इजराइल का इतिहास

इज़राइल  एशिया में स्थित एक देश है। यह  भूमध्य सागर के पूर्वी छोर पर स्थित है। इज़राइल की सिमा लेबनॉन, सीरिया, जॉर्डन तथा मिस्र देशो से लगती है। सन् 1948 में आधुनिक इसरायल राष्ट्र की स्थापना हुई। 

मध्यपूर्व एशिया में स्थित यह देश यहूदियों का मूल निवास है। ईसाइयत, इस्लाम और यहूदी के लिए इजराइल महत्वपूर्ण स्थान है इन दिनों धर्मो का पवित्र स्थान यरुसलम है। जो की इजराइल का राजधानी है। 1948 में बना इजराइल आज विश्व में तकनीक और विकास में अग्रणीय है। नयी नयी टेक्नोलॉजी के विकाश ने इजराइल को बहुत उन्नत बनाया है। इजराइल बहुत छोटा देश है और भारत के केरल से भो छोटा है। लेकिन यहाँ के लोग देश के प्रति बहुत ईमानदार होते है। शिक्षा और तकनीक के मामले में इजराइल भारत से आगे है। 

इजराइल का झंडा 

इजराइल एक मात्र यहूदी देश है। और विश्व में कोई भी यहूदी बच्चा जन्म लेता है तो उसे इजराइल की नागरिक मिल जाती है। इजराइल में खेती के लिए पर्याप्त जगह नहीं था लेकिन इजराइल ने टेक्नोलॉजी की मदद से खेती के नए नए पर्याय को खिजा और आज इजराइल अपने देश का 90% अनाज का उत्पादन करता है। 

इजराइल क्षेत्रफल - इजराइल का क्षेत्रफल बहुत ही काम है यह चारो और से इस्लामिक देशो से घिरा हुआ है। इसका क्षेत्रफल 22145 वर्ग किलोमीटर है। 

इजराइल का नक्सा 

इजराइल का इतिहास 

1948 के पहले इजराइल ब्रिटेन के आधीन था। यहूदी दुनिया भर बार से इस इलाके में बसने लगे 1947 को यहूदियों और अरबो के मध्य युद्ध शुरू हो गया जिसके परिणाम स्वरुप इजराइल देश का निर्माण हुआ। अरब देश हमेशा से इजराइल को नस्ट करना चाहते रहे है लेकिन कभी सफल नहो  हो पाए। सीरिया जार्डन और मिस्र देशो ने एक साथ इजराइल पर हमला किया लेकिन इजराइल के महज 6 दिनों में ये युद्ध जित लिया और अपने क्षेत्र का वीतर गाजा पट्टी तक कर लिया।  

इजराइल की ताकत 

इस देश की जनसख्या मात्र 90 लाख की है। लेकिन यहाँ की सेना चुनिंदा शाक्तिशाली सेना में से एक है। वायु सेना की लोहा विश्व ने देखा जब एक हवाई जहाज को आतंकवादियों ने बंदी बना लिया था। तब यह की सेना ने अफ्रीका में जाकर अपने नागरिको की जान बचायी थी। यहाँ सभी नागरिको को आर्मी की टेनिंग लेना अनिवार्य होता है। इस देश की आर्मी की संख्या 31 लाख के करीबन है। जिसमे से 15 लाख महिलाओं की संख्या है। 

इजराइल 

Related Posts

Subscribe Our Newsletter