सभी टॉपिक्स डीजल मैकेनिक नीचे दिए गए है और जानकारी के लिए लिंक पर क्लीक करे

diesel mechanic

file kya hai - Diesel machanic

धातु के बने किसी प्रकार के जॉब को आवश्यकता के अनुसार आकार ( चौकोर , गोल या कोणीय ) देने के लिए इस औजार का प्रयोग किया जाता है। इसे फाइल कहा जाता है।  यह एक प्रकार का ऐसा औजार है जिसमें की कई कटिंग पॉइंट होते हैं।  और इसके द्वारा धातु को कई छोटे-छोटे कोण में काटा जाता है या फिर यूं कहें की घिसा जाता है। इस औजार की खास बात ये है की इस औजार द्वारा किसी जॉब को काटने के लिए जॉब को घिसा जाता है ना कि उस पर जोर जोर से प्रहार किया जाता है। इस औजार के निम्न मुख्य भाग होते हैं जो की इसे किसी धातु को काटने में मदद करता है

ग्रेड किसी भी पदार्थ का मानक होता है, जिस पदार्थ का ग्रेड अच्छा होता है वह पदार्थ उतना ही अच्छा होता है. लेकिन यहां पर ग्रेड से तात्पर्य ये नहीं यहां पर ग्रेड से तात्पर्य ये है , फाइल पर बने दांतों के बीच जो दूरी होती है , उसी के आधार पर ग्रेड का निर्धारण होता है। फाइल के फेस पर प्रति इंच दांतों की संख्या निश्चित रहती है। जैसे जैसे इन फाइल के दांतों की संख्या में वृद्धि होती जाती है वैसे वैसे इनके बीच की दूरी कम होती जाती है। इसी के आधार पर इनके ग्रेड का निर्धारण किया जाता है।


चीजल क्या हैDiesel machanic

चीजल डीजल मैकेनिक कोर्स में प्रयोग होने वाला एक महत्वपूर्ण कटिंग या काटने के लिए प्रयोग किया जाने वाला औजार है। इसे मैकेनिकल भाषा में छैनी कहा जाता है। छैनी द्वारा फ्लैट, राउण्ड , एंगल आयरन तथा 1/8'' तक मोटी धातु की चद्दरों को काटा जा सकता है। छैनी द्वारा जॉब की सतह से अनावश्यक धातु को छोटे-छोटे टुकड़ों के रूप में काटकर अलग करने (छीलने का कार्य किया जाता है।) यह कार्य चिपिंग( CHIPPING ) कहलाता है।


चीजल कितने प्रकार के होते है - Diesel machanic

अब मैं आपको चीजल के प्रकार के बारे में बताने जा रहा हूँ जो की निम्न प्रकार का होता है - छैनी/चीजल की काटने वाली धार तथा उसकी बनावट कई प्रकार की होती है।
  1. फ्लैट चीजल
  2. क्रॉस कट चीजल
  3. साइड कट चीजल
  4. हॉफ राउण्ड चीजल
  5. डायमण्ड पाइंट चीजल

    मार्किन टूल के प्रकार

    यह दो टांगों वाला औजार है इसकी दोनों टांगे आगे से नुकीली होती है। इसकी दोनों टांगे स्प्रिंग या रिवेट के द्वारा जुड़ी होती है। इसके द्वारा किसी जॉब पर चाप या वृत्त खींचा जाता है तथा रेखाओं को बराबर भागों में विभाजित करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

     कटिंग टूल क्या है 

    इस प्रकार साथियों कटिंग टूल्स को उसके कार्य के हिसाब से विभिन्न प्रकारों में बांटा गया है तथा इन सभी प्रकारों का वर्णन यहां नहीं किया जा सकता है क्योकि इन सभी को और अधिक प्रकारों में उंनकी बनावट के आधार पर बांटा गया है। इसलिए इन सभी का वर्णन मैं आगे विस्तार से एक-एक करके करूँगा आप सभी को ऊपर में लिखे कटिंग टूल्स के नाम को क्लिक करके पढ़ सकते हैं क्योकि वो एक लिंक है जिसे आप क्लिक करते ही किसी दूसरे पेज पर रीडायरेक्ट हो जाते हैं 

    मार्किंग टूल पांच 

    स्थाई रूप से चिह्न के लिए प्रयोग किया जाने वाला एक औजार है जिसका उपयोग हैमर के द्वारा ठोक कर किया जाता है तथा यह बहुत ज्यादा आवश्यक होता किसी भी प्रकार के ऐसे काम के लिए जिसमें जॉब को बार बार छूना पड़ता है और उसे एक स्थान से दूसरे स्थान घसीट कर ले जाना होता है इसके लिए अतः इसका प्रयोग करके छोटे छोटे खांचे बना दिए जाते हैं। जो की तभी मिट सकता है जब उसे मिटाया जाए अन्यथा यह कभी नहीं मिटता है।


    मार्किंग टूल पांच-पार्ट 2 

    इस प्रकार के पंच का प्रयोग मुख्य रूप से फिनिशिंग के लिए किया जाता है। इस पंच के नोक नुकीली ना होकर फ्लैट होती है और यह विभिन्न आकारों में जैसे- वर्गाकार , आयताकार, गोल या फिर किसी अन्य आकार की भी हो सकती है। इसका प्रयोग पतली चादर में छेद करने के लिए भी किया जाता है।


    marking tool full details

    उसके प्रकार के बारे में जानने से पहले मैं आपको उसके बारे में कुछ बता दूँ की ये क्या है - किसी जॉब पर नाप लेते समय जिन औजारों का प्रयोग निशान लगाने के लिए किया जाता है या जिन औजारों को निशान लगाने के लिए प्रयोग में लाया जाता है उसे ही मार्किंग टूल्स कहा जाता है।


    marking tool basic

    किसी भी कार्य की उपयुक्त परीवृत्ति में चिह्न ( Marking ) की विशेष भूमिका होती है। मार्किंग को निर्देशक। मानकर उस दिशा में किये जाने वाले कार्य को चिह्न टूल कहलाते हैं। मैकेनिक डीजल कोर्स के लिए ये औजार महत्वपूर्ण हैं।
    सिम्पल से भाषा में कहें तो इसे हम चिन्ह बनाने के लिए प्रयोग किये जाने वाले औजार कह सकते हैं।



    method of marking tools

    धातु पर खींची गई लाईने ठीक से दिखाई नहीं देता है इसके लिए जॉब पर रीमार्किंग विधियों को लगा दिया जाता है। लगाने की विधी या जिस प्रकार से उसे लगाया जाता है उसे उसकी विधी कहा जाता है।

    स्क्राइबर मार्किंग टूल 

    धातु की सतह पर लाईन खीचने के लिए स्क्राईबर का प्रयोग किया जाता है , ये हाईकार्बन स्टील या टूल स्टील के बनाये जाते हैं। जिसे चिह्न कार्य के लिए प्रयोग किया जाता है। इसके दोनों सिरे नुकीले बनाये जाते हैं। इसके सिरों को घिसकर 12° से 15° के कोण पर बनाया जाता है।


    किसी भी मोटर गाड़ी का वह भाग होता है जो गाड़ी को स्टार्ट करने के लिए बहुत जरूरी होता है और ये कोई भी बाईक , कार , ट्रक को चालू करने के लिए जरूरी होता है। जिसे स्टार्टर कहते हैं। जो की बैटरी के डीसी करेंट से चलता है जिसकी कैपेसिटी 12V होता है। स्वीच को ऑन करते ही यह चालू हो जाता है इससे बैटरी के प्लस और माइनस सिरे जुड़े होते हैं। इसे इंजन स्टार्टर के नाम से भी जाना जाता है। 

    स्टील मेजरिंग टेप 

    इस प्रकार के टेप का प्रयोग आपको अंदर के किसी भी पार्ट को नापने के लिए नहीं करना होता है बल्कि ये आपके डीजल इंजन में उपयोग होने वाले विभिन्न प्रकार के बाहरी वस्तुओं की नाप लेने के लिए प्रयोग किया जाता है।

    नापने वाला अवजार 

    कोई भी प्रकार का इंजिनयरिंग से सम्बन्धित कोर्स हो आपको नापने वाले औजार की आवश्यकता पड़ती ही है। मैं आपको बता दूँ इसके बिना कोई भी इंजिनयरिंग कोर्स हो वो अधूरा है। आप जो दीअजल मेकैनिक का कोर्स कर रहें हैं या करने वाले है तो आपको बता दूँ ये बहुत ही जरूरी पार्ट है आपके पढ़ाई का। ये कोर्स आपके मेकेनिकल क्षेत्र में आता है।

    engine kitne prakar ke hote hain

    आपको सबसे पहले जानना चाहिए की इंजन क्या है और फिर उसके बाद हमें जानना चाहिए की इंजन कितने प्रकार का होता है यहां पर मैं आपको बता दूँ इंजन एक प्रकार का ऐसा मशीन है जो की ईंधन से चलता है और उष्मीय ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा में बदल देता है यह उसके कार्य के आधार पर अलग अलग बनाया जाता है जैसे की हल्के कार्य के लिए पेट्रोल इंजन का उपयोग किया जाता है वहीं भारी कामों के लिए डीजल इंजन का प्रयोग किया जाता है।


    जिसके कारण धुँआ उत्तपनन होता है । और वह बाहर निकलने की कोसिस करता है जिसके कारण वह पिस्टन पर दबाव डालता है तथा पिस्टन ऊपर जाने लगता है पिस्टन के क्रेंक साफ्ट से जुडे होने के कारन क्रेंक साफ्ट घुमने लगता है । जो की गेयर से जुडा होता हैं जिसको आवश्यकतानुसार बदल सकते हैं


    पिस्टन के जाम होने का दूसरा कारण ये हो सकता है की पिस्टन के व सिलेंडर के दीवारों पर लुब्रिकेशन ऑयल की कमी अथवा उचित ग्रेड के ऑयल का प्रयोग न करना। निवारण- आपको लुब्रिकेशन प्रणाली की जांच करनी चाहिए उसके बाद उसमें अगर कोई खराबी ना हो तो उसके लिए उचित ग्रेड के ऑयल का प्रयोग करना चाहिए।

    piston  इंजन का एक पार्ट का नाम है जो की सिलेंडर के अंदर ऊपर नीचे होता रहता है। इसके ऊपर नीचे चलने से ही इंजन में सक्सन , कम्प्रेशन, पावर तथा एक्जास्ट स्ट्रोक पूरे होते हैं। इंजन में जब सबसे पहले शक्ति उत्पन्न होती है तो piston को ही सबसे पहले तेज झटके का सामना करना पड़ता है । इसलिए इसको बनाते समय धातु का चुनाव सोच- समझ के करना चाहिए। आप किसी भी प्रकार के धातु का चयन करें उसमें ये गुण निश्चित रूप से होना चाहिए।


    What is engine Overholing


    सबसे पहले तो ओवर होलिंग करने के लिए आपको कम्बश्चन चेम्बर के कार्बन को खुरचकर अलग करना होगा। और इसके साथ ही वाल्व शीट के कार्बन को खुरचकर वाल्व शीट को काटना होगा फिर वाल्व गाईड को साफ करें। यदि ढीली हो तो हमें बड़ी वाल्व गाईड फिट करनी चाहिए और इसके बाद आपको हैड के सभी पानी के मार्गों को बन्द करना है और जोर से प्रेशर द्वारा पानी डालकर उसको साफ करना है। और पानी के मार्गों को के क्रेक को चेक करना चाहिए।



    oil sump ful detail


    ऑयल सम्प किसी भी इंजन का वह भाग या कन्टेनर होता है जिसमें ऑयल पाया जाता है और यह ऑयल को इंजन के बन्द होने के बाद संग्रहित करके रखता है।




    Cylender head types 


    इसका प्रयोग इंजन के सिलेंडर ब्लॉक में सिलेंडर को ऊपर से बन्द करने के लिए किया जाता है , इस सिलेंडर हैड में कम्बश्चन चैंम्बर बना होता है। जहां ईंधन जलता है जिन इंजनों में वाल्व सिलेंडर हैड फिट किया जाता है। ये ऊंचाई में ज्यादा होते हैं क्योकि इनमें वाल्व गाइड फिट किये जाते हैं। और ये कास्ट आयरन के बने होते हैं।



    cylender liner full detail

    इस प्रकार के सिलेंडर लाइनर का प्रयोग री बोर प्रकार के घिसे हुए सिलेंडर लाइनर में फिट किये जाते हैं। इस प्रकार के लाइनर का प्रयोग किसी घिसे हुए सिलेंडर के ऊपर फिट करने के लिए किया जाता है आपको इसे फिट करने के लिए यह सावधनी बरतनी पड़ती है की ये सिलेंडर से चिपक कर लगे और इसमें थोड़ा सा भी गेप ना रहे आपको इस प्रकार के लाइनर फिट करते समय यह ध्यान रखना है

    what is the main part of engine 

    इंजन एक प्रकार का मशीन है जो की उष्मीय ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा में परिवर्तित कर देता है। और यह कई भागों से मिलकर बना होता है। यहां पर इंजन के मुख्य भागों के बारे में बताया जा रहा है जो की किसी भी इंजन के लिए अति आवशयक होते है। तो चलिए शुरू करते हैं।

    How to move piston in engine

    पिस्टन इंजन का एक महत्वपूर्ण अंदरुनी हिस्सा है , जो इंजन के अंदर लगा होता है । यह जिस प्रकार से कांच का बिकर होता है उसी प्रकार का होता है, लेकिन इसका डिजाइन इंजन के हिसाब से इसमें कट किया जाता है।


    Bike me aaye air ko bahar kaise kare

    कभी कभी बाइक चलाते समय बाइक अचानक से रुक जाती है तथा बाइक स्टार्ट नहीं होता है इसके कई कारण हो सकते हैं उनमें से एक कारण ये भी हो सकता है की बाइक के फ्यूल पाईप में हवा आ गया हो जिसके कारण बाइक चालू नही हो पाता है।

    जब आप इंजन को स्टार्ट करते हैं तो इसमें लगे एच टी कॉयल द्वारा पैदा हुई वोल्टेज और करेंट इलेक्ट्रोड के बीच एक चिंगारी या स्पार्क तैयार करता है और सिलैण्डर के अंदर मौजूद वायु और ईंधन के मिश्रण को प्रज्वलित करता है, स्पार्क प्लग सिलेंडर हैड में लगता है एच टी कॉयल को करेंट मेग्नेटों से प्राप्त होता है स्पार्क प्लग गर्मी का भी संचरण करता है।


    फाइलिंग क्या है ?

    फाइल के साथ काम करना ही या फाइल का प्रयोग करते हुए किसी जॉब ( वस्तु ) जो की लोहे का या कार्बन का बना हो उसे काटना या घिसना फाइलिंग कहलाता है। इसका प्रयोग हम किसी जॉब में से अतिरिक्त पदार्थ को निकालने के लिए करते हैं। इस प्रकार रगड़ कर निकालने की क्रिया फाइलिंग कहलाती है। फाइलिंग करने के लिए छोटे जॉब को किसी वाइस से पकड़ा जाता है और फाइलिंग के लिए वाइस का प्रयोग कोई आवश्यक नहीं है इससे बड़े जॉब को बिना पकड़े भी फाइलिंग किया जा सकता है।

    Scraper एक प्रकार का खुरचने के लिए प्रयोग किया जाने वाला औजार है और यह औजार डीजल मैकेनिक कोर्स में कटिंग टूल्स के नाम से जाना जाता है तो दोस्तों इससे पहले मैंने एक और पोस्ट लिखा था जिसमें मैंने आपको कटिंग टूल्स के बारे में बताया था जिसे आप पढ़ सकते हैं।

    Drilling Machine एक प्रकार का Cutting करने वाला औजार है जिसका प्रयोग हम अपनी आवश्यकता के अनुसार करते हैं , लकड़ी के साथ साथ लोहे को भी काटने का काम करता है। Drilling Machine के उपयोग हम लकड़ियों (woods) में सुराख करने के लिए करते हैं और लोहे में भी इससे सुराख किया जा सकता है। Drilling machine के work करने के आधार पर दो प्रकारों में बांटा गया है - पोर्टेबल ड्रिलिंग मशीन, स्थिर ड्रिलिंग मशीन

    Tap एक प्रकार का कटिंग टूल है जिसके द्वारा cylindrical hols में चूड़ियां निकाली जाती है या खाच बनाई जाती है। इस प्रकार के चूड़ियां काटने को ही टैपिंग कहा जाता है। Taping करने से पहले एक निश्चित साइज का होल ड्रिल मशीन के द्वारा बनाया जाता है तथा उसे रिमर द्वारा निर्मित किया जाता है तत्पश्चात उसमें टैप को चलाकर चूड़ियां काटी जाती हैं।

    what is dies disel machanic

    जिस प्रकार किसी होल में चूड़ी काटने के लिए टैप(tap) का प्रयोग किया जाता है ठीक उसी प्रकार बेलनाकार रॉड में चूड़ी काटने के लिए डाई का प्रयोग किया जाता है। जैसे- बोल्ट, स्क्रू तथा पाइप आदि में ड्रिल से होल करके उस होल के बीच में डाई का प्रयोग करके विशेष प्रकार की चूड़ियां काट देते हैं इन चूड़ियों को कटिंग एड्ज प्रदान करने के लिए चार फ्रूट भी बना देते हैं। एक ओर की कुछ चूड़ियां टेपर की जाती हैं डाई एज टूल अलॉय स्टील की बनाई जाती है जिससे इन्हें अच्छी कठोरता प्रदान की जाती है चूड़ियों की शुरू में चैम्फर होने से चूड़ी आसानी से रॉड में चढ़ जाती है।



    Die ke dwara chudi kis prakar 


    Dekhiye jab ham kisi die ke dwara chudi katate hai to sbase pahle hame kis prakar ki chudi katni hai ise pahle se taiyar kar lete hai aur jis rod par chudi katni hai uske size ko bhi adjust kar lete hai. Jis rod me chudi katni hoti hai uska upri bhag yani ki jaha se ham chudi katna chahte hai vah sira thoda sa sakra hona chahiye jise ham chamfer hona kahte hai. ese karne se chudi katne me aasani hoti hai.





    Reamer kya hai ?


    Diesel mechanic के कोर्स के लिए हमें कटिंग टूल्स की आवश्यकता होती है और कटिंग टूल्स में एक टूल Reamer भी है। जब हम drill से किसी जॉब पर होल करते हैं तो उसकी फीनीसिंग के लिए हमें इस टूल रीमर की आवश्यकता पड़ती है। इसके अलावा किसी सुराख को टेपर करने के लिए किया जाता है। किसी टेढ़े सुराग को सीधा करने के लिए और होल को बड़ा करने के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है।




    Kholne ewm Bandhne wale aujar

    Kholne wale aujar ese aujar hote hai jiska upyog ham kisi bhi prkar ke machine ke upar ke bhag ko ya upar ke parat ko hatane ke liye karte hai. Ya ise is prakar se bhi samjha ja sakta hai jab hame kis nut ko ya kisi dhakkan ko hatane ki aawshyakta ya kholne ki aavshyakta padti hai to ham kramsha pana ewm penchis (palas) jaise chijo ki aawshykata padti hai is prakar jo chije ham kholne ke liye use karte hai jyadatar vahi chije ham wastuo ke machine ko band karne ke liye bhi karte hai.



    वर्नियर कैलिपर्स क्या है




    यह एक प्रकार का मिक्रोमीटर है जिसका उपयोग हम ऐसे जगहों पर करते हैं जहां पर किसी बड़े नापने वाले औजार का प्रयोग नहीं किया जा सकता इस कारण इसे माइक्रोमीटर के नाम से भी जाना जाता है और यह इसी श्रेणी में भी आता है। जैसे की हमें किसी ऐसे चीज की माप लेनी है जिसके घिसने की मात्रा बहुत ही कम है लगभग मिमी में तो हम इस प्रकार के माइक्रोमीटर का प्रयोग करते हैं।  





    अस्थाई फास्टनर अस्थाई में किसी मशीन के भागों को बिना किसी तरह के हानि पहुंचाए पुरी तरह खोला व जोड़ा जा सकता है। इन कार्यों के लिए नट बोल्ट स्क्रू लॉकिंग तथा वासर आदि का प्रयोग किया जाता है तथा इन साधनों को ही फास्टनर या बंधक कहा जाता है।