छत्तीसगढ़ का भूगोल,जनसंख्या, मैदान,पहाड़, क्षेत्रफल, संसाधन एवं पड़ोसी राज्य


भूगोल हमरे चारो और वद्यमान है आप जहा भी देखो वह वस्तु भूगोल का अध्ययन के अंतर्गत आता है चाहे वह पहाड़ हो या नदी समुद्र या मनुष्य। यदि आप भूगोल को अच्छे से समझना चाहते है तो आपको भूगोल क्या है पोस्ट लिखा है उसे भी आप पढ़ कटे है। चलिए छत्तीसगढ़ का भूगोल और संसाधन के बारे में जानते है।

पहले आपकोमई आपको भूल क्या है समझा देता हूँ - भूगोल विज्ञान की वह शाखा है जिसमें पृथ्वी की विभिन्न भौतिक परिवर्तनों का अध्ययन किया जाता है।

छत्तीसगढ़ का क्षेत्रफल कितना है

छत्तीसगढ़ के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल की बात करे तो यह 1,35,194 वर्ग किमी में फैला हुआ है। इसकी लंबाई उत्तर से दक्षिण की तरफ 700 कि मी है, तथा चौड़ाई की बात की जाये तो पूर्व से पश्चिम की ओर इसकी चौड़ाई 435 किमी है। इसका विस्तार उत्तर में उत्तरप्रदेश और दक्षिण में तेलांगना तक फैला हुआ है। यह पर जंगल और नदियों की बहुलता है इसी कारण यहाँ धान की खेती की जाती है।

छत्तीसगढ़ की जनसंख्या 

यहाँ की जनसंख्या को देखा जाये तो इसकी जनसंख्या 2,55,40,196 है वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार और भारत की कुल जनसंख्या का 2.11 % है। अभी तो और बड़ गया होगा। जनसंख्या की दृष्टि से इसका देश में 16 वाँ स्थान है। यहाँ की अधिकतर जनसँख्या खेती पर निर्भर करती है। और आधी से अधिक आबादी गांव में निवास करती है। खेती के अलावा लोग पशुपालन और मजदूरी करते है।

छत्तीसगढ़ के पड़ोसी राज्य

छत्तीसगढ़ के आस-पास राज्यों में उत्तर में उत्तरप्रदेश , उत्तर-पूर्वी सीमा में  झारखण्ड से घिरा है तथा दक्षिण-पूर्व में ओडिशा राज्य स्थित है। दक्षिण में आंध्र प्रदेश और तेलंगाना है  दक्षिण-पश्चिम भाग में महारष्ट्र तथा उत्तर-पश्चिम भाग में मध्य प्रदेश स्थित है। इस प्रकार छत्तीसगढ़ कुल 7 राज्यों से घिरा हुआ है। आप इसको भारत के नक्शे को देख कर भी जान सकते हैं। तथा इसका क्षेत्रफल के हिसाब से भारत में भारत के कुल क्षेत्रफल का 4.11% है।

छत्तीसगढ़ की प्रमुख पहाड़ और क्षेत्र 

छत्तीसगढ़ में कई पहाड़ो की शृंखला है जिसमे से चांगभखार की पहाड़िया कोरिया सरगुजाहुर जसपुर में फैला हुआ है इन्ही पहाड़ो से हसदो नदी का उद्गम होता है। इनके लावावा मैकाल पर्वत, बैलाडीला और अबुझमाड की पहाड़िया छत्तीसगढ़ पर विधमान है। छत्तीसगढ़ में कई पहाड़ियों की श्रृंखला है जिसमे कई बड़े और छोटे पहाड़ी आते है।छत्तीसगढ़ में अधिकतर पहाड़ उत्तर भाग में है। निचे कुछ मुख्य पहाड़ियों का लीस्ट दिया गया है -

  1. रावघाट: विस्तार - कांकेर,
  2. अरिडोंगरी की पहाड़ी: विस्तार - कांकेर
  3. दल्लीराजहरा, डांडिलोहरा: विस्तार - बालोद
  4. मैकल पर्वत श्रेणी: विस्तार - राजनांदगांव, 
  5. अबूझमाड़ की पहाड़ियाँ: विस्तार - नारायणपुर
  6. बैलाडीला: विस्तार - दंतेवाड़ा

छत्तीसगढ़ का मैदान 

छत्तीसगढ़ में महानदी एक प्रमुख नदिया है जो कई किलोमीटर में उपजाऊ मिटटी को बहाकर मैदान का निर्माण करती है जो 80 किलोमीटर चौड़ा और 320 किलोमीटर लम्बा मैदान है जो समुद्र तल से 300 मिटर ऊचा है। यह क्षेत्र रायपुर, बिलासपुर और दुर्ग संभाग में आता है इसके अलावा उड़ीसा में भी इस मैदान का भाग है। छत्तीसगढ़ के मैदानी भाग में धान की अधिक खेती होती है जिस कारण छत्तीसगढ़ को धान का कटोरा कहा जाता है। इस क्षेत्र को महानदी का बेसिन भी कहा जाता है।  
  1. इस राज्य का क्षेत्रफल पूरे भारत के राज्यों में से 16 राज्यों से अधिक है। छत्तीसगढ़ का क्षेत्रफल पंजाब, हरियाणा एवं केरल इन तीनों राज्यों के योग से अधिक है।  

  2. छत्तीसगढ़ का बस्तर संभाग का क्षेत्रफल केरल के क्षेत्रफल से अधिक है। बस्तर सम्भाग का विस्तार 39,114 वर्ग किमी है।

  3. इसके भौगोलिक विस्तार में कई असमानताएं हैं जैसे की उत्तर-पूर्वी भाग अर्थात कोरिया , सरगुजा तथा जशपुर जिलों पर्वतमालाओं एवं पठारों का विस्तार है। मैकाल पर्वत श्रेणी कवर्धा जिले में दक्षिण-पूर्व तक फैला हुआ है।

  4. रायपुर जिला महानदी के ऊपरी कछार और पूर्वी सीमा पर पहाड़ी मैदान में विभक्त है

  5. दुर्ग एवं राजनांदगाँव छत्तीसगढ़ के मैदान और मैकाल श्रेणी में बटा है।

  6. बस्तर का अधिकांश भाग पठारी है। जिसकी समुद्रतल से औसत ऊंचाई 600 मी है।

  7. पूर्वी भाग में सक्ती पर्वत लगभग महानदी कछार तक फैला है। रायगढ़ जिला छोटानागपुर का पश्चिमी छोर है।

 इस प्रकार छत्तीसगढ़ की माटी दूर-दूर तक इन हवाओं में फैली हुई है। आओ कुछ और महत्वपूर्ण बाते जानते हैं जो की आपके सामने इस प्रकार से प्रस्तुत है -

नोट - नदियों , पठार, वन, पर्वतमाला व मैदानी क्षेत्र के बारे में कुछ जानकारियाँ
  1. छत्तीसगढ़ के मैदान को छत्तीसगढ़ बेसिन या महानदी बेसिन भी कहते हैं, जिसकी समुद्र तल से ऊंचाई 300 मी है। इसके मैदान को ' धान का कटोरा ' नाम से भी जाना जाता है। छत्तीसगढ़ का मैदान मुख्य रूप से लाल-पीली मिट्टी का प्रदेश है। यहाँ कृषि भूमि की अधिकता है तथा आर्द्र व शुष्क पर्णपाती वनों का बाहुल्य है।
  2.  छत्तीसगढ़ के मैदान की प्रमुख नदी महानदी है। शिवनाथ, हसदो, खारून, माण्ड, पैरी, जोक, सुरंगी व अरपा इसकी प्रमुख सहायक नदियाँ हैं, जिनका प्रवाह क्षेत्र छत्तीसगढ़ के मैदान से होता है।
  3.  बघेलखण्ड का पठार प्राचीनतम भू-खण्डों में से एक है। यह खनिज संसाधनों यथा कोयला , बॉक्साइट तथा चुना पत्थर से धनी है।
  4.  बघेलखण्ड का पठार गंगा तथा महानदी का जल विभाजक है। इसके अतिरिक्त सोन, रेणुका, कन्हार आदि नदियाँ महत्वपूर्ण हैं।
  5.  बघेलखण्ड के पठार की प्रमुख चोटियाँ - मिलान, जैम, धनवारसा तथा कैरो है।
  6.  कर्क रेखा बघेलखण्ड के पठार के लगभग मध्य से गुजरती हैं।
  7.  बघेलखण्ड का पठार ऊंचे साल वनों का क्षेत्र है।
  8.  हसदो रामपुर बेसिन में अनेक श्रृंखलाबद्ध जलप्रपात देखने को मिलते हैं।
  9.  जशपुर का पाट क्षेत्र क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ी पाट भूमी वाला क्षेत्र है।
  10.  दण्डकारण्य पठार जिसको बस्तर का पठार के नाम से भी जाना जाता है। यहाँ उष्ण आद्र पर्णपाती एवं उष्ण-शुष्क पर्णपाती वन पाए जाते हैं, यहाँ जैव-विविधता पाई जाती है।
  11.  अबूझमाड़ पर्वतमाला पर बैलाडीला की पहाड़ियाँ स्थित हैं,जिसकी मुख्यतः अवस्थिति दन्तेवाड़ा जिले में है।


Related Post

छत्तीसगढ़ के विश्वविद्यालय

छत्तीसगढ़ की नदियाँ और नदी किनारे बसे शहर

छत्तीसगढ़ का भूगोल 

बस्तर में काकतीय राजवंश का शासन का इतिहास

छत्तीसगढ़ मे खनिज संसाधन का वितरण 

छत्तीसगढ़ के बारे में रोचक बातें  

महासमुंद शासकीय महाविद्यालय का संक्षिप्त परिचय  

छत्तीसढ़ के राष्ट्रीय उद्यान 

गाँधी जी का छत्तीसगढ़ में आगमन 

छत्तीसगढ़ की जनजातियां

Popular Posts

File kya hai aur yah kitne prkaar ka hota hai - diesel mechanic

Doha ki paribhasha दोहा किसे कहते हैं । दोहा अर्थ सहित - Hindi Grammar

chhattisgarhi muhavare - छत्तीसगढ़ी मुहावरा उनके अर्थ सहित

पौधों में जल अवशोषण एवं संवहन की क्रिया

Piston kya hai और पिस्टन कितने प्रकार के होते हैं - डिजल मकैनिक