छत्तीसगढ़ की कला एवं संस्कृति
प्रोयगधर्मिता के आधार पर लिखित भरतमुनि नाट्यशास्त्र समूचे विश्व में रंगमंच और रंगकर्म का पहला प्रमाणित ग्रन्थ बना , जिसे ब्यापक संस्कृति मिली , किन्तु उसकी प्रेरणा श्रोत रामगढ़ की नाट्य शाला ही रही है । नाट्य शाला मे पांचवे वेद का विकास और उसी के एक गुफा अभिलेख में काब्यसर्जकों के सम्मान में प्रशस्ति मिलती है I महाकवि कालिदास को भी सम्भवतः नाट्य लेखन की प्रेरणा रामगढ़ की नाट्य शाला से मिली थी I
          छत्तीसगढ़ी रंगकर्म
* अठारहवीं सताब्दी के पूर्वार्ध छत्तीसगढ़ के रंगकर्म के इतिहास के युगांतकारी दौर के रूप में याद किया जायेगा , क्योंकि इस दौर में मराठों के प्रभाव के कारण गम्मत और नाचा आदि की विधाओं का राज्य में विकास हुआ I
* 20 वीं सदि के अंतिम तीन-चार दसक छत्तीसगढ़ रंगकर्म के इतिहास के युगांतकारी दौर के रूप में याद किये जाएंगे I
* इस अवधि में हबीब तनवीर अपने ' नए थियेटर ' के माध्यम से रंगकर्म को एक नए स्वरूप दे रहे थे और उन्ही के कारण छत्तीसगढ़ी  ' नाचा ' को अंतराष्ट्रीय ख्याति मिलीं I
           लोकनाट्य
छत्तीसगढ़ मे लोकनाट्य की परम्परा पुरानी है , यह छत्तिसगढ की सांस्कृतिक आत्मा है I लोकनाट्य में गीत , संगीत और नृत्य होते हैं , जिसे कथा सूत्र में पिरोकर प्रेरणादायी सरस बनाया जाता है I
* छत्तीसगढ़ में विश्व की प्रथम नाट्य शाला होने का गौरव प्राप्त है I सरगुजा जिले के मुख्यालय अम्बिकापुर से 50 किमी दूर रामगढ़ की पहाड़ी पर तीसरी सताब्दी ई. पू.एक नाट्य शाला का निर्माण किया गया था I
           कला एवं संस्कृति
* छत्तीसगढ़ में रंग कला का मर्मज्ञ दाऊ रामचन्द्र देशमुख को माना जाता है I
* उनके दिशानिर्देश में सन 9171 में प्रमुख लोकनाट्य चन्दैनिगोंदा { चन्दैनी के गोंदा } की प्रस्तुति हुई I
* इस नाट्य रचना के बाद में सैकड़ों प्रदर्शन किये गए I
* छत्तीसगढ़ के लोककला के पुजारी दाऊ मसीह सिंह चंद्राकर के सोहना  बिहान व लोरिक चन्दा की प्रस्तुति ने लोकनाट्य का सफलतम इतिहास बनाया I
        छत्तीसगढ़ के लोकनाट्य का वर्णन हम अगले पेज में देखेंगे { धन्यवाद }