ads

परमाणु बम क्या है - parmanu bomb in hindi

परमाणु बम बहुत ही घातक होता है। यह विश्व का सबसे खतरनाख अस्त्र है। वर्तमान में इतने परमाणु बम है की पृथ्वी को कई बार नस्ट किया जा सकता है। यह हथियार कुछ ही देशो के पास है। सबसे अधिक अमेरिका के पास यह अस्त्र है। 

परमाणु बम क्या है

परमाणु हथियार, जिसे परमाणु बम के रूप में भी जाना जाता है। यह ऐसा हथियार है जो परमाणुओं के नाभिक में अचानक ऊर्जा छोड़ता है। और भारी विस्फोट होता हैं।

परमाणु विस्फोट से कई शहर को नष्ट होते हैं और लाखो लोगो की जान भी जा सकती हैं। इसके विस्फोट से हानिकारक रेडिएशन निकलती है। जो बहुत से लोगों को बीमार कर सकते हैं। परमाणु हथियार सबसे हानिकारक हथियार हैं। 

प्रथम परमाणु हथियार द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा उपयोग किया गया था। जापान के दो शहर हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराया गया था। लाखो लोगो की जान चली गयी थी। और बहुत से मकानों को नुकसान हुआ था। 

परमाणु बम रखने वाले देश 

आज, संयुक्त राज्य अमेरिका और रूस के पास सबसे अधिक परमाणु हथियार हैं। परमाणु हथियार रखने वाले अन्य देश हैं: चीन, फ्रांस, यूनाइटेड किंगडम, भारत, इजरायल, उत्तर कोरिया और पाकिस्तान। दक्षिण अफ्रीका के पास परमाणु हथियार थे। लेकिन उन्होंने उन्हें नष्ट करने का फैसला किया।

परमाणु हथियार बनाने के दो तरीके हैं: विखंडन हथियार (जिसे परमाणु बम या ए-बम भी कहा जाता है) और फ्यूजन हथियार (हाइड्रोजन बम, एच-बम या थर्मोन्यूक्लियर हथियार भी कहा जाता है)। परमाणु विस्फोट के लिए उनकी ऊर्जा बनाने का तरीका अलग है। फ्यूजन हथियारों से भारी विस्फोट होते हैं। विखंडन हथियार यूरेनियम या प्लूटोनियम के एक विशेष समस्थानिक का उपयोग करते हैं। फ्यूजन हथियार हाइड्रोजन के एक विशेष आइसोटोप का उपयोग करते हैं।

परमाणु बम का इतिहास

1915 के आसपास, वैज्ञानिको को यह विचार आया कि विशेष परमाणुओं को तोड़ने से बड़ी मात्रा में ऊर्जा निकल सकती है और इसका उपयोग बम बनाने के लिए किया जा सकता है।

1939 में, भौतिक वैज्ञानिको ने परमाणु विखंडन हथियार बनाने के कार्य में लग गए। लेकिन किसी को भी सफलता नहीं मिली थी। जब द्वितीय विश्व युद्ध शुरू हुआ। जर्मनी, यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य परमाणु हथियार बनाना चाहते थे। जर्मनी ने पहली सफलता प्राप्त किया। क्योंकि इस समय तक नाजी शासन शुरू होने के बाद भौतिकी का अध्ययन करने वाले कई सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिक जर्मनी आ गए। 

यूनाइटेड किंगडम ने 1939 में परमाणु हथियार पर कार्य शुरू किया। इसमें बहुत अधिक पैसा लग गया। फिर उन्होंने 1942 में इस पर रोक लगा दिया। 

कुछ साल बाद अमेरिका ने परमाणु हथियार बनाने के लिए एक बहुत बड़े कार्यक्रम की शुरुआत की। इस कार्यक्रम को "मैनहट्टन प्रोजेक्ट" कहा गया। अगस्त 1945 तक, मैनहट्टन परियोजना ने तीन परमाणु विखंडन हथियार बनाए। 

दो बमों का इस्तेमाल अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा और नागासाकी शहरों पर हमला करने के लिए किया था। इसके परिणाम स्वरुप लगभग 105,000 लोग मारे गए थे और 94,000 लोग आहत हुए थे। जापान ने हिरोशिमा और नागासाकी के परमाणु बम विस्फोटों के बाद अपने आत्म समर्पण की घोषणा की।

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद, सोवियत संघ ने भी परमाणु हथियार बनाने के लिए काम करना शुरू कर दिया।

परमाणु हथियार 

परमाणु हथियार बनाने के लिए परमाणु को अलग करके तोड़ना होता है। इसे परमाणु विखंडन कहा जाता है और यह परमाणु बमों का आधार है। यूरेनियम या प्लूटोनियम के विशिष्ट आइसोटोप का उपयोग करके बनाया जाता हैं।

एक और प्रक्रिया का उपयोग परमाणु हथियार बनाने के लिए किया जा सकता है जो किभारी विस्फोट पैदा करते हैं। और परमाणुओं को एक साथ जोड़कर बहुत अधिक ऊर्जा जारी करते हैं। इस प्रक्रिया को परमाणु संलयन कहा जाता है। इस प्रक्रिया के आधार पर बने हथियारों को हाइड्रोजन बम या थर्मोन्यूक्लियर हथियार कहा जाता है। 

परमाणु हथियार बहुत अधिक मात्रा में ऊर्जा और विकिरण उत्पन्न करते हैं। जो कई किलोमीटर के लोगों या जानवरों को मार सकते हैं। इससे अधिकांश मात्रा में विकिरण एक्स-रे निकलते हैं। जो हवा में विशाल परमाणु आग का निर्माण करता है। 

हाइड्रोजन बम जिसे फ्यूजन बम के रूप में भी जाना जाता है। जो यूरेनियम, प्लूटोनियम या हाइड्रोजन का उपयोग करता है। हाइड्रोजन बम में विखंडन बम की तुलना में घातक होते है। सामान्य हाइड्रोजन बम में पर्याप्त हाइड्रोजन होता है जो प्राकृतिक यूरेनियम से बने आवरण को विस्फोट करने के लिए अतिरिक्त न्यूट्रॉन का उत्पादन करता है। 

Related Posts Related Posts
Subscribe Our Newsletter