संज्ञा किसे कहते हैं - what is noun in hindi

संज्ञा कितने प्रकार के होते हैं  संज्ञा का चार्ट  संज्ञा अभ्यास  संज्ञा worksheets  संज्ञा का अर्थ  संज्ञा के प्रकार  संज्ञा की परिभाषा  व्यक्तिवाचक संज्ञा उदाहरण sarvanam in hindi  sangya in hindi pdf  sangya in hindi for class 4  chart of sangya in hindi

Noun in Hindi 

संज्ञा की परिभाषा - जो शब्द किसी व्यक्ति, प्राणी, वस्तु, भाव तथा स्थान का बोध कराएँ, उसे संज्ञा कहते हैं।

आइये कुछ वाक्यों के माध्यम से संज्ञा को समझने का प्रयास करें - 1. ऊँची मेज पर कलमरखी है। 2. दिल्ली में लालकिला है।

ऊपर जो मैंने उदाहरण दिए हैं उसमें ऊँची, मेज, कलम, दिल्ली तथा लालकिला किसी वस्तु, व्यक्ति, स्थान तथा भाव के नाम का बोध करा रहे हैं। यही संज्ञा शब्द कहलाते हैं। 

संज्ञा के भेद कितने होते हैं

  1. व्यक्तिवाचक संज्ञा Proper noun in hindi
  2. जातिवाचक संज्ञा Common noun in hindi
  3. भाववाचक संज्ञा Abstract noun in hindi

इन संज्ञाओं के बारे में विस्तार से जाने -

1. व्यक्तिवाचक संज्ञा - वे शब्द जो किसी व्यक्ति, प्राणी वस्तु या स्थान विशेष का बोध कराते हैं, उन्हें व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं। 

व्यक्तिवाचक संज्ञा उदाहरण

  • व्यक्ति - रोहित, तरुण, अभिषेक, कविता, हर्ष, प्रिया आदि। 
  • वस्तु - गुरुग्रंथ, रामायण आदि। 
  • स्थान - बिहार, हरिद्वार, जयपुर, राजस्थान आदि। 

2. जातिवाचक संज्ञा - वे संज्ञा शब्द जो किसी समूह अथवा जाति विशेष का बोध कराते हैं, उन्हें जातिवाचक संज्ञा कहते हैं।  

जातिवाचक संज्ञा उदाहरण - पर्वत, देश, नगर, पुरुष, लड़की आदि। 

जातिवाचक संज्ञा के भेद - 

जातिवाचक संज्ञा के दो भेद होते हैं - 

  1. द्रव्यवाचक संज्ञा (material noun ) 
  2. समुदायवाचक संज्ञा (Collective noun)

द्रव्यवाचक संज्ञा - वे संज्ञा शब्द जिनसे किसी पदार्थ अथवा द्रव्य का बोध होता है, उन्हें द्रव्यवाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे - पानी, लोहा, दूध, मिट्टी, सोना, चाँदी, लकड़ी, पीतल आदि। 

समुदायवाचक संज्ञा - वे संज्ञा शब्द जिनसे किसी समूह या समुदाय का बोध होता है, उन्हें समूहवाचक संज्ञा कहते हैं।  जैसे -कक्षा, झुण्ड, भीड़, सेना आदि। 

3. भाव वाचक संज्ञा - वे संज्ञा शब्द जिनसे किसी व्यक्ति या वस्तु के गुण, दोष, भाव अथवा दशा आदि का बोध हो, उन्हें भाववाचक संगीय कहते हैं। 

भाव वाचक संज्ञा के उदाहरण - मिठास, प्यास, हँसी, बचपन, माधुर्य आदि। कुछ संज्ञा शब्द मूल रूप से ही भाववाचक होते हैं; जैसे- सत्य, दया, ज्ञान, जन्म आदि।


sangya-noun-hindi-grammar-by-rexgin

भाववाचक संज्ञा बनाना

भाववाचक संज्ञा का निर्माण पांच प्रकार से किया जाता है।

  1. जातिवाचक संज्ञा से 
  2. सर्वनाम से 
  3. विशेषण से 
  4. क्रिया से 
  5. अव्यय से 

1. जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा 

जातिवाचक संज्ञा भाववाचक संज्ञा 
1. दास दासता 
2. मजदूर मजदूरी 
3. शत्रु शत्रुता 
4. प्रभु प्रभुता 
5. क्षत्रिय क्षत्रियत्व 
6. पात्र पात्रता 
7. जंगल जंगलीपन 
8. बूढ़ा बुढ़ापा 
9. इंसान इंसानियत 
10. अहं अहंकार 
11. निज नीजतत्व 
12. हिन्दू हिंदुत्व 

2. सर्वनाम से भाववाचकसंज्ञा संज्ञा बनाना 

सर्वनाम भाववाचक संज्ञा 
1. स्व स्वत्व 
2. अपना अपनापन 
3. मम ममता 
4. निज निजता/निजत्व 
5. सर्व सर्वस्व 
6. अहं अहंकार 

3.विशेषण से भाववाचक संज्ञा बनाना 

विशेषण भाववाचक संज्ञा 
1. अरुण अरुणिमा 
2. कृतज्ञ कृतग्यता 
3. स्वतंत्र स्वतंत्रता 
4. कुपात्र कुपात्रता 
5. मधुर माधुर्य 
6. अनुकूल अनुकूलता 
7. मीठा मिठास 
8. हरा हरियाली 
9. काला कालिमा 
10. एक एकता 
11. स्वस्थ स्वास्थ्य 
12. प्रतापी प्रताप 
13. परतंत्र परतंत्रता 
14. कमजोर कमजोरी 
15. कुशाग्र कुशाग्रता 

4. क्रिया से भाववाचक संज्ञा बनाना 

क्रिया भाववाचक संज्ञा 
1. हँसना हँसी 
2. चिल्लाना चिल्लाहट 
3. घबराना घबराहट 
4. गाना गान 
5. पढ़ना पढ़ाई 
6. दौड़ना दौड़ 
7. बोलना बोल 
8. लड़ना लड़ाई 
9. जीना जीवन 
10. खेलना खेल 
11. रोकना रोक 
12. सजाना सजावट 
13. उभरना उभार 
14. बुनना बुनाई 
15. मारना मार 
16. बढ़ना बढ़ोत्तरी 
17. थकना थकावट 
18. सोना शयन 

5. अव्यय से भाववाचक संज्ञा बनाना 

अव्यय भाववाचक संज्ञा 
1. एक एकता 
2. शीघ्र शहीघ्रता 
3. जल्द जल्दबाजी 
4. देर देरी 
5. निकट निकटता 
6. समीप समीपता 
7. धिक धिक्कार 
8. मना मनाही 
9. नीचे निचाई 

आओ हम जाने की इस अध्याय या पोस्ट में हमने क्या जाना 

संज्ञा - वे शब्द जो किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान तथा भाव के नाम का बोध कराएँ, उन्हें संज्ञा कहते हैं। 

संज्ञा के तीन भेद होते हैं- 

    1. व्यक्तिवाचक संज्ञा 
    2. जातिवाचक संज्ञा 
    3. भाववाचक संज्ञा 

    जातिवाचक संज्ञा के दो भेद 

      1. द्रव्यवाचक संज्ञा 
      2. समुदायवाचक संज्ञा 

      जातिवाचक संज्ञा पूरी जाति का बोध कराती है। 

      Related Posts

      Subscribe Our Newsletter