभद्रा के साथ एक नदी पर जा रहे थे, जहां उन्हें एक मगरमच्छ ने पकड़ लिया। शंकरा ने अपनी मां से, उसे संन्यासी बनने की अनुमति देने के लिए कहा। माँ सहमत हो गयी। उसके बाद शिक्षा के लिए अपना घर छोड़ देता है। 

वह भारत के उत्तर-मध्य राज्य में एक नदी के किनारे एक सैविते अभयारण्य में पहुँचता है, और गोविंदा भगवत्पदा नामक एक शिक्षक का शिष्य बन जाता है। 

अधिकांश आत्मकथाओं में उल्लेख है कि शंकराचार्य ने गुजरात से बंगाल के भीतर व्यापक रूप से यात्रा की, और हिंदू दर्शन के विभिन्न रूढ़िवादी विद्यालयों के साथ सार्वजनिक रूप से दार्शनिक शास्त्रार्थ में भाग लिया। 

आदि शंकराचार्य की मृत्यु कैसे हुई

माना जाता है कि आदि शंकराचार्य की मृत्यु 32 वर्ष की आयु में हुई थी, जो कि उत्तराखंड केदारनाथ में हिमालय में एक हिंदू तीर्थ स्थल है। ग्रंथों का कहना है कि उन्हें अंतिम बार केदारनाथ मंदिर के पीछे उनके शिष्यों ने देखा था, जब तक कि उनका पता नहीं चला। कुछ ग्रंथों में तमिलनाडु और कहीं-कहीं केरल राज्य में उनकी मृत्यु का पता लगाया। 

Related Posts
Subscribe Our Newsletter