Himalay parvat - हिमालय पर्वत का महत्व

Himalay parvat  - भारत के उत्तर पश्चिम पूर्व तक हिमालय पर्वत माला 2400 किमी लंबाई में फैली है ! यहां पर्वतमाला पश्चिम में ब्लूचिस्तान से लेकर नेपाल व तिब्बत होते हुए पूर्व में बर्मा तक फैला हुआ है East me तिब्बत का पठार व दक्षिण में उत्तर भारत का विशाल मैदान है जिसकी चौड़ाई 150 किमी से 400 किमी एवं औसत ऊंचाई 600 मीटर है!

हिमालय पर्वत रेडियो को चार भागों में बांटा गया है
1. वृहद हिमालय
2. लघु हिमालय
3. उप हिमालय
4. तिब्बत हिमालय

हिमालय पर्वत का महत्व [Himalay parvat]


 1. हिमालय पर्वत से निकलने वाली नदियों से उपजाऊ मैदान का निर्माण हुआ है!

2. मानसूनी पवनों को रोककर भारत के बड़े भाग को जल प्रदान करता है

3. यहां उत्तर से आने वाली ठंडी हवाओं को रोककर की रक्षा करता है जिससे भारत का तापमान अधिक नीचे नहीं गिर पाता है!

4. वाहिनी नदियों से सिंचाई साधन सुलभ हुई तथा इनसे जल विद्युत उत्पादन भी होता है!

5. हिमालय विभिन्न प्रकार की वनस्पतियों दुर्लभ जड़ी बूटियों का प्राप्ति स्थल भी है!

6 प्रचुर मात्रा में कोयला, खनिज तेल, तांबा, शीशा आदि के खनिज भंडार उपलब्ध है!

7. हिमालय में अनेक धार्मिक स्थलों व पर्यटन स्थलों का भी विकास हुआ है!

8. हिमालय में वनों का विशाल भंडार है जिन पर लकड़ी के उद्योग निर्भर करते हैं!

9. पर्वत मालाएं प्राकृतिक सीमा का भी निर्धारण करती है!