धान का कटोरा किस राज्य को कहते हैं - Which state is known as rice bowl?

चावल सबसे महत्वपूर्ण खाद्य फसलों में से एक है और भारत की 60 प्रतिशत से अधिक आबादी इसका सेवन करती है। 1950-51 में चावल की फसल का रकबा 30.81 मिलियन प्रति हेक्टेयर था। जो 2014-15 के दौरान बढ़कर 43.86 मिलियन हेक्टेयर हो गया जो लगभग 142 प्रतिशत अधिक है। धान के छिलके को अलग कर चावल बनाया जाता हैं। 

धान का कटोरा किस राज्य को कहते हैं

छत्तीसगढ़ में चावल एक प्रमुख फसल है, और यहां व्यापक रुप से चावल की खेती की जाति हैं। इसलिए छत्तीसगढ़ को धान का कटोरा कहा जाता है। राज्य के कुछ सबसे प्रसिद्ध व्यंजन चावल से बनाए जाते हैं। जैसे मुठिया, चावल के आटे से बनाए जाते हैं। 

धान का कटोरा किस राज्य को कहते हैं - Which state is known as rice bowl?

सांभर का स्थानीय संस्करण आमत है जिसके साथ इसे खाया जाता है। लेकिन सबसे अनोखी डिश है बोर बसी - छाछ में डूबा हुआ पका हुआ चावल, उन गर्मी के दिनों में शरीर को ठंडक पहुंचाता हैं।

छत्तीसगढ़ में धान के अलावा, मक्का, कोदो-कुटकी, मूंगफली, सोयाबीन और सूरजमुखी जैसे फसल भी उगाए जाते हैं। हलाकि इनकी उत्पादकता अधिक नहीं है। इसने बागवानी के क्षेत्र पर एक नया जोर दिया, क्योंकि यह क्षेत्र आम, केला, अमरूद और अन्य फलों और विभिन्न प्रकार की सब्जियों को उगाने के लिए भी उपयुक्त है।

छत्तीसगढ़ का 41% भाग जंगलों से आच्छादित है और राज्य में इंद्रावती और महानदी जैसी नदिया बहती हैं। जो छत्तीसगढ़ में जल आपूर्ति के लिए महत्वपूर्ण हैं।

छत्तीसगढ़ अब अपने उपनाम धान का कटोरा को सही ठहराने लगा है। 2020-21 में, राज्य कुल धान खरीद में 92 लाख मीट्रिक टन के साथ भारत में दूसरे स्थान पर था। चावल किनिर्यत में चौथे स्थान पर है।

छत्तीसगढ़, जिसे पारंपरिक रूप से भारत के चावल के कटोरे के रूप में जाना जाता है, देशी चावल की 20,000 से अधिक किस्मों का घर है। सुगंधित और गैर-सुगंधित चावल पूरे राज्य में एक विशाल विविध उपस्थिति रखते हैं।

छत्तीसगढ़ के प्रत्येक जिले में एक अद्वितीय सुगंधित चावल की किस्म है जो सैकड़ों वर्षों से अस्तित्व में है। उस क्षेत्र के किसानों द्वारा पीढ़ियों से चली आ रही पारंपरिक प्रथाओं और भूमि ने पेंड्रा में विष्णु भोग, अंबिकापुर के जीराफूल, सूरजपुर के श्यामजीरा, जगदलपुर के बादशाह भोग आदि चावल की एक विशिष्ट पहचान देती है।

इस बात के ऐतिहासिक प्रमाण हैं कि महाराजा अंबिकेश्वर शरण सिंहदेव के शासनकाल के दौरान उत्सवों और त्योहारों में जीराफूल चावल का इस्तेमाल किया जाता था और अंबिकापुर के प्राचीन महामाया मंदिर में प्रसाद के रूप में चढ़ाया जाता था।

छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में धान की खेती की जाती हैं। लेकिन कुछ ही जिलों में धान की उत्पादकता अधिक होती हैं। जिसमे जांजगीर, बिलासपुर, राजनंदगांव, कांकेर और कोरबा जिले आते हैं। इन जिलों में औसत 1,000-1,500 किग्रा प्रति हेक्टेयर पैदावार होता हैं। 

छत्तीसगढ़ की प्रमुख फसलें

कृषि फसलों की तुलना में बागवानी उत्पादों के उच्च मूल्य के कारण बागवानी की लोकप्रियता बढ़ रही है। हालांकि, राज्य के सिंचाई संसाधनों को बढ़ावा देने और राज्य में बागवानी को प्रोत्साहन की आवश्यकता है। पुराने एवं नए आँकड़ों के अनुसार राज्य में बागवानी की स्थिति में सुधर हुआ है।

1. फलों की फसलें - छत्तीसगढ़ राज्य में उगाई जाने वाली प्रमुख फल फसलें आम, अमरूद, चूना, लीची, काजू, चीकू आदि हैं। इन प्रमुख फल फसलों के अलावा सीताफल, बेल, बेर, अनोला आदि फल भी उगाए जाते हैं। राज्य में फल फसलों का कुल क्षेत्रफल 2,54,754 हेक्टेयर है। साथ ही वर्ष 2020-21 में 34,58,745 मीट्रिक टन का उत्पादन किया था। कृषि जलवायु की दृष्टि से आम को राज्य के पूरे हिस्से में सफलतापूर्वक उगाया जा सकता है जबकि सरगुजा और जशपुर जिले का उत्तरी पहाड़ी क्षेत्र लीची के उत्पादन के लिए उपयुक्त है। काजू बस्तर और रायगढ़ जिले के पठारी क्षेत्र में अच्छी तरह से उगाया जा सकता है

2. सब्जियां - ज्यादातर सभी सब्जियों की फसलें जैसे सॉलेनियस फसलें, खीरे, बीन्स, गोभी, फूलगोभी इत्यादि राज्य में बहुत अच्छी तरह से उगाई जाती हैं। राज्य में सब्जी फसलों का कुल क्षेत्रफल 4,89,271 हेक्टेयर दर्ज किया गया।

3. मसाले - मिर्च, अदरक, लहसुन, हल्दी, धनिया और मेथी राज्य में उगाए जाने वाले प्रमुख मसाले हैं। वर्ष 2020-21 में दर्ज मसालों का कुल क्षेत्रफल 67,756 हेक्टेयर था। 4,49,353 मीट्रिक टन के उत्पादन के साथ।

4. फूल - राज्य में फूलों की खेती का क्षेत्रफल नगण्य है। नए राज्य के गठन के साथ ही फूलों की मांग दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। फूलों की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए किसानों के बीच व्यावसायिक फूलों की खेती को बढ़ावा देना आवश्यक है। मैरी-गोल्ड, ट्यूबरोज़, ग्लैडियोलस, गुलदाउदी, ऑर्किड आदि जैसे प्रमुख फूलों को बिना किसी देखभाल के बहुत अच्छी तरह से उगाया जा सकता है। राज्य में वर्तमान में फूलों की खेती का क्षेत्रफल 13,089 हेक्टेयर है।

5. सुगंधित और औषधीय पौधे - राज्य में उगाई जाने वाली औषधीय फसलें अश्वगंधा, सर्पगंधा, सतावर, बुच, आंवला, तिखुर आदि हैं। कुछ सुगंधित फसलें जैसे लेमनग्रास, पामारोसा, जमरोसा, पचौली, ई.सिट्रिडोरा को वाणिज्यिक के लिए विभाग द्वारा बढ़ावा दिया जाता है। किसानों के बीच खेती प्रदेश में सुगंधित एवं औषधीय फसलों का वर्तमान क्षेत्रफल 3520 हेक्टेयर है।

Related Posts

कितनी भी हो मुश्किल थोड़ा भी न घबराना है, जीवन में अपना मार्ग खुद बनाना है।