ads

सूरदास का भ्रमरगीत सार - पद क्रमांक 67

67. राग धनाश्री
कहति कहा ऊधो सों बौरी।
जाको सुनत रहे हरि के ढिग स्यामसखा यह सो री !
हमको जोग सिखावन आयो, यह तेरे मन आवत ?
कहा कहत री ! मैं पत्यात री नहीं सुनी कहनावत ?
करनी भली भलेई जानै, कपट कुटिल की खानि।
हरि को सखा नहीं री माई ! यह मन निसचय जानि।।
कहाँ रास-रस कहाँ जोग-जप ? इतना अंतर भाखत।
सूर सबै तुम कत भईं बौरी याकी पति जो राखत।।

    भ्रमर गीत सार - सूरदास पद क्रमांक 67 की व्याख्या surdas bhramar geet ramchandra shukla


    Related Post

    भ्रमरगीत के पात्र उद्धव कौन थे लिखिए

    भ्रमरगीत में श्रीकृष्ण को क्या कहा गया है

    Subscribe Our Newsletter