हम सब जानते है कि भारत और पाकिस्तान का रिश्ता कैसा है। ऐसा क्या हुआ जिससे की भारत और पाकिस्तान  का रिश्ता दुश्मनी भरा रहा है। आज हम इसी प्रश्न का विश्लेषण करेंगे।





कश्मीर समस्या - 1947

इस समस्या को दोनों देशों के दुश्मनी का प्रारंभ मान सकते है। ये ऐसी समस्या है कि आज भी यह समस्या सुलझ नहीं पाई है। यह वर्ष 1947 की बात है। जब India और Pakistan आजाद हुआ था तभी पाक ने कशमीर पर attack कर दिया उसके बाद कशमीर के महाराजा ने भारत से सैन्य सकती कि मांग की जिससे कि पाकिस्तान के सैनिक को बाहर कर सके। तथा India ने Kashmir का साथ दिया तथा Kashmir को जीत दिलाई। उसके बाद India को कशमीर का कुछ हिस्सा मिला तथा पाकिस्तान के पास कुछ हिस्सा गया। ये India और Pakistan के रिश्ते में काफी खटास आई।

1965 भारत - पाकिस्तान युद्ध

पाकिस्तान ने कशमीर पर अपना सेना भारतीय हुकुम पर विद्रोह भड़काने के लिए भेजा इस और भारत की तरफ से पश्चिमी Pakistan पर उल्टा वार किया गया। जिसके कारण एक युद्ध छिड़ गया जो लगभग 17 दिन तक चला। इस समस्या को सुलझाने के लिए रूष और संयुक्त राष्ट्र संघ को बीच में आना पड़ा माना जता है कि India का Pakistan से ज्यादा प्रभाव रहा। इस स्थिति में Pakistan और भारत के प्रधान मंत्री द्वारा एक समझौता हुआ। 1966 में ताशकंद समझौता पर दस्तकत किया गया तथा युद्ध विराम की घोषणा किया गया। यह समस्या Bharat-Pak संबंध में काफी दरार आया ।





1971 भारत - पाकिस्तान युद्ध

यह India-pak  की एक और युद्ध हुआ, इसमें पाकिस्तान को युद्ध करना बहुत महगा पड़ा बात ये हुई कि पाकिस्तान ने एक बार फिर India पर अपना दुश्मनी निकाला लेकिन दाव उल्टा पड़ गया। पूर्वी पाकिस्तान 1971 से पहले उसे बग्लादेश नामक एक नया राष्ट्र बनाया गया। कारण यह रहा कि पाकिस्तानी सेना ने 11 इंडियन एयर स्टेशन को तबाह करने की कोशिश किया गया Indian सेना की तरफ से पूर्वी और पश्चिमी पाक पर हल्ला बोला गया। जिससे कि मात्र 13 दिनों में युद्ध समाप्त हो गया। भारतीय सेना द्वारा 90000 पाक सैनिकों को बंदी बनाया गया। इस युद्ध का अंत ढाका में किया गया।

1999 कारगिल भारत - पाकिस्तान युद्ध 

इसे India की तरफ से विजय ऑपरेशन के नाम से चलाया गया। कारण यह रहा कि पाकिस्तान के 5000 सैनिक India के सीमा कारगिल पर अपना कब्जा जमाने के लिए घुस पैठ करने लगा इसकी जानकारी Indian सेना को लगी तो पाक सैनिक को खदेड़ने के लिए सैनिकों को भेजा गया यह युद्ध लगभग दो माह तक चला। इसमें India के कई सैनिक सहिद हो गए। इस युद्ध में India को जीत मिली और पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी पाक की अर्थव्यवस्था लड़खड़ा गया। वहीं India देश में देश प्रेम का विकास हुआ।और India की ओर से defiance बजट में भी बढ़ोतरी की गई।





यही सब कारण है कि India-Pakistan  के रिश्ते काफी खराब रहे है। अभी भी India-Pakistan का रिश्ता खराब है कहा जाए तो कोई मधुर व्यापार नहीं किया गया है। तथा दोनों देशों के लोगों के विचार भी काफी एक दूसरे के विरुद्ध है। ऐसा नहीं है कि संबंध को सुधारने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया। लेकिन हर बार कोई ना कोई बाधा आती रही है।  कारन है की िन्दी-पाक  का रिस्ता अभी भी टिक नहीं है, अभी भी शिक्षित वर्ग  राष्ट्र के मधुर संबंध चाहते है और यह  आर्थिक विकास के लिए बहुत ही आवश्यक है।