पेचकस क्या है Screwdriver in hindi - Diesel mechanic


Chapter 5.2

खोलने एवं बाँधने वाले औजार पेचकस

Hello and welcome friend आज मैं आपसे बात करने वाला हूं। डीजल मैकेनिक कोर्स से रिलेटेड खोलने एवं बांधने वाले औजार के बारे में जिसमें मैं आपसे बात करूंगा पेचकस के बारे में तो चलिए शुरू करते हैं।


standard screwdriver offset screwdriver ratchet screwdriver Phillips screwdriver

पेचकस क्या है (What is Screwdriver)

दोस्तों आपने पेचकस को एक और नाम से सुना होगा जिसको हम स्क्रुड्राइवर कहते हैं स्क्रुड्राइवर छोटा बड़ा होता है अपने काम के अनुसार यह हो सकता है। हर सभी को टेस्टर के बारे में मालूम ही होगा जिससे हम बिजली के करंट का पता लगाते हैं तो पेचकस भी उसी प्रकार का होता है लेकिन यह आकार में बड़ा होता है।

तो इससे अब क्लियर हो गया होगा कि पेचकस क्या है ? स्क्रू ड्राइवर का प्रयोग किसी स्क्रू को खोलने या कसने के लिए प्रयोग किया जाता है।


पेचकस के भाग (Parts of Screwdriver)
  • Blade cheap
  • Sank
  • Handle
Blade cheap
पेचकस के आगे का भाग blade cheap कहलाता है।

Sank
पेचकस का मध्य भाग जोकि गोल होता है वहां सैंक कहलाता है।

Handle
पेचकस का ऊपरी भाग जिस को पकड़ कर घुमाया जाता है वहां हैंडल कहलाता है।

पेचकस के प्रकार (Types of Screwdriver)

लंबाई के आधार पर फैसला निम्न प्रकार के होते हैं -
  1. साधारण फ्लैट पेचकस (Simple Screwdriver)
  2. आफसेट पेचकस (Offset Screwdriver)
  3. रैचिट पेचकस (Ratchet Screwdriver)
  4. फिलिप्स पेचकस (Philips Screwdriver)

1.साधारण फ्लैट पेचकस (simple pechkas)

यह साधारण पेचकस होते हैं और जिस प्रकार सभी पेचकस खोलने एवं कसने के लिए प्रयोग किए जाते हैं यह विभिन्न साइज छोटे बड़े आकार के होते हैं इन पर लकड़ी या प्लास्टिक का हैंडल लगा होता है यह कार्य के अनुसार लाइट ड्यूटी स्क्रुड्राइवर होते हैं इनका बीट यानी आगे का भाग चपटा होता है।

2.ऑफसेट पेचकस (offset pechkas)

इस प्रकार के पेचकस के आगे का भाग भी चपटा होता है और पीछे का भाग भी चपटा होता है लेकिन इसकी दोनों ओर के आखरी छोर 90 अंश के कोण पर मूडे होते हैं। इस प्रकार के पेचकस का प्रयोग उन स्थानों पर किया जाता है जहां पर साधारण पेचकस का उपयोग नहीं किया जा सकता या वह तिरछा होता है।
इसका मतलब है सकरी जगहों पर इस प्रकार की पेचकस का उपयोग किया जाता है।


3.रैचिट पेचकस (rachit pechkas)

इस प्रकार के रैचिट पेचकस में स्प्रिंग लगे होते हैं और रैचिट हैंडल के अंदर यह फिट होते हैं। और हैंडल के बाहर एक बटन होता है जिसे दबाने पर स्प्रिंग द्वारा रैचिट पेचकस के सैंक को घुमाने लगता है और बटन को छोड़ने पर वह घुमाना बंद कर देता है और पुनः अपनी स्थिति में वापस लौट आता है इस प्रकार के पेचकस का प्रयोग करने से बहुत ही शीघ्रता से पैचो को खोला जा सकता है।


4.फिलिप्स पेचकस (Philips pechkas)

Philips pechkas ऐसे पेचकस होते हैं जिनके आगे का भाग 4 पहल में कटा होता है और इसका प्रयोग ऐसे स्क्रू को खोलने में किया जाता है जिसके ऊपर क्रॉस का या क्रॉस के आकार का ग्रुव बना होता है या खाजा बना होता है। यह विभिन्न नंबर्स के अनुसार माप के आते हैं।


Conclusion

पेचकस एक महत्वपूर्ण औजार है जिसका प्रयोग हम डीजल मैकेनिक कोर्स के अंतर्गत करते हैं। इसके प्रकार को हम अन्य आधारों पर भी बांट सकते हैं।


Read also

Related Posts

Subscribe Our Newsletter