ads

Bharat ratna list in hindi - भारत रत्न लिस्ट

अब तक भारत रत्न किन किन को दिया गया है और किन लोगो को दिया जाता है। ये सभी का जवाब आपको मिलेगा। भारत रत्न की शुरुआत 2 जनवरी 1954 को किया गया था। यह भारत के सर्वोच्च पद की उपाधी होती है। 

यह पुरस्कार असाधारण सेवा में प्रदान किया जाता है। यह पुरस्कार मूल रूप से कला, साहित्य, विज्ञान और सार्वजनिक सेवाओं में उपलब्धियों में दिया जाता है लेकिन सरकार ने दिसंबर 2011 में मानव विकास पर किसी भी प्रकार के कार्य को शामिल किया हैं। 

भारत रत्न किन व्यक्तियों को मिलना चाहिए ये प्रधान मंत्री द्वारा राष्ट्रपति को सिफारिश की जाती हैं, जिसमें प्रति वर्ष अधिकतम तीन नामांकित व्यक्ति को भारत रत्न दिया जाता है। प्राप्तकर्ता को राष्ट्रपति द्वारा हस्ताक्षर किया गया प्रमाण पात्र और एक पीपल के पत्ती के आकार का पदक दिया जाता है। इस पुरुस्कार में कोई मौद्रिक अनुदान नहीं दिया जाता है। भारत रत्न विदेशी व्यक्तियों को भी दिया गया है। 

सबसे पहले भारत रत्न प्राप्त करने वाले व्यक्ति राजगोपालाचारी, सर्वपल्ली राधाकृष्णन और वैज्ञानिक सी. वी. रमन थे। जिन्हें 1954 में सम्मानित किया गया था। तब से अब तक 48 लोगो को यह पुरुस्कार दियाजा चूका है। जिनमें से 16 व्यक्तियों को मरणोपरांत सम्मानित किया गया था। 

मूल कानून में मरणोपरांत पुरस्कार प्रदान करने का कानून नहीं था लेकिन 1955 में इसमें संशोधन किया गया। पूर्व प्रधान मंत्री लाल बहादुर शास्त्री मरणोपरांत सम्मानित होने वाले पहले व्यक्ति बने। 2014 को सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न दिया गया। सचिन तेंदुलकर सबसे काम उम्र के व्यक्ति है जिन्हे भारत रत्न प्राप्त है। उसकी आयु 40 वर्ष था। जबकि समाज सुधारक धोंडो केशव कर्वे को उनके 100 वें जन्मदिन पर सम्मानित किया गया था। 

bharat ratna list in hindi - भारत रत्न लिस्ट

भारत रत्न से सम्मानित होने वाली पहली गायिका श्रीमती एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी है जिसको सन 1998 में दिया गया था। आमतौर पर भारत में जन्मे नागरिकों को ही भारत रत्न से सम्मानित किया जाता है, लेकिन मदर टेरेसा और दो गैर-भारतीयों को यह पुरुस्कार दिया गया है। पाकिस्तान के खान अब्दुल गफ्फार खान और दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला को प्रदान किया गया है। 

25 जनवरी 2019 को, सरकार ने सामाजिक कार्यकर्ता नानाजी देशमुख, गायक और संगीत निर्देशक भूपेन हजारिका और भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को पुरस्कार देने की घोषणा की थी।

1992 में, सुभाष चंद्र बोस को मरणोपरांत पुरस्कार देने के सरकार के फैसले का विरोध उन लोगों ने किया जिन्होंने उनकी मृत्यु के तथ्य को स्वीकार करने से इनकार कर दिया था। जिसमें उनके परिवार के कुछ सदस्य भी शामिल थे। 1997 के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद, बोस के पुरस्कार की घोषणा करने वाले प्रेस विज्ञापन को रद्द कर दिया गया। यह एकमात्र ऐसा वाक्या हैं जब पुरस्कार की घोषणा की गई थी लेकिन उसे प्रदान नहीं किया गया था।

भारत रत्न लिस्ट

  1. सी राजगोपालाचारी - तमिलनाडु
  2. सर्वपल्ली राधाकृष्णन - तमिलनाडु
  3. सी वी रमन - तमिलनाडु
  4. भगवान दास - उत्तर प्रदेश
  5. एम. विश्वेश्वरैया - कर्नाटक
  6. जवाहरलाल नेहरू - उत्तर प्रदेश
  7. गोविंद बल्लभ पंत - उत्तराखंड
  8. धोंडो केशव कर्वे - महाराष्ट्र
  9. बिधान चंद्र रॉय - पश्चिम बंगाल
  10. पुरुषोत्तम दास टंडन - उत्तर प्रदेश
  11. राजेंद्र प्रसाद - बिहार
  12. जाकिर हुसैन - उत्तर प्रदेश
  13. पांडुरंग वामन केन - महाराष्ट्र
  14. लाल बहादुर शास्त्री - उत्तर प्रदेश
  15. इंदिरा गांधी - उत्तर प्रदेश
  16. वी. वी. गिरी - ओडिशा
  17. के. कामराज - तमिलनाडु
  18. मदर टेरेसा - पश्चिम बंगाल
  19. विनोबा भावे - महाराष्ट्र
  20. अब्दुल गफ्फार खान - पाकिस्तान
  21. एम जी रामचंद्रन - तमिलनाडु
  22. बी आर अम्बेडकर - मध्य प्रदेश
  23. नेल्सन मंडेला - दक्षिण अफ्रीका
  24. राजीव गांधी - उत्तर प्रदेश
  25. वल्लभ भाई पटेल - गुजरात
  26. मोरारजी देसाई - गुजरात
  27. अबुल कलाम आजाद - पश्चिम बंगाल
  28. जे आर डी टाटा - महाराष्ट्र
  29. सत्यजीत रे - पश्चिम बंगाल
  30. गुलजारीलाल नंदा - पंजाब
  31. अरुणा आसफ अली - पश्चिम बंगाल
  32. एपीजे अब्दुल कलाम - तमिलनाडु
  33. एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी - तमिलनाडु
  34. चिदंबरम सुब्रमण्यम - तमिलनाडु
  35. अयप्रकाश नारायण - बिहार
  36. अमर्त्य सेन - पश्चिम बंगाल
  37. गोपीनाथ बोरदोलोई - असम
  38. रविशंकर - पश्चिम बंगाल
  39. लता मंगेशकर - महाराष्ट्र
  40. बिस्मिल्लाह खां - बिहार
  41. भीमसेन जोशी - कर्नाटक
  42. सी एन आर राव - कर्नाटक
  43. सचिन तेंदुलकर - महाराष्ट्र
  44. मदन मोहन मालवीय - उत्तर प्रदेश
  45. अटल बिहारी वाजपेयी - मध्य प्रदेश
  46. प्रणब मुखर्जी - पश्चिम बंगाल
  47. भूपेन हजारिका - असम
  48. नानाजी देशमुख - महाराष्ट्र

भारत रत्न का इतिहास 

2 जनवरी 1954 को, सचिव के कार्यालय से राष्ट्रपति के लिए एक सन्देश जारी की गई, जिसमें दो नागरिक पुरस्कारों की घोषणा की गई - भारत रत्न सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, और पद्म विभूषण, जो भारत रत्न से नीचे रैंक करता है। 15 जनवरी 1955 को, पद्म विभूषण को तीन अलग-अलग पुरस्कारों में पुनर्वर्गीकृत किया गया, पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री।

इस पुरस्कार को दो बार अपने इतिहास में निलंबित कर दिया गया था। मोरारजी देसाई द्वारा 1977 में चौथे प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद पहला निलंबन हुआ। उनकी सरकार ने 13 जुलाई 1977 को सभी व्यक्तिगत नागरिक सम्मान वापस ले लिए। 

इंदिरा गांधी के प्रधानमंत्री बनने के बाद 25 जनवरी 1980 को यह निलंबन रद्द कर दिया गया। 1992 के मध्य में नागरिक पुरस्कारों को फिर से निलंबित कर दिया गया, जब दो जनहित याचिकाएं दायर की गईं, एक केरल उच्च न्यायालय और दूसरी मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय में, इस याचिका में पुरस्कारों की संवैधानिक वैधता को चुनौती दी गई। मुकदमे के निष्कर्ष के बाद दिसंबर 1995 में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा पुरस्कार पुनः प्रदान किएजाने के आदेश दिए गए।

भारत रत्न के नियम में परिवर्तन 

भारत रत्न को असाधारण सेवा / उच्चतम व्यवस्था के प्रदर्शन में प्रदान किया जाता है। बिना जाति, व्यवसाय, पद या लिंग के भेद के बिना। 1954 के नियमों के अनुसार यह पुरस्कार मूल रूप से कला, साहित्य, विज्ञान और सार्वजनिक सेवाओं तक ही सीमित था। लेकिन दिसंबर 2011 में, मानव विकास के क्षेत्र को शामिल करने के लिए नियमों को बदल दिया गया। 1954 के क़ानून ने मरणोपरांत पुरस्कारों की अनुमति नहींथी लेकिन बाद में इसे जनवरी 1955 के क़ानून में संशोधित किया गया और लाल बहादुर शास्त्री को 1966 में मरणोपरांत भारत रत्न द्वारा सम्मानित किया गया।  

पुरस्कार के लिए सिफारिशें केवल प्रधान मंत्री द्वारा राष्ट्रपति को दी जा सकती हैं, जिसमें प्रति वर्ष अधिकतम तीन नामांकित व्यक्ति को चुना जाता हैं। हालांकि, 1999 में, चार व्यक्तियों को सम्मानित किया गया था। 

भारत रत्न का डिजाइन 

1954 में भारत रत्न पदक के बीच में गोलाकार सोना लगा होता था और भारत रत्न लिखा होता था इसके आलावा देवनागरी लिपि में सत्य में जयते लिखा गया था। 

एक साल बाद, डिजाइन को संशोधित किया गया था। वर्तमान पदक एक पीपल के पत्ते के आकार का होता है। यह लगभग 59 मिमी लंबा, 48 मिमी चौड़ा और 3.2 मिमी मोटा होता है। पदक के सामने उभरा हुआ सूरज का डिजाइन बना है। पीछे की तरफ भारत रत्न शब्द 1954 के डिजाइन के समान ही है। और भारत का प्रतीक "सत्यमेव जयते" भी लिखा होता है। 2 इंच चौड़ा सफेद रिबन पदक से जुड़ा होता है। ताकि इसे गले में आसानी से पहना जा सके । 1957 में इसके आकर को पीतल के पत्ते में बदल दिया गया था। भारत रत्न पदक अलीपुर टकसाल कोलकाता में पद्म विभूषण, पद्म भूषण, पद्म श्री और परम वीर चक्र जैसे अन्य नागरिक और सैन्य पुरस्कारों के साथ दिए जाते हैं।

भारत रत्न देने पर विवाद 

1988 में, तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने 1989 में तमिलनाडु विधानसभा चुनाव से पहले मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए फिल्म अभिनेता और तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री एमजी रामचंद्रन को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया। स्वतंत्रता कार्यकर्ता बी. आर. अम्बेडकर और वल्लभभाई पटेल से पहले रामचंद्रन को सम्मानित करने के लिए इस फैसले की आलोचना की गई थी। 

इंदिरा गांधी द्वारा मरणोपरांत पुरुस्कार देने के फैसले को तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के लिए तमिल मतदाताओं को लुभाने के उद्देश्य से माना गया। इसके अलावा  सातवें प्रधानमंत्री वीपी सिंह दलितों को खुश करने के लिए बीआर अंबेडकर को मरणोपरांत सम्मानित करने के लिए भी आलोचना की गई थी।

भारतीय कानून के अनुसार, खिलाड़ी भारत रत्न के लिए पात्र नहीं थे। हालांकि, दिसंबर 2011 में नियमों के एक संशोधन ने इसे योग्य बना दिया। इसके बाद, कई खिलाड़ियों के नामों पर चर्चा की गई। इनमें से सबसे चर्चित था हॉकी खिलाड़ी ध्यानचंद, जिन्हें मरणोपरांत सम्मान के लिए कई बार सिफारिश की गई थी। 

2011 में संसद के 82 सदस्यों ने प्रधानमंत्री कार्यालय को पुरस्कार के लिए ध्यानचंद के नाम की सिफारिश की। जनवरी 2012 में  खेल मंत्रालय ने उनका नाम फिर से आगे बढ़ाया। इसके अलावा जुलाई 2013 में, खेल मंत्रालय ने फिर से ध्यानचंद की सिफारिश की। इसके बावजूद अभी तक ध्यानचंद को भारत रत्न से सम्मनित नहीं किया गया है। जबकि नवंबर 2013 में क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर यह सम्मान प्राप्त करने वाले पहले खिलाडी बन गए औरइसके लिए लोगो ने सरकारकी कड़ी आलोचना की थी।

bharat ratna list in hindi - भारत रत्न लिस्ट
Related Posts Related Posts
Subscribe Our Newsletter