Ads 720 x 90

आकाशगंगा किसे कहते हैं - akash ganga in hindi

Akash ganga
आकाशगंगा 

आकाशगंगा क्या है 

आकाशगंगा - गैस, धूल और अरबों सितारों का एक विशाल संग्रह होता है, जिसमे सभी तत्व गुरुत्वाकर्षण द्वारा एक साथ जुड़े होते है। इसे ही आकाश गंगा कहा जाता है। इसमें कई सूर्य, ग्रह, पिंड और उल्कायें शामिल होती है हमारा पृथ्वी जहा स्थित है उसे मल्कीवे कहाँ जाता है। मल्कीवे शब्द ग्रीक भाषा से लिया गया है।       

जिसका शाब्दिक अर्थ "दूधिया" होता है। इसी कारण से इसे मिल्कीवे कहा जाता है। आकाशगंगाओं का आकार कुछ सौ मिलियन सितारों से लेकर एक सौ ट्रिलियन सितारों तक हो सकता है। इसका आकार इतना विशाल होगा की आप सोच भी नहीं सकते है। और यह सारे तारे अपने केंद्र का परिक्रमा अर्थात चक्कर लगते है। माना जाता है कि कई आकाशगंगाओं के केंद्रों पर सुपरमैसिव ब्लैक होल होते हैं। मिल्की वे के केंद्रीय ब्लैक होल का द्रव्यमान सूर्य से चार मिलियन गुना अधिक होता  है। 

मिल्की वे क्या है

ब्रम्हांड में अरबों आकाशगंगा है जहाँ हमारा सौरमण्डल स्थित है उसे मिल्की वे कहा जाता है। रात में आकाश मे जितने भी तारे दीखते है वो सब मिल्की वे का हिस्सा होते है। मिल्की वे शब्द लैटिन भाषा से लिया गया है। अंतरिक्ष से पृथ्वी एक बैंड के रूप में दिखता है। गैलीलियो गैलीली ने पहली बार 1610 में टेलीस्कोप के साथ अलग-अलग तारों में प्रकाश के बैंड की खोज किया। 1920 के दशक की शुरुआत तक, अधिकांश खगोलविदों का मानना था कि मिल्की वे में ब्रह्मांड के सभी सितारे शामिल है। 

1920 के खगोलविद हार्लो शैले और हेबर कर्टिस के बीच बहस के बाद, एडविन हबल की टिप्पणियों से पता चला कि मिल्की वे कई आकाशगंगाओं में से एक है। जीएन-जेड 11 ने मार्च 2016 में पृथ्वी से 32 बिलियन प्रकाश-वर्ष की दुरी तय किया। उसने सबसे पुरानी और दूर स्थित आकाशगंगा की जानकारी दी। और यह बिग बैंग के ठीक 400 मिलियन साल बाद अस्तित्व मे आया था। 

2016 में जारी किए गए शोध ने ब्रह्मांड में आकाशगंगाओं की संख्या को 200 बिलियन के पिछले अनुमान से 2 ट्रिलियन या उससे अधिक तक संशोधित किया गया। कुल मिलाकर जितने पृथ्वी पर रेत के कण है उससे ज्याद ब्रम्हांड में तारे और ग्रह है।  

मिल्की वे का व्यास कम से कम 30,000 व्यास है। जबकि पडोसी आकाशगंगा एंड्रोमेडा गैलेक्सी का व्यास  780,000 है। इसके अलावा ब्राम्हण में और कई बड़े छोटे आकाशगंगाएँ विधमान है।

आकाशगंगा कितने है

वैज्ञानिक मानते है की एलियन होना चाहिए आप खुद सोचिए एक आकाशगंगा में में इतने ग्रह और तारे है तो 2 ट्रिलियन आकाशगंगाओं में अरबो ग्रह होंगे उसमे से किसी न किसी ग्रह पर पर तो जीवनहोना चाहिए। 

लगभग 220 किलोमीटर प्रति सेकंड की दर से गैलेक्सी फ़ैल रही है। लगातार तारो और ग्रहो की घूमने की प्रवित्ति के कारण लगभग 90% भाग दूरबीनों के लिए अदृश्य होते है। 

सूर्य की घूर्णन अवधि लगभग 240 मिलियन वर्ष है। मिल्की वे लगभग 600 किमी प्रति सेकंड के वेग से आगे बढ़ रहा है। मिल्की वे के सबसे पुराने सितारे लगभग ब्रह्मांड जीतना पुराना हैं और शायद बिग बैंग के अंधेरे युग के बाद जल्द ही बन गए होंगे।  

आकाशगंगाओं के बीच टेनसियस गैस से भरा होता है। जिसका घनत्व औसतन प्रति घन मीटर एक परमाणु से कम होता है। अधिकांश आकाशगंगाएँ गुरुत्वाकर्षण के कारण व्यवस्थित होती हैं। मिल्की वे (Milky Way) लोकल ग्रुप का हिस्सा है। जिस पर मिल्कीवे और एंड्रोमेडा गैलेक्सी का दबदबा है। और वह विग्रो सुपरलाइजर का हिस्सा है।

आकाशगंगा का नाम कैसे पड़ा 

खगोलीय शास्त्र में कैपिटल शब्द "गैलेक्सी" का उपयोग अक्सर हमारी आकाशगंगा, मिल्की वे को संदर्भित करने के लिए किया जाता है। ताकि इसे ब्रह्मांड के अन्य आकाशगंगाओं से अलग किया जा सके। अंग्रेजी शब्द मिल्की वे को चॉसर सी द्वारा एक कहानी में प्रयोग किया है। आकाशगंगा शब्द को फ्रांसीसी और मध्यकालीन लैटिन से ग्रीक शब्द से लिया गया है। 

इसे मिल्की वे नाम दूध के सामान सफ़ेद दिखाई देने के कारण दिया गया है। ग्रीक पौराणिक कथाओं में,जीजस अपने बेटे को हेरा के स्तन पर रखता है जबकि वह सो रहा है। इसलिए बच्चा उसके दिव्य दूध पी लेगा और इस तरह अमर हो जाएगा। हेरा स्तनपान करते समय जाग जाती है और फिर उसे पता चलता है कि वह एक अज्ञात बच्चे कोदूध पीला रही है।

आकाशगंगा की दिखावट 

मिल्की वे पृथ्वी से सफेद रोशनी के एक धुंधले बैंड के रूप में दिखाई देता है। जिसे हम रात के समय आकाश में फैला हुए देखते है। नग्न आंखोंसे देखे जाने वाले सभी तारे मिल्की वे का हिस्सा होते हैं। 

प्रकाश की उत्पत्ति अनसुलझी पहेली है ग्रेट रिफ्ट और कोलसैक जैसे बैंड के भीतर के अंधेरे क्षेत्र, ऐसे क्षेत्र हैं जहां इंटरस्टेलर धूल दूर के तारों से प्रकाश को अवरुद्ध करता है। जैसा कि पृथ्वी से देखा गया है। मिल्की वे के गांगेय विमान के दृश्य क्षेत्र में आकाश का एक क्षेत्र है जिसमें 30 नक्षत्र शामिल होते हैं। गेलेक्टिक केंद्र धनु की दिशा में स्थित है। जहां मिल्की वे सबसे चमकदार है। 

धनु से सफेद प्रकाश का धुंधला बैंड गैलेक्टिक एंटीकेंटर के चारों ओर से गुजरता दिखाई देता है। बैंड फिर आकाश के चारों ओर फ़ैल जाता है। 

Related Posts
Subscribe Our Newsletter