दोस्त आपका स्वागत है मेरे इस ब्लॉग www.rexgin.in में क्या आपको पता है की इंजन कितने प्रकार का होता है? यदि नहीं पता तो आप बिलकुल सहीं जगह पर आये हैं। गजन पिन क्या होता है? और क्यों लगाया जाता है? तथा इसके क्या लाभ हैं? इस बारे में भी यहां पर बताया गया है आपके सामने ये जानकारी प्रस्तुत कर रहा हूँ तो चलिए सुरु करते है सबसे पहले में उसका सामान्य परिचय देता हूँ ।


Types of Engine in Hindi


दोस्तों आपको सबसे पहले जानना चाहिए की इंजन क्या है? और फिर उसके बाद हमें जानना चाहिए की इंजन कितने प्रकार का होता है? यहां पर मैं आपको बता दूँ "इंजन एक प्रकार का ऐसा मशीन है जो की ईंधन से चलता है और उष्मीय ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा में बदल देता है यह उसके कार्य के आधार पर अलग अलग बनाया जाता है जैसे की हल्के कार्य के लिए पेट्रोल इंजन का उपयोग किया जाता है वहीं भारी कामों के लिए डीजल इंजन का प्रयोग किया जाता है।" 

इस आधार पर इंजन दो प्रकार के होते हैं -

  1. पेट्रोल इंजन 
  2. डीजल इंजन 

अब जाने की यह स्ट्रोक के आधार पर कितने प्रकार का होता है ?

स्ट्रोक के आधार पर इंजन के प्रकार को जान्ने के पहले समझ लेना चाहिए की यह स्ट्रोक क्या है ?
स्ट्रोक इंजन के द्वारा लगाया जाने वाला बल है और इसमें खांचे का भी फर्क होता है इंजन के अंदर ईंधन जाने और निकलने के लिए एक ही रास्ता हो तब टू स्ट्रोक इंजन और जिसमे ईंधन के जाने और निकलने का रास्ता अलग अलग होता है उसे हम चार स्ट्रोक इंजन कहते हैं इस प्रकार यह स्ट्रोक के आधार पर दो प्रकार का होता है। 

  1. टू स्ट्रोक इंजन 
  2. चार स्ट्रोक इंजन 

इस प्रकार मैंने जो प्रकार बताये हैं वह समान्य तौर पर सभी जानते हैं पहले जब मोटरसायकल आते थे तो वह टू स्ट्रोक प्रकार का होता था। लेकिन अब जो मोटरसायकल आते हैं वे प्रायः चार स्ट्रोक इंजन होते हैं।

अब इंजन में होने वाले पिस्टन के फिटिंग के आधार पर भी इसको अलग अलग प्रकार में बाटा गया है इस प्रकार इंजन को समझना आसान नहीं है तो आप इसे और सर्च करें और जाने फिलहाल मुझे जो डीजल मैकेनिक कोर्स में बताया गया है वह प्रकार मैंने बताया है।   

types-of-engine
                               

 आइये अब जानते है इस इंजन में प्रयोग होने वाले पिस्टन के कनेक्टिंग रोड और पिस्टन को जोड़ने वाले गजन पिन के बारे में कुछ जानकारी सबसे पहले जानते हैं की गजन पिन क्या है ?

गजन पिन

हम सब आज के आधुनिक युग में चारो ओर से किसी न किसी मशीन से घिरे पड़े हैं आज हम बिना मोटर सायकल और गाड़ी के कहीं भी नही जाते है तो आज मैं आपको उसी गाड़ियों में प्रयोग होने वाले इंजन और उस इंजन के पिस्टन में होने वाले एक छोटे से भाग गजन पिन के बारे में आपको बताने जा रहा हूँ तो चलिए आपको बताते हैं गजन पिन के बारे में गजन पिन को उसकी पिस्टन के चलाने में भूमिका बहुत होती है उसी को देखते हुए उसे पिस्टन पिन भी कहा जाता है। इसका प्रयोग पिस्टन तथा कनेक्टिंग रॉड को जोड़ने के लिए करते हैं


इसको पिस्टन बॉस में आर पार लगाया जाता है। अब इसके बीच में कनेक्टिंग रॉड का छोटा सा सिरा फसाया जाता है। इसे हार्ड स्टील के रॉड द्वारा बनाया जाता है। और इसके बाहरी सतह को केसन हार्डनिन्ग तथा बहुत हि चिकना किया जाता है। जिससे इसमें घिसावट बहुत ही कम हो जाता है पिस्टन की बनावट के आधार पर गजन पिन को कई प्रकार से डिजाइन के अनुसार फिट भी किया जाता है

इसकी फीटिंग के आधार पर इसको तीन प्रकारों में बांटा गया है जो की इस प्रकार है।

  1. फूल फ्लोटिंग टाइप गजन पिन
  2. सेमी फ्लोटिंग टाइप गजन पिन
  3. फिक्स पिन
इनको अब विस्तार से जानते हैं की ये किस प्रकार बने होते हैं

1. फूल फ्लोटिंग टाइप गजन पिन-

इस प्रकार के गजन पिन के बना दिया जाता है और इनके किनारों पर सर्कलिप फंसाकर कर जाम किया जाता है जिसके कारण गजन पिन इधर उधर नहीं खसकता है। इस प्रकार के गजन पिन को इस प्रकार डिजाइन किया जाता है की ये गजन पिन कनेक्टिंग रॉड के N बियरिंग व पिस्टन के बॉस दोनों से मुक्त होता है जिससे की ये एकदम आसानी से गति कर सकता है। 

2. सेमी फ्लोटिंग टाइप गजन पिन-

इस प्रकार के गजन पिन को इस प्रकार डिजाईन किया जाता है की इसके मध्य में इसे एक बोल्ट के माध्यम से पिस्टन में टाइट किया जाता है और इसका दोनो तरफ का भाग पिस्टन बॉस में आसानी से मुव करता रहता है। इस प्रकार उसे टाईट करने पर वह गजन पिन कनेक्टिंग रॉड के स्मॉल एंड बियरिंग से कसा तो रहता है लेकिन पिस्टन बॉस में फ्रीलि मूव करता है। क्योकि ये इसमें ढीली रहती है।

3. फिक्स पिन -

इस प्रकार के गजन पिन को स्क्रू द्वारा पिस्टन बॉस में जाम कर दिया जाता है। इसमें कनेक्टिंग रॉड के स्माल AND बेयरिंग का बुस गजन पिन के ऊपर मुक्त रूप से घूमता है इसे सैड़ स्क्रू टाइप गजन पिन भी कहते है। गजन पिन फीट करने के बाद उसमें कम से कम चाल रहनी चाहिए तथा किसी भी दसा में सिलेंडर की दीवारों से रगड़ नहीं खानी चाहिए गजन पिन को बॉस में डालते समय ठोकना नही चाहिए। इसे आसानी से पूरा करके फिट करना चाहिए गजन पिन सिघ्र खराब नहीं होता है। परन्तु इंजन के लुब्रिकेशन तथा इंजन के गर्म होने से यह घिस जाती है। जिससे आवाज आने लगती है ऐसी स्थिति में दूसरी नई गजन पिन फिट करनी चाहिए।

thanks so much for supporting me आपने जाना engine kitne prakar ke hote hain