ads

PH meter in Hindi - PH मीटर क्या है

PH meter in Hindi। PH मीटर क्या है
PH meter

पीएच मीटर एक उपकरण है जिसका उपयोग किसी सलूशन की अम्लता या क्षारीयता को मापने के लिए किया जाता है - जिसे पीएच भी कहा जाता है।

PH शब्द की उत्पत्ति “P” से हुई है, जो कि नकारात्मक लघुगणक के लिए गणितीय प्रतीक है, और “H” हाइड्रोजन का रासायनिक प्रतीक है।

पीएच माप की एक इकाई है जो एक सलूशन की अम्लता या क्षारीयता की डिग्री का वर्णन करता है। इसे 0 से 14 के पैमाने पर मापा जाता है।

PH = -log [H +]

Ph स्केल क्या है

पीएच स्केल का उपयोग अम्लता या क्षारीयता को मापने के लिए किया जाता है। चूंकि स्केल पीएच मानों पर आधारित है, यह लॉगरिदमिक है, जिसका अर्थ है कि 1 पीएच यूनिट का एक परिवर्तन एच ^ + में दस गुना परिवर्तन से मेल खाता है।

पीएच स्केल को अक्सर 0 से 14 तक होता है, और अधिकांश सलूशन इस सीमा के भीतर आते हैं, हालांकि 0 या उससे नीचे के पीएच को प्राप्त करना संभव है। 7.0 से नीचे सभी अम्लीय होता है, और 7.0 से ऊपर कुछ भी क्षारीय होता है। ।

दैनिक जीवन में PH का क्या महत्व है

1. जीवों का अस्तित्व

जीवों को उनके आदर्श विकास के लिए एक विशिष्ट पीएच की आवश्यकता होती है। मानव शरीर में, सभी शारीरिक प्रतिक्रियाएं 7-7.8 के पीएच में होती हैं। जलीय पौधों, जानवरों और रोगाणुओं का अस्तित्व खतरे में है, जब अम्लीय वर्षा प्राकृतिक जल निकायों के साथ मिलती है।

2. भोजन का पाचन

भोजन के उचित पाचन के लिए मानव शरीर के पाचन तंत्र में पीएच विभिन्न स्तरों पर महत्वपूर्ण है। पेट में प्रवेश करते ही पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड स्रावित होता है। यह 1 और 3 के बीच पेट के पीएच को बदल देता है। यह पीएच एंजाइम पेप्सिन की सक्रियता के लिए महत्वपूर्ण है, जो भोजन में प्रोटीन के पाचन में मदद करता है।

3. मिट्टी में महत्व

मिट्टी का पीएच फसलों और अन्य पौधों की वृद्धि का एक महत्वपूर्ण कारक है। पीएच 6.5 से 7.3 झाड़ियों और फसलों की वृद्धि के लिए आदर्श है। यदि मिट्टी का पीएच 6.5 से कम है, तो इसकी अम्लता को बेअसर करने के लिए इसमें चूना मिलाया जाता है। इसी तरह, यदि मिट्टी का पीएच 7.3 से अधिक है, तो इसकी मूलता को बेअसर करने के लिए जिप्सम को जोड़ा जाता है।

PH मीटर से जुड़े प्रश्न उत्तर

प्रश्न 1. PH मीटर क्या है ? 
उत्तर = PH मीटर एक वैज्ञानिक उपकरण है जो वाटर बेस हाइड्रोजन-आयन गतिविधि को मापता है। जो ph के रूप में व्यक्त की गई अम्ल या क्षार को बताता है।

प्रश्न 2. इसका प्रयोग किस क्षेत्र में किया जाता है ?
उत्तर = इसका प्रयोग विज्ञान के क्षेत्र में किया जाता है।

प्रश्न 3. PH मीटर का प्रयोग क्यों किया जाता है ?
उत्तर = इसका प्रयोग किसी विलयन की अम्लीयता तथा क्षारीयता ज्ञात करने के लिए किया जाता है।

प्रश्न 4. इसकी खोज किसने की और किस सन में की ?
उत्तर = इसकी खोज सोरेन्सन ने की थी। सन 1909 में।

प्रश्न 5. कैसे पता करते हैं की कोई पदार्थ अम्लीय है की क्षारीय ?
उत्तर = जब हम PH मीटर का प्रयोग करते हैं तो उसमे 14 अंक होते हैं। जब PH मान 7 आता है तो वह उदासीन है तथा जब PH मान 7 से अधिक आता है तो उसे क्षारीय और 7 से कम आने पर अम्लीय होते है जैसे जैसे अम्लीयता बढ़ती तथा घटती जाती है PH मान भी बढ़ता घटता रहता है।

प्रश्न 5. ph मीटर का उपयोग कैसे करते है?
उत्तर = ph मीटर का उपयोग लैब में किया जाता है। ph दो प्रकार के होते है एसिड होता है और अल्कलिन होता है। सबसे पहले ph मशीन को ऑन करे उसके बाद मशीन मे ph बटन होता है उसे क्लीक करने के बाद मशीन में इलेक्टोड वायर से जुड़ा होता है उसे हम जिस पदार्थ का ph माप निकलना है उस पर रखा जाता है। उसके बाद इंटर बटन को दबाते है। 10 सेकंड के बाद डिस्प्ले में ph मान दिखयी देता है।

PH ( हाइड्रोजन आयन सांद्रण ) पर टिप्पणी 

PH किसी विलयन की अम्लीयता क्षारीयता मापने का पैमाना है। इसकी खोज सोरेन्सन नामक वैज्ञानिक ने सन् 1909 में की थी। कोशिकाओं के प्रोतोप्लाजम में H+ एवं OH- आयन्स पाये जाते है। यदि किसी विलयन में H+ आयन अधिक तथा OH- आयन कम हो तो वह विलयन अम्लीय कहलाता है।


Related Posts
Subscribe Our Newsletter