ads

दोहा की परिभाषा - दोहा किसे कहते हैं

आज मैं आप लोगो को हिंदी जनरल का फोर्थ पार्ट में Doha ki paribhasha के बारे में बताने वाला हूं तो इस ब्लॉग को पूरा पढ़िए अगर आप 10 वी या 12वी में  है तो आप के लिए यह ब्लॉग बहुत फायदे का हो सकता है।

दोहा की परिभाषा क्या है ?

दोहा एक मात्रिक छंद है जिसके प्रथम और तृतीय चरण में 13,13 मात्राएं होती है। और दूसरे और अंतिम चरण में 11,11 मात्राएं होती है। इसमें 24 ,24 मात्रा की दो पंक्तियां होती है।

प्रसिद्ध दोहाकार कबीर दास, मीराबाई, रहीम, तुलसीदास और सूरदास हैं। सबसे लोकप्रिय तुलसीदास की रामचरितमानस है। जिसे दोहा में लिखा गया है, जो संस्कृत महाकाव्य रामायण का प्रतिपादन है।

दोहा को कैसे पहचाने

दोहा में 24,24 मात्रा की दो पंक्ति होती है तथा अंतिम में एक गुरु और ( ऽ की तरह ) एक लघु (। की तरह ) होता है।

दोहा किसे कहते हैं उदाहरण सहित

Doha ki paribhasha Bura jo dekhan main chala doha ka udaharan dohe in hindi example kabir ke dohe in hindi dohe class 9 hindi


बुरा जो देखन मैं चला , बुरा न मिलिया कोय।
जो दिल खोजा अपना , मुझसे बुरा न कोय

अर्थ: जब मैं इस संसार में बुराई खोजने चला तो मुझे कोई बुरा न मिला। जब मैंने अपने मन में झाँक कर देखा तो पाया कि मुझसे बुरा कोई नहीं है।


Doha ki paribhasha pothi padi padi jag mua doha doha ka udaharan simple doha ka matlab kya hai

पोथी पढ़ी पढ़ी जग मुआ , पंडित भय न कोय।
ढाई आखर प्रेम का , पढ़े सो पंडित होय॥

अर्थ: इस दोहा में बताया गया है की बड़ी बड़ी पुस्तकें पढ़े हुए लोग भी मृत्यु के द्वार पहुँच जाते है, पर सभी विद्वान नही बन पते। कबीर कहते हैं कि यदि कोई प्रेम के केवल ढाई अक्षर को अच्छी तरह से समझ जाये तो उससे बड़ा कोई ज्ञानी नहीं होता, अर्थात प्यार को वास्तविक रूप में पहचान ले वही सच्चा ज्ञानी होगा।


sai itna dijiye kabir dohe doha kise kahate hain doha paribhasha udaharan sahit dohe class 10 dohe class 8

साईं इतना दीजिये, जा मे कुटुम समाय ।
मैं भी भूखा न रहूँ, साधु ना भूखा जाय ॥

अर्थ - इस दोहे में कबीर दास जी भगवान से विनती करते हुए कहते हैं। "हे ईश्वर! मेरे ऊपर इतनी कृपा बनाए रखना कि मेरे परिवार का भरण-पोषण अच्छे से होता रहे। मैं ज्यादा धन की इच्छा नहीं रखताा। बस इतनी नजर रखना कि मेरा परिवार और मैं भूखा ना सोए और मेरे दरवाजे पर आने वाला कोई भी जीव भूखा ना जाए।


doha ka udaharan doha ka arth doha ki paribhasha in hindi doha kise kahte hai dohe kabir ke kabir ke dohe hindi

मन मनोरथ छड़ी दे , तेरा किया कोई।
पानी में घीव निकसे , तो रुखा खाये न कोई

अर्थ: मनुष्य को समझाते हुए कबीर जी कहते हैं कि मन की इच्छाएं छोड़ दो, उन्हें तुम अपने बल बूते पर पूर्ण नहीं कर सकते। यदि पानी से घी निकल आए, तो रूखी रोटी कोई नहीं खाएगा।

कबीर दास के 20 प्रसिद्ध दोहे rahim ke dohe in hindi  kabir ke dohe pdf  kabir ke dohe class 10  motivational dohe in hindi  tulsidas ke dohe in hindi  dharmik dohe in hindi

जाती न पूछो साधु की , पूछ लीजिये ज्ञान।
मोल करो तलवार का , पड़ा रहन दो म्यार

अर्थ: कबीर जी कहते है, की सज्जन की जाती नहीं पूछनी चाहिए उसके ज्ञान को समझना चाहिए। तलवार का मूल्य होता है न कि उसकी मयान का।


दोहा किसे कहते हैं उदाहरण सहित समझाइए  छंद किसे कहते हैं  दोहा विधान  दोहा के उदाहरण मात्रा सहित  दोहा की परिभाषा क्या है  दोहा का अर्थ  doha chhand ki paribhasha  what is doha in hindi  doha kise kehte hain  chhand kise kahate hain

पतिबरता मैली भली गले कांच की पोत।
सब सखिया में यो दिपै ज्यों सूरज की जोट

अर्थ: पतिव्रता स्त्री यदि तन से मैली भी हो अच्छी है। चाहे उसके गले में केवल कांच के मोती की माला ही क्यों न हो, फिर भी वह अपनी सब सखियों के बीच सूर्य के तेज के समान चमकती है।


prem na badi upje meaning दोहा किसे कहते हैं दोहा किसे कहते हैं उदाहरण सहित समझाइए  दोहा विधान  दोहा की परिभाषा क्या है  दोहा का अर्थ  doha in hindi example

प्रेम न बाड़ी उपजे प्रेम न हाट बिकाई।
राजा परजा जेहि रुचे सीस देहि ले जाई

अर्थ: प्रेम खेत में नहीं उपजता प्रेम बाज़ार में नहीं बिकता चाहे कोई राजा हो या साधारण प्रजा – यदि प्यार पाना चाहते हैं तो वह आत्म बलिदान से ही मिलेेगा। त्याग और बलिदान के बिना प्रेम को नहीं पाया जा सकता। प्रेम गहन- सघन भावना है – खरीदी बेचे जाने वाली वस्तु नहीं।

doha chhand ke example in hindi  dohe mein kitne charan hote hain   doha ka udaharan matra sahit  doha in hindi motivational dohe in hindi doha antakshari in hindi tulsidas ke dohe in hindi famous dohe दोहा किसे कहते है  दोहा किसे कहते हैं उदाहरण सहित समझाइए दोहा की परिभाषा क्या है दोहा विधान दोहा का अर्थ दोहा के उदाहरण मात्रा सहित

हाड़ जले लकड़ी जले जलवान हर।
कौतिकहरा भी जले कासों करू पुकार

अर्थ: दाह क्रिया में हड्डियां जलती हैं उन्हें जलाने वाली लकड़ी जलती है उनमें आग लगाने वाला भी एक दिन जल जाता है। समय आने पर उस दृश्य को देखने वाला दर्शक भी जल जाता हैै। जब सब का अंत यही होना हैं तो गुहार किससेे करूं। सभी तो एक नियति से बंधे हैं। सभी का अंत एक है।

उत्तर दिया गया: दोहा की परिभाषा देते हुए उदाहरण भी दीजिए, दोहा किसे कहते हैं उदाहरण सहित समझाइए, दोहा का अर्थ। 

Read Also

  1. Kabir ki sakhiyan with meaning in hindi
  2. कारक किसे कहते हैं 
  3. वचन किसे कहते हैं 
  4. GENDER IN HINDI 
  5. संज्ञा किसे कहते हैं
  6. हिंदी शब्द भंडार 
  7. समास की परिभाषा
  8. प्रत्यय किसे कहते हैं 
  9. उपसर्ग किसे कहते हैं
  10. शब्द किसे कहते हैं 
  11. वर्ण विचार किसे कहते हैं
  12. संधि किसे कहते हैं
  13. काल किसे कहते हैं 
  14. सर्वनाम के परिभाषा 
  15. छंद किसे कहते हैं 
  16. रस के कितने प्रकार होते हैं 
  17. विशेषण किसे कहते हैं 
Subscribe Our Newsletter