ads

भ्रमर गीत सार सूरदास पद क्रमांक 4

bhramargeet sar surdas भ्रमर गीत सार सूरदास

हरि गोकुल की प्रीति चलाई।
सुनहु उपंगसुत मोहिं न बिसरत ब्रजवासी सुखदाई।।
यह चित होत जाऊँ मैं, अबही, यहाँ नहीं मन लागत।
गोप सुग्वाल गाय बन चारत अति दुख पायो त्यागत।।
कहँ माखन-चोरी? कह जसुमति 'पूत जेब' करि प्रेम।
सूर स्याम के बचन सहित सुनि व्यापत अपन नेम।।


Related Post

भ्रमरगीत के पात्र उद्धव कौन थे लिखिए

भ्रमरगीत में श्रीकृष्ण को क्या कहा गया है

Related Posts

Subscribe Our Newsletter