Types of Punches Tool Part Two (Marking Tool Punch) in hindi - Diesel Mechanic

 Chapter 3.6

मार्किंग टूल पंच भाग 2 

दोस्तों आपका फिर से एक बार स्वागत है मेरे इस ब्लॉग www.rexgin.in पर मैं आज आपको पंच के प्रकार के बारे में बताने वाला हूँ इससे पहले हमने जाना था पंच के चार प्रकारों के बारे में और पंच क्या है उसको मैं बता चुका हूँ।
आपका ज्यादा समय ना लेते हुए चलिए शुरू करता हूँ पंच के पांचवे प्रकार से 

Types of Punches Tool (Marking tools part two)


(5.) ड्रिफ्ट पंच (Drift Punch) -

          इस प्रकार के पंच का प्रयोग मुख्य रूप से फिनिशिंग के लिए किया जाता है। इस पंच के नोक नुकीली ना होकर फ्लैट होती है और यह विभिन्न आकारों में जैसे- वर्गाकार , आयताकार, गोल या फिर किसी अन्य आकार की भी हो सकती है। इसका प्रयोग पतली चादर में छेद करने के लिए भी किया जाता है।


(6.) बेल पंच (Bell Punch) -

           इस पञ्च का बाहरी आवरण एक घण्टी के समान होता है। इसके ठीक बीच में एक पंच लगा होता है और इस पंच का प्रयोग किसी बेलनाकार वस्तु में पंच करने के लिए किया जाता है। इस प्रकार के पंच स्प्रिंग के द्वारा ऊपर उठे होते हैं। जब भी किसी बेलनाकार वस्तु का केंद्र ज्ञात करना होता है पंच को उस वस्तु के ऊपर लम्बवत टिकाते है और फिर उसे ऊपर से मारते हैं इस प्रकार के चोट करने पर उसके मध्य में एक पंच का निशान बन जाता है और इस प्रकार मार्किंग हो जाता है।


(7.) ऑटोमैटिक पंच (AUTOMATIC PUNCH) -

           इस पंच में पंचिंग के लिए हैंमर से चोट लगाने की आवश्यकता नहीं होती है इसी लिए इसे ऑटोमैटिक पंच कहा जाता है। यह पंच एक खोखली बेलनाकार बॉडी ( BODY ) रखता है, जिसे बाहर से नर्ल किया होता है। इसके ऊपर एक कमानी स्प्रिंग युक्त कैप होती है। इसे भी नर्ल किया गया होता है। इस कैप को नीचे दबाने पर कमानी स्प्रिंग एक हैमरिंग मैकेनिज्म को मुक्त ( RELEASE ) करता है। जो पंच के नीचले प्वाइंट पर केंद्र बनाने के लिए आघात करता है। कैप को घुमाकर ऊपर करने से निशान गहरा आता है तथा घुमाकर नीचे करने से निशान कम गहरा आता है। 


(8.) सॉलिड पंच (SOLID PUNCH) -

           इस पंच का उपयोग किसी शीट या गर्म लोहे के पीस में आर-पार छेद करने के लिए किया जाता है। इसके द्वारा आप एक ही साईज के छेद नहीं कर सकते हैं ये असम्भव है। इसका प्रयोग शीट मेटल शॉप या बलेक्समिथी में किया जाता है। किसी भी जॉब में छेद करते समय उस जॉब के नीचे उसी पंच के अनुरूप डाई रखना आवश्यक है।


(9.) हॉलो पंच (HOLLOW PUNCH) -

        इस प्रकार के पंच अंदर से खोखले होते हैं और मुलायम वस्तुओं को छेद करने के काम में आते हैं। इसके प्वाइंट के परिधी को चारों ओर से ग्राउंड करके धारदार बना दिया जाता है। इसका प्रयोग चमड़े की शीट , रबड की शीट, लैदराइट या गत्ता आदि में सुराख करने के लिए प्रयोग किया जाता है। बाजार में यह कई साइजों में मिलता है। इसका प्रयोग आप मार्किंग के साथ-साथ कटिंग में भी कर सकते है।
  साथियों आज के लिए बस इतना ही।


In the Next Post हम जानने वाले हैं मार्किंग टूल्स के अन्य प्रकारों के बारे में जिसे आप यहीं से पढ़ सकते हैं पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक करें -


  1.  डिवाइडर
  2.  ट्राई स्क्वायर
  3.  'V' ब्लॉक
  4.  सरफेस प्लेट
  5.  एंगिल प्लेट
<Go to Previous                      Go to Next>

Related Posts

Subscribe Our Newsletter