छत्तीसगढ़ी लोकोक्ति


आप सभी का फिर से ए बार स्वागत है है दोस्तों आज मैं आपके लिए लेकर आया हूँ छत्तीसगढ़ की एक खास पहचान के बारे में जिसे आप लोकोक्ति कहते है दोस्तों आज के इस आधुनिक युग में हर किसी के पास इतना समय नहीं है की वह छत्तीसगढ़ी लोकोक्ति या गीत को पढ़े तो चलिए शुरुवात करते हैं छत्तीसगढ़ी लोकोक्ति से -
छितका कुरिया मा बाग गुर्राए  -  इस छत्तीसगढ़ी लोकोक्ति का अर्थ होता है कोई भी हो वह अपने इलाके में शेर की तरह गुर्राने लगता है।

छिटका पानी बैरी तिर के बास निंदिया तिर के रुखवा एक दिन होए विनास   -    इस पंक्ति का मतलब ये होता है की जिस प्रकार सिर्फ पानी के छीटे सेे तथा नदिया ( नदी ) केे पास लगे वृृृक्ष का एक दिन विनास हो जाता है उसी
प्रकार दुुुुश्मन के नजदीक निवास करने वालेे का भी एक दिन विनास हो जाता है अर्थात बर्बाद हो जाता है। 
अब आपके सामने एक छत्तीसगढ़ी गीत प्रस्तुत है -



मुनगा फूले रे सुहावन , फुले रे लाली परसा अउ फुले तोर मोंगरा।
चन्दा संग संग तारा हो , राम लखन दोनो प्यारा हो।
चन्दा संग संग तारा हो।
मंदारी आगे गांव मां भलवा ल लेके,
डमरू बजाए खेल देखाए ,
जुरीयाए हावय गांव भर के ,,,
मंदारी आगे गांव मे भलवा ल लेके,
जुरीयाए हावे गांव भर के।
हरि हरि गोविंद बोल रे मनवा, हरी हरी गोविंद बोल,  मुरली मनोहर किसन कनहियां अपने हृदय का पट खोल रे मनवा। 

Related Post

छत्तीसगढ़ के विश्वविद्यालय

छत्तीसगढ़ की नदियाँ और नदी किनारे बसे शहर

छत्तीसगढ़ का भूगोल 

बस्तर में काकतीय राजवंश का शासन का इतिहास

छत्तीसगढ़ मे खनिज संसाधन का वितरण 

छत्तीसगढ़ के बारे में रोचक बातें  

महासमुंद शासकीय महाविद्यालय का संक्षिप्त परिचय  

छत्तीसढ़ के राष्ट्रीय उद्यान 

गाँधी जी का छत्तीसगढ़ में आगमन 

छत्तीसगढ़ की जनजातियां

Popular Posts

File kya hai aur yah kitne prkaar ka hota hai - diesel mechanic

Doha ki paribhasha दोहा किसे कहते हैं । दोहा अर्थ सहित - Hindi Grammar

chhattisgarhi muhavare - छत्तीसगढ़ी मुहावरा उनके अर्थ सहित

पौधों में जल अवशोषण एवं संवहन की क्रिया

Piston kya hai और पिस्टन कितने प्रकार के होते हैं - डिजल मकैनिक