ads

छत्तीसगढ़ का इतिहास - History of Chhattisgarh in Hindi

छत्तीसगढ़ मध्य भारत का हिस्सा है जिसकी राजधानी रायपुर है। छत्तीसगढ़ पहले मध्यप्रदेस हिस्सा हुआ करता था। 1 नवम्बर सन 2000 को छत्तीसगढ़ का गठन किया गया था। यह 135,192 किमी 2 के क्षेत्रफल के साथ भारत का 9वां सबसे बड़ा राज्य है। 2020 तक, इसकी आबादी लगभग 29.4 मिलियन है, जो इसे राज्य को देश का 17वां सबसे अधिक आबादी वाला राज्य बनाता है।

 छत्तीसगढ़ का इतिहास

छत्तीसगढ़ के राजवंश, कबीरधाम का फणिनाग वंश मध्यकालीन भारतीय इतिहास में छत्तीसगढ़ के कवर्धा क्षेत्र में नागवंश का शासन था। जो फणिनाग वंश के नाम से जाना गया। कवर्धा से लगभग 16 किमी की दूरी पर स्थित मड़वा महल नामक मंदिर से विक्रम सम्वत 1406 अर्थात 1349 ई. का एक अभिलेख प्राप्त हुआ है।

इससे ज्ञात होता है कि राजा रामचन्द्र ने यहां एक शिव मंदिर का निर्माण कर उसके लिए कुछ ग्राम दान में दिए थे। रामचन्द्र का विवाह कलचुरी राजकुमारी अम्बिका देवी के साथ हुआ था। मडवा महल शिलालेख में फणिनाग वंश में अहिराज को नागों का राजा बताया गया है।

तखतपुर एवं राजपुर की स्थापना - तखतसिंह ने तखतपुर की स्थापना सत्रहवीं सदी के अंत में की थी। इसके पश्चात राजसिंह { 1689-1712 ई.} शासन हुआ। इसने राजपुर { वर्तमान जुना शहर रतनपुर के निकट }  बसाया था।
जनश्रुतियों के अनुसार वे नि: सन्तान थे, इसका दत्तक पुत्र विष्वनाथ सिंह हुआ था। विश्वनाथ सिंह का विवाह रीवा की राजकुमारी के साथ हुआ था। प्रसिद्ध कवि गोपाल { गोपाल चन्द्र मिश्र } राजसिंह के राजाश्रय में थे , जिन्होंने प्रसिद्ध ग्रन्थ ' खूब तमाशा ' लिख था। 1721 ई. में राजसिंह की मृत्यु हो गई।

कांकेर का सोम वंश  - कलचुरी शासक प्रिथविदेव द्वितीय के राजिम अभिलेख से पता चलता है की उसके सेनापति जगपाल ने काकरय { वर्तमान कांकेर } क्षेत्र को जीता था। इसके पश्चात यहां राज्य करने वाले शासकों द्वारा कलचुरी सम्वत का प्रयोग प्रारम्भ किया गया। इस वंश के कुल पांच अभिलेख प्राप्त हुए हैं। इन अभिलेखों के अध्ययन से स्पष्ट होता है की इस वंश का संस्थापक शासक सिंहराज था।

पहली शाखा के विषय में कर्णराज के सिहावा शिलालेख से जानकारी मिलती है , जिसमें उसे वोपदेव का पुत्र कहा गया है। दूसरी शाखा के विषय में पम्पराज के तहनकापारा से प्राप्त ताम्रपत्र से जानकारी मिलती है। इससे ज्ञात होता है कि पम्पराज के पिता सोमराज , वोपदेव के पुत्र थे। तीसरी शाखा के विषय में भानुदेव के शक सम्वत 1242 अर्थात 1320 ई. के कांकेर शिलालेख से विवरण प्राप्त होता है।

छत्तीसगढ़ का इतिहास - history of Chhattisgarh in Hindi

इससे ज्ञात होता है, की वोपदेव का पुत्र कृष्ण हुआ था। कृष्ण के पश्चात जैतराम हुआ था। जैतराम कांकेर में राज्य करता था। इसका पुत्र सोमचन्द्र हुआ और सोमचन्द्र के पुत्र भानुदेव के समय में यह लेख उत्कीर्ण कराया था।
अनुमान किया जाता है की सिंहराज { लगभग 1130 ई. } से भानुदेव { 1320 ई. } तक कांकेर के क्षेत्र में सोमवंशी शासकों ने शासन किया था।    

कलचुरिकालीन शासन 

महाकौशल क्षेत्र में शासन स्थापित करने के बाद कलचुरियों ने शासन-व्यवस्था स्थापित की थी , आरम्भ में छत्तीसगढ़ शाखा में उसी के अनुरूप व्यवस्था स्थापित की गई। किन्तु कालांतर में त्रिपुर से अलग होने के पश्चात रतनपुर के शासकों ने स्थानीय आवश्यकताओं के अनुरूप शासन व्यवस्था विकसित की। कल्याण साय के समय की सोलहवीं सदी के मध्य की लेखपुस्तीका को आधार मानकर श्री चिशम ने 1868 ई. कलचुरी शासन प्रबन्ध पर एक लेख लिखा है , जिससे कलचुरीकालीन प्रशासनिक एवं राजस्व व्यवस्था पर पर्याप्त प्रकाश पड़ता है।

छत्तीसगढ़ में मध्यकालीन शासन प्रबंधन को जानने के लिए कलचुरियों की शासन व्यवस्था पर विचार करना आवश्यक है। तुम्माण बिलासपुर जिले में एक सुक्षित पर्वतीय स्थान है ,जिसे तुमान-खोल कहा जाता है। गोपाल कवि रतनपुर राज्य में राजसिंह के राजदरबार में निवास करते थे। चिंतामणि तथा रामप्रसाद दोनों प्रबन्ध काव्य हैं। इनमें एक कृष्ण तो दूसरा राम काव्य है। कृष्ण राज ने हैहयवंशियों की प्राचीन राजधानी महिष्मति को ही नहीं लूटा , बल्कि उसका वंश भी ले लिया और स्वयं अपने को हैहयवंशी घोषित कर लिया।

छत्तीसगढ़ का मध्यकाल इतिहास 

जैसे की उनका शसन काल 550 से 1740 ई. तक लगभग 1200 वर्ष तक था जो सायद ही किसी और ने इतने दिन शासन किया हो। रतनपुर से रायपुर में का शासन 1020 ई. तक किया इसके बाद कोल्ल देव द्वितीय था जिसका उत्तरा धिकरी कमलराज था।

कमलराज - 1020-45 ई.कलिंगराज का उत्तरा धिकरी उसका पुत्र कमलराज 1020 ई. में शासन हुआ था। त्रिपुरी कलचुरी के शासन गांगेयदेव द्वारा उड़ीसा पर आक्रमण के समय कमलराज ने उसकी सहायता की थी। 

रतनदेव अथवा रतन राज प्रथम - 1045-65 ई. इसने 1050 ई. में रतनपुर नामक नगर कि स्थापना कर राजधानी तुममान से रतनपुर स्थानांतरित कि थी । प्रसिद्ध महामाया मन्दिर का निर्माण रतनदेव द्वारा कराया गया था।

पृथ्वी देव प्रथम - 1065-95 ई.इसके शासनकाल की सर्व प्रथम तिथी रायपुर ताम्र पत्र से कलचुरी सम्वत 821 अर्थात 1095 ई. ज्ञात होती है। इसने ' सकल कोशलाधिपति ' की उपाधि धारण की थी तथा वह कोशल के इक्कीस हजार ग्रामों का अधिपति था।

जाजल्लदेव प्रथम - 1095-1120 ई. जाजल्लदेव प्रथम अपने पिता प्रिथविदेव प्रथम के बाद लगभग 1095 ई. में रतनपुर का शासक हुआ। इसके रतनपुर के शिलालेख में इसकी विजयों का विवरण मिलता है। जाजल्लदेव ने चक्रकोट के छिंदक नागवंशी शासक सोमेश्वर को दण्ड देने के उद्देश्य से उसकी राजधानी को जला दिया तथा उसे मंत्रियों और रानियों सहित कैद कर लिया था , किन्तु उसकी माता के अनुरोध पर मुक्त भी कर दिया था।

इसने जाजल्यदेव नगर { वर्तमान जांजगीर } की स्थापना की तथा पाली के शिव मन्दिर का जीर्णोद्धार कराया था , जो आज भी सुरक्षितः है। इसने अपने स्वर्ण सिक्कों पर  ' श्रीमज्जाजल्यदेव ' एवं ' गजशार्दूल ' अंकित करवाया था।

रतनदेव द्वितीय - 1120-35 ई. जाजल्लदेव प्रथम। के के पश्चात रंतनदेव द्वितीय कलचुरी सम्वत 878 अर्थात 1127 ई. में शासक हुआ था। इसने त्रिपुर के कलचुरियों की अधिसत्ता को अस्वीकार कर दिया। अतः त्रीपुर के राजा गयाकर्ण ने इस पर आक्रमण किया था , किन्तु उसे सफलता नही प्राप्त हुई।

इसी समय गंग वंशी राजा अन्नंत वर्मा चोड़गंग ने भी रतन पुर के कलचुरी राज्य पर आक्रमण किया , किन्तु शिवरीनारायण के पास हुए युद्ध में उसे पराजित होकर लौटना पड़ा। इसके पश्चात जाजल्लदेव ने गोंड देश पर आक्रमण कर वहां के राजा को पराजित किया था।

पृथ्वी देव द्वितीय - 1135-65 ई.रतनदेव द्वितीय का उत्तराधिकारी उसका पुत्र प्रिथविदेव द्वितीय हुआ था। उसका सरवपर्थम अभिलेख कलचुरी सम्वत 890 अर्थात 1138 ई. का है। इसके शासनकाल में रतनपुर का कलचुरी साम्राज्य अत्यंत विस्तृत हो गया था। उसका अंतिम रतनपुर अभीलेख कलचुरी सम्वत 915 अर्थात 1163 ई. का है।

जाजल्यदेव द्वितीय - 1165-78 ई. रतनपुर के सिंहासन पर प्रिथविदेव द्वितिय का उत्तराधिकारी जाजल्लदेव द्वितीय हुआ था। इसके शासन की सरवपर्थम ज्ञात तिथियाँ मल्हार शिलालेख से कलचुरी सम्वत 919 अर्थात 1167 ई. से मिलती है। इसके शासन काल में त्रिपुरी के कलचुरी राजा जयसिंह ने आक्रमण किया था , किन्तु वह असफल रहा था।

रतनदेव तृतीय - 1178-98 ई. जगददेव के पश्चात उसके पुत्र रतन देव तृतीय के विषय में जानकारी खरौद शिलालेख से मिलती है। यह जगददेव की सोमल्ला का पुत्र था। इसके शासनकाल में अराजकता की स्थिति निर्मित हो गई थी , इससे निपटने के लिए उसने एक ब्राम्हण गंगाधर को प्रधानमंत्री बनाया और उसकी सहायता से उसने स्थिति पर नियंत्रण प्राप्त किया था। गंगाधर ने खरौद के लखनेश्वर मन्दिर के सभी मण्डपों का जीर्णोद्धार कराया था।

प्रतापमल्ल - 1198-1222 ई.रतनदेव द्वितीय के पश्चात शासक हुआ था। उसके तीन ताम्रपत्र पेंण्ड्राबंध कोनारी एवं बिलाईगढ़ नामक स्थानों से क्रमशः 1213, 1216 एवं 1217 ई. {सम्वत 965, 968 एवं 969 } के प्राप्त हुए हैं। इसके ताँबे के चक्राकार एवं षटकोणाकार सिक्के प्राप्त हुए हैं , जिसमें सिंह और कटार की आकृति मिलती हैं।

इसी शासन काल में जसराज अथवा यशोराज नामक एक कलचुरियों का सामन्त हुआ था। इसका उल्लेख बोरिया मूर्तिलेख कवर्धा के निकट कलचुरी सम्वत 910 तथा सहसपुर के सहस्रबाहु प्रतिमा लेख कलचुरी सम्वत 934 में मिलता है। इस प्रकार इसका काल 1158 से 1182 ई. ज्ञात है।

वाहरेंद्र अथवा बाहरसाय - 1480-1525 ई. इसका एक। अभिलेख रतनपुर के विक्रम सम्वत 1552 {1495-96 ई.} तथा दो शिलालेख कोसंगई से प्राप्त हुए हैं ,इनमें से एक विक्रम सम्वत 1570 अर्थात 1513 ई. का है तथा दूसरा तिथीहीन हैं।

वाहरेंद्र रतनदेव का पुत्र था। वाहरेंद्र के काल में राजधानी रतनपुर से कोसंगा { कोसंगईगढ़ वर्तमान छुरी } स्थानांतरित कर दी गी थी। इसके शासनकाल में पठानों का आक्रमण हुआ था तथा इसने उन्हें सोन नदी तक खदेड़ दिया था। सिंघण के पूर्ववर्ती एक शासक लक्षमिदेव का उल्लेख रायपुर के ब्रम्हदेव के अभिलेखों से मिलता है। वाहरेंद्र का शासनकाल 1480-1525 ई. तक माना जाता है।

कल्याण साय - कल्याण साय मुगल सम्राट अकबर का समकालीन शासक था तथा उसके दरबार में लगभग आठ वर्ष रहा था। इसके समय राज्य की आर्थिक स्थिति अच्छी थी। इस समय सम्पूर्ण राज्य से होने वाली वार्षिक आय ₹ 6.50 लाख थी। उसका शासन 1581 ई. तक चलता रहा और इस समय तक रतनपुर का कलचुरी राज्य अपनी प्रौढ़ता को प्राप्त कर चुका था। बाद के शासकों का शासन उल्लेखनीय नहीं रहा और यह क्रमशः क्षीणता की ओर अग्रसर होने लगा था। 

इस प्रकार कलचुरी वंश का शासन काल बस यही तक मालूम है अगर आपको इस बारे में कुछ पता हो तो शेयर जरूर करें। 

Related Posts Related Posts
Subscribe Our Newsletter