भ्रमरगीत में श्रीकृष्ण को क्या कहा गया है

भ्रमरगीत में श्री कृष्ण को काले भवरे की उपाधि दी है। जब उद्धव गोपियों को समझाने के लिए मथुरा से वृंदावन आता है। और गोपियों को समझाता है, परंतु वह गोपीयो समझने के बजाय, उद्धव को ही प्रेम के बारे में बताने लगते है, उस समय गोपियों ने श्री कृष्ण को काले भवरे की उपाधि दी है।

Related Posts

कितनी भी हो मुश्किल थोड़ा भी न घबराना है, जीवन में अपना मार्ग खुद बनाना है।