ads

ओडिशा के बारे में जानकारी - capital of odisha in hindi

ओडिशा के बारे में जानकारी भारत के पूर्व दिशा में बसे ओडिशा राज्य बहुत ही सुन्दर है। पूर्व में बंगाल की खाड़ी उत्तर में झारखण्ड पश्चिम में छत्तीसगढ़ और दक्षिण में आंध्र प्रदेश से घिरा हुआ है। क्षेत्रफल के अनुसार ओड़िशा भारत का नौवां और जनसंख्या के हिसाब से ग्यारहवां सबसे बड़ा राज्य है। प्राचीन काल से मध्यकाल तक ओडिशा राज्य को कलिंग नाम से जाना जाता था। 

ओडिशा 155,707 किमी² में फैला हुआ है। यहाँ पर 30 जिले है और राजभाषा उड़िया है। उड़िया में दो प्रकार की होती है संबलपुरी उड़िया और कटक उड़िया दोनों में थोड़ा अंतर पाया जाता है। ओडिशा में महानदी पर हीराकुंड बांध सबसे बड़ा मिट्टी का बांध है। उड़ीसा राज्य की official वेबसाइट ;www.odisha.gov.in है।

Capital of Odisha in Hindi - उड़ीसा की राजधानी 

भुवनेश्वर ओडिशा की राजधानी और सबसे बड़ा शहर है। ऐतिहासिक रूप से आम के पेड़ों से सजे क्षेत्र के रूप में शहर को चित्रित किया गया था। भुवनेश्वर का अर्थ है ईश्वर की भूमि यह महानदी नदी के दक्षिण-पश्चिमी तट पर स्थित 419 वर्ग किमी के क्षेत्रफल के साथ उड़ीसा का सबसे बड़ा शहर है। 

भुवनेश्वर को "मंदिर शहर" कहा जाता है - 700 मंदिरों के कारण अर्जित एक उपनाम हैं। यहाँ बड़ी संख्या में धार्मिक मंदिर है जिसमे प्रमुख: लिंगराज मंदिर, खंडगिरि और उदयगिरी के मंदिर शामिल हैं। यह अभी भी शानदार मंदिरों के एक समूह विधमान है, जो लगभग कलिंग वास्तुकला की शुरुआत से लेकर उसकी परिणति तक का पूरा रिकॉर्ड है। 

उड़िया भुवनेश्वर शहर के मूल निवासियों द्वारा बोली जाने वाली मुख्य बोली है। लेकिन कुछ अन्य बोलियां जैसे हिंदी, अंग्रेजी और कुछ समुदाय समूह जैसे, बंगाली, पंजाबी, मारवाड़ी आदि भी यहाँ रहते हैं। 

उड़ीसा की राजधानी का इतिहास 

भुवनेश्वर का एक प्राचीन इतिहास है जो 2300 वर्षों से अधिक पुराना है जब इसे कलिंग साम्राज्य की राजधानी शिशुपालगढ़ शहर के रूप में माना जाता था। 260 ईसा पूर्व में मौर्य साम्राज्य महान अशोक और कलिंग साम्राज्य रानी पद्मावती के बीच धौली के पास कलिंग के विनाशकारी युद्ध हुआ था। इस युद्ध में कलिंग साम्राज्य को अशोक की सेनाओं ने पूरी तरह से बर्बाद कर दिया गया था। 

इसके बाद दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व में चेदि वंश ने कलिंग साम्राज्य पर अधिकार कर लिया। महामेघवाहन खारवेल राजवंश के सबसे महान राजा थे जिन्होंने 168 ईसा पूर्व और 153 ईसा पूर्व के बीच साम्राज्य पर शासन किया था। उदयगिरि और खंडगिरि गुफाओं में हाथीगुम्फा शिलालेख उनके महान शासन का चित्रण करते है। 

उड़ीसा की राजधानी का मौसम

भुवनेश्वर की जलवायु गर्मियों में बहुत गर्म और आर्द्र और सर्दियों में शुष्क और ठंडी होती है। आम तौर पर मार्च के अंत से जून के मध्य तक शहर में गर्मी का मौसम होता है जब तापमान 46 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। भुवनेश्वर में इस मौसम के दौरान अचानक दोपहर में आंधी आना आम बात है। गर्मियों के अंत के बाद, सर्दियों का मौसम जून के अंत में इस शहर में प्रवेश करता है और यह सितंबर के अंत तक जारी रहता है। शहर की औसत वार्षिक वर्षा 1540 मिमी है। मानसून का मौसम सर्दिया आने के बाद चली जाती है। यह आमतौर पर नवंबर से फरवरी के अंत तक रहता है। 

 इस समय न्यूनतम तापमान 11 डिग्री सेल्सियस गिर सकता है। भुवनेश्वर शहर में घूमने के लिए सर्दी का मौसम सबसे अच्छा मौसम है।

उड़ीसा की राजधानी में पर्यटक आकर्षण

लिंगराज मंदिर का निर्माण राजा अनंग भीमदेव तृतीय ने 11वीं शताब्दी ईस्वी में करवाया था। मंदिर भुवनेश्वर शहर में भगवान शिव के सम्मान में स्थित है। यह लगभग 148 फीट की ऊंचाई वाला शहर का सबसे बड़ा मंदिर है और इसकी निर्माण कलिंग वास्तुकला शैली, पुरी में भगवान जगन्नाथ मंदिर के समान है। बिंदु सरोवर मंदिर के उत्तर में स्थित है जहां हजारों भक्त पवित्र स्नान करने पहुंचते हैं। रोड या रेलवे से आप लिंगराज मंदिर तक आसानी से पहुंच सकते हैं।

उदयगिरि पहाड़ी भुवनेश्वर से लगभग 6.5 किमी दूर स्थित प्राचीन इतिहास के जैन धार्मिक स्थल के रूप में प्रसिद्ध है। इसमें 18 शानदार गुफाएं हैं जिनका इस्तेमाल खारवेल के शासन से प्राचीन जैन समुदायों के रहने के लिए किया जाता था। इनमें से कुछ प्रमुख गुफाएं हैं गुफा 1 रानी गुहा की गुफा, सबसे सुंदर और सबसे बड़ी, हैं। 2 छोटा हाथी गुम्फा  इसके प्रवेश द्वार पर छह वास्तुशिल्प हाथी है।  3 जया विजया गुम्फा उल्लेखनीय है एक बोधि वृक्ष के बीच में खुदी हुई है। 

खंडगिरी हिल भुवनेश्वर शहर के पास एक और लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। यह उदयगिरि पहाड़ी के निकट स्थित है और यह प्राचीन युग के दौरान जैन संस्कृति का एक उदाहरण है। पहाड़ी की चोटी पर चट्टानों को काटकर मंदिर बनाए गए हैं। यहाँ आपको 15 गुफाओं का एक आदर्श उदाहरण मिलेगा। इन गुफाओं का निर्माण राजा खारवेल ने दूसरी शताब्दी में करवाया था। कुछ प्रमुख गुफा तातोवा गुम्फा, अनंत गुम्फा, नवमुनि गुहा गुम्फा हैं। यहां घूमने के लिए कोई एंट्री फीस नहीं है।

ओडिशा के बारे में जानकारी - capital of odisha in hindi
ओडिशा के बारे में जानकारी 

ओडिशा के बारे में जानकारी

  • ओडिशा का राजकीय पशु सांवर हिरण है।
  • इस प्रदेश का राजकीय पक्षी ' इण्डियन रोलर ' है।
  • इस राज्य का राजकीय पुष्प अशोक है।
  • इस प्रदेश का राजकीय वृक्ष पीपल है।
  • राज्य का राजकीय सरीसृप खारे पानी का मगरमच्छ है।
  • राजकीय मुहर कोणार्क सन टैण्डर का प्रतिनिधित्व करता है।
  • ओडीशा का सर्वाधिक सुखा ग्रस्त जिला कालाहाडी है।
  • ओडीशा के कालाहाडी को भारत का इरीट्रिया कहा जाता है।
  • गाहिरमाथा कछुआ के प्रजनन के लिए प्रसिद्ध क्षेत्र है।
  • पाराद्वीप बन्दरगाह से तालचेर का कोयला निर्यात किया जाता है।
  • ओडिशा के बालेश्वर के पूर्वी तट पर चाँदीपुर प्रक्षेपण केंद्र स्थित है।
  • मचकुण्ड जलाशय सिलेरु नदी पर बना जलाशय है।
  • सिमलीपाल जैव मण्डलीय क्षेत्र की स्थापना वर्ष 1994 में हुई थी।
  • व्हीलर द्वीप केन्द्रपाड़ा जिले में स्थित हैं।
  • ओडिशा में महानदी पर बना ' हीराकुण्ड ' जलाशय विश्व का सबसे लम्बा जलाशय है।
  • ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर को मन्दिरों का शहर कहाँ जाता है।
  • भुवनेश्वर में विश्व का एकमात्र सफेद बाघ सफारी अभ्यारण्य स्थापित है।
  • पर्यटन स्थल ओडिशा 

    अगर पर्यटन स्थल की बात करें तो यहाँ पर पर्यटन स्थल का खूबसूरत नजारा देखने को मिलता है। सूर्य मंदिर जो की कोणार्क में स्थित है बहुत हि प्रसिद्ध स्थान है। लिंगाराज मन्दिर भुवनेश्वर में स्थित है। इसके अलावा और भी बहुत सारे पर्यटन स्थल हैं जो की अपनी मनोरम झांकी प्रस्तुत करते हैं। 

    जैसे - सुन्दरपुरी तट, गाहिरमाथा, उदयगिरी, खण्डगीरी प्राचीन गुफा , हीराकुण्ड बॉंध, पुरी का जगन्नाथ मन्दिर , दुदुमा जल प्रपात, तप्तापानी, भीमकुण्ड, कपिलाश, प्रसिद्ध धौली बौद्ध मन्दिर आदि यहाँ के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हैं।

    यहाँ पर कई हिंदी फिल्मो का सूटिंग किया गया है जैसे 'अशोका' शाहरुख खान की फिल्म का बहुत बड़ा भाग यहाँ शूट किया गया हैं। 

    अभ्यारण की बात करें तो यहां पर निम्न अभ्यारण्य आपको देखने को मिलेंगे। नंदनकानन जहां पर सफेद बाघ पाया जाता है। सिमलीपाल जो टाइगर रिजर्व अभ्यारण्य है। भितरकनिका में मगरमच्छ पाया जाता है। इसके अलावा और अनेक अभ्यारण्य हैं जैसे कपिलेश वन्य जीव, सतकोसिया जॉर्ज प्राणी, चिल्का, कार्लपट वन्य जीव, उषाकोठी वन्यजीव आदि प्रमुख अभ्यारण्य हैं।

    ओडिशा की संस्कृति 

    विभिन्न राजाओं और राजवंशों द्वारा शासित होने के कारण ओडिशा ने कई परंपराएं हासिल की हैं। इस प्रकार ओडिशा को इसकी विरासत के माध्यम से रहने वाले नस्लीय और सांस्कृतिक समामेलन के माध्यम से सर्वोत्तम रूप से परिभाषित किया जा सकता है।

    त्यौहार और पर्व 

    उड़ीसा आर्य, द्रविड़ और आदिवासी संस्कृतियों का संगम है। राज्य में अधिकांश त्योहार इन संस्कृतियों और धर्म को त्योहारों के माध्यम से मनाते हैं। ऐसे त्यौहार हैं जो आम हैं, लेकिन एक क्षेत्र के लिए अद्वितीय रहता है। चंदन यात्रा, स्नान यात्रा और रथ यात्रा को पुरी में विशेष उल्लास और उत्साह के साथ मनाया जाता है। 

    हालांकि बारीपदा, अथागढ़, ढेंकनाल, कोरापुट राज्य के बाहर भी अन्य स्थानों पर मनाया जाता है। दुर्गा पूजा पूरे राज्य में मनाई जाती है, खासकर कटक में। काली पूजा या दिवाली ओडिशा के विभिन्न हिस्सों में मनाई जाती है। कार्तिक मास की पूर्णिमा के दिन कटक की बाली यात्रा प्राचीन काल में उड़ीसा के व्यापारियों की महिमा का स्मरण कराती है। छो नृत्य का त्योहार चैत्र पर्व बारीपदा में मनाया जाता है। 

    ओडिशा में संगीत की गौरवशाली परंपरा रही है। प्राचीन मंदिर की दीवारों पर उकेरी गई मूर्तियाँ या नर्तक और संगीतकार, ओडिशा की समृद्ध संगीत विरासत की बात करते हैं। ओडिसी संगीत एक शास्त्रीय रूप है जिसमें हिंदुस्तानी और कर्नाटक संगीत शामिल है। ओडिसी संगीता संगीत के चार वर्गों, अर्थात् ध्रुवपद, चित्रपद, चित्रकला और पांचाल का एक जोड़ है, जिसका वर्णन 19वीं शताब्दी की शुरुआत में लिखे गए दो ग्रंथों संगीता सारणी और संगीता नारायण में किया गया है। 

    ओडिसी नृत्य को भगवान के करीब आने और सच्चे आनंद का अनुभव करने का प्रयास कहा जाता है। इसलिए, यह नृत्य उन देवदासियों द्वारा जीवित रखी गई एक विरासत थी जो ताल के स्तोत्र और बोलों के पाठ पर नृत्य करते थे। ओडिसी नृत्य सहस्राब्दी में नृत्य रूप से विकसित हुआ है। जिसे पुरी में भगवान जगन्नाथ के मंदिर में देवदासी नर्तकियों द्वारा किया जाता था। बाद में, इसे ओडिशा के शास्त्रीय नृत्य के रूप में प्रचारित किया गया। 

    ओडिशा का इतिहास

    261 ईसा पूर्व में मौर्य सम्राट अशोक ने कलिंग (उड़ीसा का पुराना नाम) पर आक्रमण किया था। यह उसी प्राचीन राष्ट्र कलिंग का आधुनिक नाम ओडिशा है। 

    अशोक सम्राट के मृत्यु के उपरांत मौर्य साम्राज्य की स्थापना हुआ यह कुछ ही दिनों तक राज कर सके। 180 ईसापूर्व कलिंग पर चेदि वंश का अधिकार हो गया इसके बाद मठार वंश ने यहाँ राज किया। 500 ईसापूर्व नल वंश का सहन काल आया इन्होंने भगवान विष्णु की पूजा का प्रसार प्रचार किया। विष्णुपूजक स्कन्दवर्मन ने ओडिशा में पोडागोड़ा स्थान पर विष्णुविहार का निर्माण करवाया। 

    6वीं-7वीं शताब्दी को ओडिशा की स्थापत्य कला के लिए उत्कृष्ट समय माना जाता है। चूँकि इस सदी के दौरान राजाओं ने समय-समय पर स्वर्णाजलेश्वर, रामेश्वर, लक्ष्मणेश्वर, भरतेश्वर व शत्रुघनेश्वर मन्दिरों का निर्माण करवाया था। 18वीं सदी में ईस्ट इण्डिया कम्पनी का सम्पूर्ण भारत पर अधिकार हो गया और भारत देश के स्वतन्त्रा के बाद सम्पूर्ण भारत को कई राज्यों में विभक्त हो गया। 

    आधुनिक ओड़िशा राज्य की स्थापना 1 अप्रैल 1936 को भारत के एक राज्य के रूप में हुई हुआ था। इसी कारण राज्य में 1 अप्रैल को ओड़िशा दिवस के रूप में मनाया जाता है। समुद्री सिमा पर बसे होने के कारण ओड़िशा में तीव्र चक्रवात आते रहते हैं और सबसे तीव्र चक्रवात की बात करे तो वह 1 अक्टूबर 1999 को आया था। जिसके कारण काफी जानमाल का नुकसान हुआ और लगभग 10000 लोग की मृत्यु हो गयी थी।

    ओडिशा एक झलक में 

    • यह अक्षांश में 17°4' उत्तर से 22°3' उत्तर पर स्थित है।
    • यह 82°2' पूर्व से 87°2' पूर्व देशान्तर में स्थित है।
    • इस राज्य कि स्थापना वर्ष 5 अगस्त 1947 है।
    • ओडिशा राज्य का क्षेत्रफल 155707 वर्ग किमी है।
    • जनसंख्या 4,1974,218 थी वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार।
    • ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर है।
    • ओडिशा का उच्च न्यायालय कटक में स्थित है।
    • ओडिशा राज्य की भाषा ओड़िया ही है।
    • लिंगानुपात 2011 के अनुसार 978 थी।
    • साक्षरता दर 72.8 % है 2011 के अनुसार।
    • ओडिशा के कुल जिले की संख्या 30 है।
    • यहां के वर्तमान मुख्यमंत्री श्री मान नवीन पटनायक हैं।
    Related Posts Related Posts
    Subscribe Our Newsletter