ads

भ्रमर गीत सार पद क्रमांक 89

bhramar-geet-sar-89-vyakhya

सँदेसनि मधुबन-कूप भरे।
जो कोउ पथिक गए हैं ह्याँ तें फिरि नहिं अवन करे।।
कै वै स्याम सिखाय समोधे कै वै बीच मरे ?
अपने नहिं पठवत नंदनंदन हमरेउ फेरि धरे।।
मसि खूँटी कागद जल भींजे, सर दव लागि जरे।
पाती लिखैं कहो क्यों करि जो पलक-कपाट अरे ?


Related Post

भ्रमरगीत के पात्र उद्धव कौन थे लिखिए

भ्रमरगीत में श्रीकृष्ण को क्या कहा गया है

Subscribe Our Newsletter