Saturday, November 23, 2019

नकली मोबाइल की पहचान कैसे करें

दोस्त आपका स्वागत है मैं ये जानकारी आपके लिए इसलिए लिख रहा हु की आप किसी भी के पास धोखा ना खाये और पैसे बर्बाद ना करे क्योंकि आप जो मेहनत करते है आपको ही पता होता है की कितनी मेहनत के बाद ही पैसे आते है।

nakli_mobile_ki_pahachan

नकली मोबाइल की पहचान कैसे करें

दोस्तों मैं एक बार खुद ऐसे लोगों के झासे में आ गया था और मैं भी धोखा से उस मोबईल को ले लिया था। उस मोबाइल को मेरे को samsung j7 prime है करके बताया गया था और मेरे द्वारा भी चेक करने पर उसमें J7 prime लिखा था और दोस्तों उस मोबाइल का बिल भी मुझे पेस किया गया था दोस्त उस समय मुझे ये मालूम नहीं था की मोबाइल का भी कोई लोग डुब्लीकेट व्यपार करते हैं जब मैंने उन लोगों से पूछा तो उन्होंने ने भी बताया की इसमे 4G चलेगा करके लेकिन दोस्त उस समय इतना भी दिमाग में नहीं आया की इसको अच्छे से चेक किया जाये। क्योकि जब अगर आपके पास सबूत के तौर पर पूरी रसीद हो तो आप तो उसे सहीं ही समझेंगे ना ! उन लोगो ने मुझे धोखा दिया और मैं चाहता हु की आप भी किसी से मेरी तरह धोखे में ना फसे क्योकि आज के समय में लोगो को पैसे कमाने के लिए यहीं आसान तरीका लगता है लेकिन दोस्त याद रखना जो लोग धोखे देते हैं वो कभी भी सुखी नहीं होते है क्योकि आप किसी को धोखा दोगे तो आपको भी एक ना एक दिन कोई धोखा जरूर देगा।

दोस्त लोग तो यहीं कहेंगे की आपको इसकी समझ नहीं थी तो हमसे पूछ लेते लेकिन मैं बस इतना कहूँगा की अगर आप भी उस मोबाइल को देखेंगे तो आप भी कहेंगे की ये samsung का J7 prime ही है क्योकि इसको अगर आप ऊपर से और अंदर से देखते हैं तो आपको ये पता ही नही चलेगा ये हुबहु उससे मिलता जुलता model है। आपको रसीद को देख कर ही विश्वास हो जायेगा की ये मोबाइल सहीं है या नहीं आप तो जानते ही है की प्रत्यक्ष को प्रमाण की जरूरत क्या। लेकिन दोस्त बात यहीं पर खत्म नहीं होती कि लोग आपको यहीं कहकर छोड़ देते है लोग आपको पूर्ण रूप से आस्वस्त करने की कोसिश जरूर करते है। लेकिन आपको इन सब चिजों पर ध्यान नहीं देना बस आपको इतना याद रखना है की आपको कोई ठग ना सके।

तो चलिए मैं आपको बताता हूँ की कैसे लो ठग जाते है-
1. तुरन्त भरोसा कर लेते हैं उनकी मीठी मीठी बातों पर ये सबसे बड़ी गलती है।
2. रसीद दखाते ही सच मान लेते हैं।
3. अब मोबाइल को देख कर उत्साहित हो जाते हैं।
4. आपको लगता है आपको इससे अच्छा कम दर पर और कहीं मोबाईल नहीं मिलेगा।
5. आपको लेने से पहले नेट में चेक करके भी वो बताते है और आप सच मान लेते हैं लेकिन सच तो ये है की आपको वो गलत सामान बेच रहे है और नेट पर आपको सहीं समान दिखा रहें है।
6. वो आपको फूल प्रूफ बताते है और की ये माडल सहीं में SAMSUNG का है करके इसलिए लोग उनकी बातों में आ जाते हैं।
7. सस्ते में देने की बात करते है और ज्यादा दिन लिए नहीं हुआ है करके बताते हैं इसलिए आपको वे भरोसे करने लायक लगते हैं।

तो चलिए अब बाते करते हैं की कैसे उस मोबाइल का पर्दा फास करना है-
1. सबसे पहले आप मोबाइल का स्विच ऑन करते है आपको उस मोबाइल का माडल और कम्पनी का नाम बताता है। लेकिन क्या ये सहीं में इस कम्पनी का हो सकता है। इससे ये साबित नही होता की वो मोबाइल सहीं में उस कंपनी है क्योकि इसको चेंज किया जा सकता है। अब आप को लगता होगा कैसे अरे यार मोबाइल को रूट करके या उसमें अन्य किसी प्रकार का साफ्टवेयर डालकर तो ठीक है इससे आपको प्रूफ नहीं मिलता की वो मोबाइल आप जो सोच रहे हो उसी कम्पनी का है।

2. इसे चेक करने के लिए आपको सबसे पहले मोबाइल के सेटिंग में जाना होगा फिर आपको उसका अबॉउट फोन वाले ऑप्सन में जाना है। अब यहां आपको चेक करना है की ये किस मोडल का है किस कम्पनी का है। याद रखें दोस्तों आपको यहां पर उस मॉडल का नाम तो मिल जाता है जो आप सोच रहे हो लेकिन क्या आपको इससे प्रूफ होता है की सच में उसी मोडल का है। नहीं इससे ये फ्रूफ नहीं होता है। क्योकि ये भी चेंज किया जा सकता है। या वहीं मॉडल नाम डाला जा सकता है जिसे आप ढुंढ रहें हैं।

3. अब आपको चेक करने के लिए क्या बचता है एंडरॉयड वर्जन ना लेकिन ये तो अपडेट भी किया जा सकता है। या आपको जिस वाले वर्ज़न की तलास हो या आप उस मॉडल में जिस वर्जन को जानते है उसी को डाला जा सकता है।

4. सबसे पहले तो आप कंपनी का लोगो चेक करें और समझे की सहीं मायने में ये कम्पनी का ही लोगो तो है ना आपको नकली मोबाइल में कुछ ना कुछ फर्क जरूर दिखेगा। लेकिन इससे भी आपको दोखा हो सकता है। क्योकि आज कल ऐसे ऐसे मशीन आ गए है जो सेम टु सेम आपको वैसा ही लोगो बना कर दिखा देता है।
बस हम लोग यहीं तक चेक करते है और मान लेते हैं की सच में ये उसी मॉडल का मोबाइल है जिसे मेरे पास वह आदमी बेच रहा है उसी ने लिया है और क्योकि रसीद में भी उसी का नाम होता है। इस कारण धोखा हो जाता है।
तो चलिए मैं आपको बताता हूँ की कैसे ये कन्फर्म होगा ही ये उसी मॉडल का उसी कम्पनी का मोबाइल है। जिसे आप लेना चाहते है और वह आदमी आपको उसी मॉडल है करके बेच रहा है।

1. आप मोबाइल के अबाउट फोन में जाये और Build number को चेक करें अगर सहीं मोबाइल होगा तो आपको Build number में आपका मोबाइल का मॉडल नम्बर होगा। इसके साथ और कुछ नंबर हो सकते हैं। लेकिन ये कन्फर्म है की मॉडल नम्बर जरूर होगा। आप इस नम्बर को मॉडल नम्बर से मैच करें।  यहां मिस्टेक पकड़ा जायेगा।

2. आपको और चेक करना है तो आप उसी अबाउट फोन की सेटिंग में जाकर सबसे लास्ट में build number ही होता है अगर उसमें Custom build version हो  तो उसमें भी आप देख सकते हैं उसमें आपके जिस मोबाइल कम्पनी ने उसे बनाया है उसका नाम उसमे होता ये चेंज नहीं हो सकता। आप जैसे की सेमसंग का मोबाइल देख रहें है तो उसमें सेमसंग का नाम होगा उसके बाद नंबर होगा। यदि नहीं है तो वो हेनसेट नहीं है जिसे आप लेना चाहते हैं।

3. आप इसके बाद ये प्रूफ करें की इसका IMEI number सहीं है या नहीं इसे अपने रसीद से मिलान करके चेक कर सकते हैं। अगर नहीं मिला तो जान ले की ये वो मॉडल नहीं है या ये मोबाइल तो उसी मॉडल या कम्पनी का है लेकिन इसके फीचर सेम नहीं होंगे इस तरह आप यहा धोखा खाने से बच सकते हैं। क्योकि आज कल IMEI number को भी चेंज किया जा सकता है। और जाहिर सि बात है जिसको कम्पनी से लेना नहीं पड़ता है बल्कि कम्पनी के मोबाइल खराब होने पर उसे अन्य मोबाइल पर ट्रांसफर किया जा सकता है।
यहीं तरीका बेस्ट तरीका है आपके मोबाइल के सहीं पहचान का अगर कुछ खराबी के कारण ये बदलना पड़ा कहे तो आप उसे ना मानें। हालांकि आपको उसी मॉडल का IMEI number होता है लेकिन रसीद से अगर गलत हुआ तो है।

4. अब आपको एक और आसान सा तरीका बताता हूँ आप मोबाइल का मेंनु में जा के कैमरे में एक फोटो लें और उसका डिटेल चेक करें इसमें आपको मॉडल और मेकर मिलेगा जिसमें आपके मेकर में कम्पनी का नाम होता है और मॉडल में कम्पनी के नाम के साथ मॉडल नम्बर होता है। अगर सिर्फ मॉडल नम्बर है तो फ्रॉड है। कम्पनी का नाम जिस कम्पनी का आप मोबाइल लेना चाहते हैं उसे ही यहा चेक करें और मॉडल नम्बर के साथ कम्पनी का नाम अवश्य जुड़ा होता है। अगर नहीं है तो बिल्कुल फ्रॉड है।

5. आपको एक और बात बताता हूँ आप यदि नए मोबाइल किसी नॉन रिटेलर के पास से ले रहे हो तो आपको ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए और एक बात अगर सम्भव हो तो उस मोबाइल में गूगल प्ले स्टोर से एक एप्प जरूर इंस्टॉल करें जो प्ले स्टोर में CPU-Z के नाम से है।
  इस एप्प के माध्यम से भी आप चेक कर सकते हैं की यह मोबाइल किस कम्पनी का है और इसमें कौन से प्रोशेशर, CPU का प्रयोग हुआ है आदि इसमें बहुत सारे जानकारी होते हैं।

www.Rexgin.in


तो दोस्तों ये तो थी मेरे हिसाब से मोबाइल के फ्रॉड होने या कम्पनी के फ्रॉड होने की पहचान करने की बात अगर आपको इससे सम्बंधित और भी जानकारी हो तो मुझसे कमेन्ट के माद्यम से शेयर कर सकते है जिससे बहुत सारे लोग इस प्रकार के ठगी से बच सकते हैं।
दोस्तों इसे शेयर जरूर करें जिससे ये जानकारी दूसरों तक भी पहुंच सके ।

No comments:

Post a Comment

Thanks for tip