ads

भ्रमरगीत सार पद क्रमांक 90

Hindi Sahitya Bhramar Geet Sar Surdas भ्रमरगीत सार की व्याख्या -  पद क्रमांक 90 सप्रसंग व्याख्या

नंदनंदन मोहन सों मधुकर ! है काहे की प्रीति ?
जौ कीजै तौ है जल, रवि औ जलधर की सी रीति।।
जैसे मीन, कमल, चातक, को ऐसे ही गई बीति।
तलफत, जरत, पुकारत सुनु, सठ ! नाहिं न है यह रीति।।
मन हठि परे, कबंध जुध्द ज्यों, हारेहू भइ जीति।
बँधत न प्रेम-समुद्र सूर बल कहुँ बारुहि की भीति।।


Related Post

भ्रमरगीत के पात्र उद्धव कौन थे लिखिए

भ्रमरगीत में श्रीकृष्ण को क्या कहा गया है

Subscribe Our Newsletter