Chapter 4.9 कटिंग टूल हैक्सा और उसके भाग तथा सेटिंग

What is Hacksaw in Hindi - Diesel mechanic

आज के इस पोस्ट में मैं आपको बताने वाला हूँ। हैक्सा के बारे में जिसमें हम जानेंगे की हैक्सा क्या है यह किस पदार्थ का बना होता है।  हैक्सा फ्रेम, हैक्सा ब्लेड, हैक्सा के दांतों की सेटिंग और साथ ही हैक्सा के द्वारा काम करने की विधि हेक्साइंग के बारे में भी इस पोस्ट में विस्तार से जान्ने वाले हैं। हैक्सा से जुड़े विभिन्न सवालों के जवाब भी आपको इस पोस्ट में देखने को मिलेंगे। 

आपका स्वागत है मेरे ब्लॉग पर जिस पर हम बाते करते हैं डीजल मैकेनिक  या मैकनिकल फिल्ड से जुड़े विभिन टॉपिक्स के बारे में तो चलिए शुरु करते हैं.

What is Hacksaw

हैक्सा एक कटिंग टूल है जिससे आप आसानी से और एकदम सफाई से किसी लोहे के बने या ऐसे पदार्थ की कटिंग कर सकते हैं जो थोड़ा बहुत मुलायम हो। हैक्सा के द्वारा कटिंग करने के लिए आपको एक अच्छे ब्लेड के साथ एक अच्छे फ्रेम की आवश्यकता होती है।

What is Hacksaw in Hindi - Diesel mechanic
Hacksaw 

What are hacksaws used for

हैक्सा के माध्यम से विभिन्न मोटाई के लोहे के बने रॉड, पाइप, प्लेट या शीटों को काटने के लिए किया जाता है इसके द्वारा कटिंग करने से लोहे की हानि बहुत ही कम होती है। क्योकि इसकी धार बहुत ही बारीक और पतली होती है। जिससे की अगर फिनिशिंग की बात करें तो चीजल से  भी बहुत ही अच्छा आता है मतलब जो बुचड़े निकलते हैं चीजल से काटने पर वह इससे नहीं निकलते हैं।

हैक्सा दो भागों से मिलकर बनता है : हैक्सा फ्रेम और हैक्सा ब्लेड से जिसको आगे और अच्छे से Explain किया है -

1. हैक्सा फ्रेम 

यह आकार में अंग्रेजी के अक्षर C के सामान होता है और इसके दोनों भुजाएँ समकोण पर मुड़े हुए होते हैं। इन भुजाओं के एक सिरे पर हैंडिल और पिन तथा दूसरे सिरे पर स्लाइडिंग स्क्रू लगा होता हैं इसे आगे पीछे करके इसमें लगने वाले ब्लेड को और अधिक सख्त किया जा सकता है। आगे पछे करने के लिए स्क्रू को घुमाया जाता है। इसे आप अपने अनुसार एड्जस्ट कर सकते हैं। अगर बात की जाए हैक्सा फ्रेम के प्रकार की तो यह दो प्रकार का होता है-

फिक्स्ड हैक्सा फ्रेम 

एक प्रकार के हैक्सा फ्रेम को प्लैट आयरन स्ट्रिप या स्टील के रोड या पाइप को मोड़कर बनाया जाता है। यह किसी पाइप या स्टील के एक ही रॉड का बना होता है जैसे की मैंने बताया यह एक ही रॉड का बना होता है, उसी प्रकार इसमें एक माप के हैक्सा ब्लेड लगाये जा सकते हैं। छोटे बड़े दूसरे माप के ब्लेड को फिट नहीं किया जा सकता है।

इस प्रकार इनमें हैंडिल दो प्रकार का होता है जिसे इन नामों से जाना जाता है- स्ट्रेट हैंडिल पिस्टल टाइप हैंडिल 

एडजस्टेबल हैक्सा फ्रेम 

इस प्रकार के हैक्सा फ्रेम दो टुकड़ों का बना होता है  तथा इन दोनों टुकड़ों को विभिन्न लम्बाई या दुरी पर सेट किया जा सकता है। इस प्रकार इसमें छोटे बड़े विभिन्न मापों के हैक्सा ब्लेड फिट किये जा सकते हैं। इसमें दोनों टुकड़ों को खिसकाने के लिए उचित व्यवस्था होती है और इसे आगे पीछे न हिल सके उसे रोकने के लिए खांचे या पिन की उचित व्यवस्था की जाती है। 

इन फ्रेमों में इस प्रकार के तीन हैंडिल्स प्रयोग किया जाता है - स्ट्रेट हैंडिल पिस्टल टाइप हैंडिल ट्यूबूलर टाइप हैंडिल 

अगर हम बाते करें इसके बनावट की तो यह फ्रेम प्रायः स्टील की फ़्लैट पट्टी या पाइप से बनाए जाते हैं तथा इनके हैंडिल लकड़ी के अथवा एल्युनिनियम के ढले हुए होते हैं। 

 2. हैक्सा ब्लेड 

हैक्सा का दुसरा का दुसरा महत्वपूर्ण भाग जिसे की विभिन्न प्रकार के फ्रेम में  फिट किया जाता है और यह धातु के अनुसार अलग अलग प्रकार के पदार्थ बने होते हैं। इस प्रकार किसी भी जॉब को काटने के लिए एक ही प्रकार के ब्लेड का उपयोग नहीं किया जाता है। बल्कि अलग अलग प्रकार के ब्लेड का उपयोग किया जाता है ताकि कार्य करने में आसानी हो और कार्य जल्दी से पूरा हो सके। 

यदि हम जानना चाहें की हैक्सा का ब्लेड किस पदार्थ का बना होता है? तो यह मुख्य रूप से टंगस्टन, स्टील तथा हार्ड स्पीड स्टील के बने होते हैं। प्रायः हार्ड या टैम्पर किये हुए होते हैं।

अब दुसरा सवाल यह है की हैक्सा ब्लेड की लम्बाई कितनी होती है ? तो हैक्सा ब्लेड ज्यादातर 8 इंच , 10 इंच तथा 12 इंच के होते हैं। 

हैक्सा ब्लेड पर कितनी प्रकार की या ग्रेड की दातें कटी होती हैं ? तो हैक्सा ब्लेड पर चार प्रकार के या अलग अलग ग्रेड की दाँतें कटी होती हैं। इन अलग अलग प्रकार के ग्रेड की दांतों की बात करें तो यह ब्लेड निम्न प्रकार का होता है -

  1. कोर्स ग्रेड हैक्सा ब्लेड (Course Grade Hacksaw Blade)
  2. मीडियम ग्रेड हैक्सा ब्लेड (Medium Grade Hacksaw Blade)
  3. फाइन ग्रेड हैक्सा ब्लेड (Fine Grade Hacksaw Blade)
  4. सुपर फाइन ग्रेड हैक्सा ब्लेड (Super Fine Grade Hacksaw Blade)

इसके अलावा और दो प्रकार इस प्रकार हैं जो की उसके हार्डनेस और सॉफ्टनेस पर आधारित हैं -

  1. ऑल हार्ड ब्लेड (All Hard Blade)
  2. फ्लेक्सिबल ब्लेड (Flexible Blade)

चलिए अब इन सभी को डिटेल से जानते हैं यह किस प्रकार बने होते हैं? और यह कैसे काम करता है?, किस प्रकार की कटिंग करता है? और कितने मोटाई के लिए प्रयोग किया जाता है?

1. कोर्स ग्रेड हैक्सा ब्लेड (Course Grade Hacksaw Blade)

इस ग्रेड के हैक्सा ब्लेड का प्रयोग माइल्ड स्टील, ताम्बा, एल्युमिनियम तथा पीतल आदि धातुओं की मोटी कटाई के लिए प्रयोग किया जाता है। कोर्स ग्रेड हैक्सा ब्लेड में यदि बात करें की इसमें कितने दाँतें कटे होते हैं तो इसमें 14 से 18 दाँतें प्रति इंच कटे होते हैं।

2. मीडियम ग्रेड हैक्सा ब्लेड (Medium Grade Hacksaw Blade)

इस प्रकार के हैक्सा ब्लेड का प्रयोग लगभग सभी प्रकार के धातुओं को काटने के लिए प्रयोग में लाया जाता है। जैसे की कास्ट आयरन, स्टील आदि। मीडियम ग्रेड हैक्सा ब्लेड में 20 से 24 दाँतें प्रति इंच कटे होते हैं। 

 3. फाइन ग्रेड हैक्सा ब्लेड (Fine Grade Hacksaw Blade)

फाइन ग्रेड हैक्सा ब्लेड का प्रयोग मुख्य रूप से पतली जैसे की इसके नाम से ही स्पष्ट है की इसका प्रयोग पतली चददरों, पाइप तथा ट्यूब आदि काटने के लिए प्रयोग किये जाते हैं। इसमें 24 से 30 दाँतें प्रति इंच कटे हुए होते हैं। 

4. सुपर फाइन ग्रेड हैक्सा ब्लेड (Super Fine Grade Hacksaw Blade)

इस प्रकार के हैक्सा ब्लेड का प्रयोग बहुत ही पतले चादर जो की बहुत ही कड़े या कहें कठोर हो उस धातु को काटने के लिए इस प्रकार के सुपर फाइन ग्रेड हैक्सा ब्लेड का प्रयोग किया जाता है। इसमें कटे दांतों की बात करे तो इसमें 30 से 32 दाँतें प्रति इंच कटे हुए होते हैं। अब इसके अतिरिक्त दो प्रकार और हैं जो की इस प्रकार है -

ऑल हार्ड ब्लेड (All Hard Hacksaw Blade) - इस प्रकार के हैक्सा ब्लेड की बनावट की बात करें तो इसके दोनों सिरों में बने छेद को छोड़कर शेष पुरे ब्लेड को हार्ड व टैम्पर किया गया होता है। इसका प्रयोग कास्ट आयरन पीतल आदि धातुओं को  काटने के लिए किया जाता है। 

फ्लैक्सिबल ब्लेड (Flexible Hacksaw Blade) - इस प्रकार की ब्लेड में केवल काटने वाले दाँतों के भाग को ही हार्ड व टेम्पर किया गया होता है इससे यह होता है की इसमें लचीला पन बना होता है और टूटने का डर नहीं रहता है इसका प्रयोग पतली चादरों पाइपों आदि को काटने के लिए किया जाता है। 

हैक्सा ब्लेड के दांतों की सेटिंग (Setting of Teeth in Hacksaw Blade)

हैक्सा के ब्लेड की सेटिंग की बात करें तो यह भी लकड़ी काटने वाली आरी की दाँतें जिस प्रकार दाएँ बाँए झुकी होती है उसी प्रकार इसकी भी दाँते दाएँ बाएँ झुकी होती है जिससे कम या ज्यादा मोटाई की खांचे बनाते हुए यह धातु को काटता है। जिसे झिर्री कहते हैं।

इसी कारण उस झिर्री में ब्लेड चलाते समय वह फसता नहीं है। अन्यथा झीर्रि में ब्लेड के फंसकर टूटने की संभावना रहती है। इस प्रकार के हानी को रोकने के लिए ब्लेड में तीन प्रकार को सेटिंग की जा सकती है। जो की इस प्रकार है -

 1. रेग्युलर या सिंगल सेटिंग 

इस प्रकार के सेटिंग में हैक्सा ब्लेड का एक दाँता बाएँ तथा एक दाँता दाएं झुका रहता है तथा प्रत्येक पाँचवा दाँता सीधा रहता है या रखा जाता है जो भी कहें। यह दाँता जो सीधा रहता है वह झिर्री के अंदर से जॉब के कटे टुकड़े को बाहर निकालने का काम करता है।

 2. डबल अलटरनेट सेटिंग 

इस प्रकार की सेटिंग में दो दातें बाएं तथा दो दाँतें दाएँ झुके रहते हैं और इनके बीच का जो दाँता होता है वह सीधा होता है जो की झिर्री में फसें दांतों के द्वारा कटे टुकड़ों को बाहर निकालने का काम करता है। 

 3. जिग-जैग या वेव सेटिंग 

इस प्रकार की दांतों की सेटिंग में कुछ दाँतें दाएं तथा कुछ दाँतें बाएं झुके रहते हैं , इसमें दाँतें लहरदार प्रतीत होतीं हैं। इस प्रकार की सेटिंग फाइन ग्रेड तथा सुपर ग्रेड की ब्लेडों में की जाती है। 

 हैक्सा द्वारा काटने की विधि या हेक्साइंग 

जब भी हम किसी भी प्रकार के जॉब की कटिंग करें तो हमें यह सभी क्रम अपनाने चाहिए जो की यहां निचे लिखा गया है- सबसे पहले हमें जॉब पर कटिंग लाइन की मार्किंग करनी चाहिए। जॉब को वाइस से इस प्रकार कसना चाहिए की ब्लेड जो है वह अड़े नहीं और स्मूथली चले और कटिंग लाइन साफ़ दिखाई देती रहे। 

जॉब की कटिंग सतह वाइस से 6-7 मिमी से अधिक दूर नहीं होनी चाहिए। 

जॉब की मोटाई तथा धातु के अनुसार हमें ब्लेड का चयन करना चाहिए। जैसे स्टील के लिए हाई स्पीड स्टील ब्लेड का चयन करना चाहिए। जबकि ब्रांस या एल्युमिनियम के लिए हाई-कार्बन स्टील ब्लेड का चयन करना चाहिए। मोटे सेक्शन के लिए मोटी पिच तथा पतले सेक्शन के लिए पतले बारीक पिच का चयन करना चाहिए।

ब्लेड को जब हम फ्रेम में फीट करें तब इस बात का ध्यान दें की उसके दांतों का झुकाव आगे की तरफ रहे। क्योकि हैक्सा द्वारा अगले स्ट्रोक में ही कटिंग की जाती है।

जहां पर हमे कटिन करनी हो वहां रेती से वि ग्रूव बना लेना चाहिए जिससे ब्लेड इधर उधर नहीं भगेगा। दुसरा तरीका यह है की बाएं हाँथ के अंगूठे का सहारा लेते हुए खाँच बना लेना चाहिए।

हेक्साइंग करते समय दाएं हाँथ से हैक्सा का हैंडिल पकड़कर आगे-पीछे चलाने के लिए जोर लगाना चाहिए। साथ ही बाएं हाँथ से आगे फ्रेम को सहारा देते हुए अगले स्ट्रोक में दबाव डालना चाहिए।

कठोर और जल्दी गरम होने वाले धातुओं को काटने के समय कूलेंट का प्रयोग करना चाहिए। जिससे ब्लेड अधिक गर्म न हो पाए। कास्ट आयरन में किसी भी प्रकार के कूलेंट का प्रयोग नही करना चाहिए। जबकि एल्युमिनियम के लिए केरोसिन का प्रयोग करते हैं।

कटिंग करते समय हैक्सा को जोर से नहीं चलाना चाहिए हैक्सा को हमेशा सीधे चलाना चाहिए। टेढ़ा होने पर कटाई टेढ़ी होती है तथा ब्लेड फंसकर टूट सकता है। ब्लेड के टूटने पर पुराने कट में नया ब्लेड नहीं चलाना चाहिए इससे यह फंसकर टूट सकता है। ब्लेड की पूरी लम्बाई का प्रयोग करना चाहिए।

<Go to Previous           Go to Next>


Related Posts

Subscribe Our Newsletter