ads

इंटेलिजेंस ब्यूरो - IB in Hindi

इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) भारत की खुफिया, आंतरिक सुरक्षा और काउंटर-इंटेलिजेंस एजेंसी है। यह दुनिया का सबसे पुराना खुफिया संगठन है। आईबी के वर्तमान निदेशक अरविंद कुमार हैं। इन्होने राजीव जैन के स्थान पर  26 जून 2019 को अपना पद भार संभाला हैं। 

इंटेलिजेंस ब्यूरो का इतिहास

1885 में, मेजर जनरल चार्ल्स मैकग्रेगर को शिमला में ब्रिटिश भारतीय सेना के लिए जनरल नियुक्त किया गया था और इस तरह खुफिया गतिविधियों की जिम्मेदारी मेजर चार्ल्स मैकग्रेगर को मील गयी। उस समय की मुख्य चिंता अफगानिस्तान में रूसी टुकड़ी की तैनाती की निगरानी करना था। ताकि उत्तर पश्चिम के आक्रमण से बचा जा सके। 

1909 में भारतीय क्रांतिकारी गतिविधियों के जवाब में, Indian Political Intelligence Office की स्थापना की गई थी। इसे 1921 में इंडियन पॉलिटिकल इंटेलिजेंस (IPI) कहा जाने लगा। जो भारत सरकार द्वारा संयुक्त रूप से संचालित निगरानी एजेंसी है। 1947 में भारतीय स्वतंत्रता के बाद, IPI को गृह मंत्रालय के तहत इंटेलिजेंस ब्यूरो के रूप कार्य करता है।

इंटेलिजेंस ब्यूरो के कार्य व जिम्मेदारी

आईबी भारत में  खुफिया जानकारी हासिल करता है और आतंकवाद विरोधी कार्यों को भी अंजाम दिया जाता है। ब्यूरो में कानून संबंधी एजेंसियों के कर्मचारी शामिल होते हैं। जिनमें भारतीय पुलिस सेवा (IPS) या भारतीय राजस्व सेवा (IRS) और भारतीय सेना। 

इंटेलिजेंस ब्यूरो (DIB) के निदेशक हमेशा एक IPS अधिकारी होता हैं। खुफिया जिम्मेदारियों के अलावा, आईबी को विशेष रूप से बॉर्डर क्षेत्रों से संबंधित कार्य सौपा जाता है। जो कि हिम्मत सिंह जी कमेटी (जिसे उत्तर और उत्तर-पूर्व सीमा कमेटी के रूप में जाना जाता है) 1951 की सिफारिशों के बाद, सैन्य खुफिया कार्य को सौंपा गया है। 

1947 में स्वतंत्रता से पहले संगठन। भारत के भीतर और पड़ोस में सभी मानवीय गतिविधियों को इंटेलिजेंस ब्यूरो के कर्तव्यों में आवंटित किया गया है। 1951 से 1968 तक आईबी को अन्य बाहरी खुफिया कार्य को भी सौंपा गया था, जब रिसर्च एंड एनालिसिस विंग का गठन किया गया था।

इंटेलिजेंस ब्यूरो का संचालन

इंटेलिजेंस ब्यूरो ने बहुत सारी सफलताएं प्राप्त की हैं। यह एजेंसी अत्यधिक गोपनीयता कार्य करती है। इसके बारे में आज जनता कोई जानकारी नहीं होती है। इसकी गतिविधियों के बारे में कोई ठोस जानकारी उपलब्ध नहीं है।

1950 के दशक से सोवियत केजीबी द्वारा आईबी को प्रशिक्षित प्रदान किया गया था। आईबी के कार्य को समझना काफी कठिन कार्य है। IB के सदस्यों के परिवार वाले भी उनके कार्य से अनजान होते हैं। 

आईबी अन्य भारतीय खुफिया एजेंसियों और पुलिस के बीच खुफिया सूचनाओं पर भी काम करती है। दुर्लभ अवसरों पर, आईबी के अधिकारी संकट की स्थिति के दौरान मीडिया से बातचीत करते हैं। इसमें एफबीआई की तरह ईमेल जासूसी प्रणाली है। इससे ब्यूरो को बिना वारंट के वायरटैपिंग करने की शक्ति होती है।

आईबी शुरू में भारत की आंतरिक और बाहरी खुफिया एजेंसी थी। कुछ खामियों के कारण इसे 1968 में दो भागों इ बांटा गया। और इसे केवल आंतरिक खुफिया का काम सौंपा गया था। 

पोखरण- II परमाणु परीक्षण से पहले भारतीय परमाणु हथियार परियोजना से संबंधित तैयारियों और गतिविधियों के बारे में जानकारी इकट्ठा करने से सीआईए को रोकने के लिए आईबी ने एक प्रतिवाद कार्यक्रम चलाया। 

आतंकवाद-प्रतिरोध में आईबी को सफलता मिली। 2008 में आईबी आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ करने में सफल रही थी। हैदराबाद विस्फोटों से पहले पुलिस को सतर्क किया और नवंबर 2008 के मुंबई हमलों से पहले संभावित हमले की चेतावनी दी गयी थी। 

गंभीर चूक के कारण 26/11 के हमलों के तुरंत बाद सरकार शीर्ष खुफिया अधिकारियों को बर्खास्त करने के करीब थी। 

2014 के बाद से, आईबी में कई सुधार और बदलाव किए हैं। सबसे बड़े सुधारों में से एक आंतरिक-राजनीतिक जासूसी में शामिल होना था। एजेंसी ने भी अपने बुनियादी ढांचे को बढ़ाया है और अधिक एजेंटों की भर्ती की है। यह भारत में लगातार आतंकी हमलों को रोकने में सफल रहा है।

Related Posts Related Posts
Subscribe Our Newsletter